हाथ और पैर में झुनझुनी क्या है? What is Tingling in Hands and Feet in Hindi

Dr Foram Bhuta

Dr Foram Bhuta

BDS (Bachelor of Dental Surgery), 10 years of experience

अक्टूबर 22, 2020 Bone Health 47211 Views

English हिन्दी Bengali العربية

हाथ पैरों में झुनझुनी का मतलब हिंदी में (Tingling in Hands and Feet Meaning in Hindi)

हाथों और पैरों में झुनझुनी एक असामान्य स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति के हाथों और पैरों में चुभन महसूस की जा सकती है। आमतौर पर झुनझुनी किसी बड़ी बीमारी का लक्षण नहीं होती है। कई बार एक ही जगह पर लंबे समय तक बैठे रहने से भी हाथ या पैर में झुनझुनी हो सकती है। झुनझुनी होने पर हाथ-पैर हिलाना मुश्किल हो जाता है। यह झुनझुनी सनसनी आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाती है और इसे गंभीर स्थिति नहीं माना जाता है। यह झुनझुनी सनसनी व्यक्ति की गतिविधियों को प्रभावित कर सकती है। झुनझुनी होने पर किसी को चुभने और जलन का अहसास हो सकता है। झुनझुनी के कारण व्यक्ति कमजोर महसूस कर सकता है। इसके अलावा शरीर में किसी तरह की अंदरूनी चोट भी झुनझुनी का कारण बन सकती है। अत्यधिक झुनझुनी होना स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है। कुछ घरेलू नुस्खों की मदद से इस झुनझुनी को ठीक किया जा सकता है। आइए इस लेख में आपको हाथों और पैरों में झुनझुनी के बारे में विस्तार से बताते हैं।

  • हाथ और पैर में झुनझुनी क्या है? (What is Tingling in Hands and Feet in Hindi)
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी के कारण क्या हैं? (What are the causes of Tingling in Hands and Feet in Hindi)
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Tingling in Hands and Feet in Hindi)
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी का निदान कैसे करें? (How to diagnose Tingling in Hands and Feet in Hindi)
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी के लिए उपचार क्या हैं? (What are the treatments for Tingling in Hands and Feet in Hindi)
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Tingling in Hands and Feet in Hindi)

हाथ और पैर में झुनझुनी क्या है? (What is Tingling in Hands and Feet in Hindi)

  • हाथों और पैरों में झुनझुनी एक चुभन सनसनी है जो आमतौर पर कई लोगों में देखी जाती है।
  • झुनझुनी के साथ जलन और चुभन जैसे लक्षण भी अनुभव होते हैं।
  • इससे हाथ-पैर कुछ देर के लिए सुन्न हो सकते हैं। स्तब्ध हो जाना नसों की कमजोरी का एक लक्षण है।

(और पढ़े – कार्पल टनल सिंड्रोम क्या है?)

हाथों और पैरों में झुनझुनी के कारण क्या हैं? (What are the causes of Tingling in Hands and Feet in Hindi)

  • हाथों और पैरों में झुनझुनी होने के कई कारण हो सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप जलन, चुभन, नसों की कमजोरी, सुन्नता आदि जैसी विभिन्न संवेदनाएं होती हैं। इसके अलावा, नसों पर अत्यधिक दबाव के कारण झुनझुनी उत्पन्न हो सकती है। हाथों और पैरों में झुनझुनी के विभिन्न कारण निम्नलिखित हैं। 
  • विटामिन की कमी के कारण शरीर को पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते जिससे नसों में कमजोरी आ जाती है। विटामिन की प्रचुरता के कारण तंत्रिका स्वस्थ रहती है और कमजोर नहीं होती है। इसलिए कोई झुनझुनी नहीं है। खासकर विटामिन बी6 की कमी से हाथ-पैर सुन्न हो जाते हैं।

(और पढ़े – कैल्शियम की कमी क्या है?)

  • अगर किसी व्यक्ति को किडनी की समस्या है तो इसका असर नसों पर पड़ता है। जब किडनी खराब हो जाती है, तो द्रव जमा होने लगता है, जो नसों को प्रभावित करता है और झुनझुनी पैदा करता है।
  • मधुमेह के रोगियों के शरीर में रक्त शर्करा और इंसुलिन की वृद्धि नसों को प्रभावित करती है। इसलिए हाथ-पैर में झुनझुनी होने लगती है। जिन लोगों को डायबिटीज है उन्हें हर महीने अपने शुगर लेवल की जांच करवानी चाहिए।
  • कुछ खास तरह की दवाओं के सेवन से अक्सर लोगों के हाथ पैरों में झुनझुनी की समस्या होती है।
  • गठिया (एक या अधिक जोड़ों की सूजन), सीलिएक रोग (ग्लूटेन की खपत के कारण एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया), ल्यूपस (एक ऑटोइम्यून स्थिति जिसमें शरीर की बीमारी से लड़ने वाली प्रणाली शरीर के अपने ऊतकों और अंगों को प्रभावित करती है) जैसी कुछ बीमारियों के कारण। , और मल्टीपल स्केलेरोसिस (एक ऐसी बीमारी जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली तंत्रिकाओं के सुरक्षात्मक आवरण को खा जाती है) हाथों और पैरों में झुनझुनी होती है।

(और पढ़े – गठिया क्या है और गठिया के लिए घरेलू उपचार क्या है?)

  • संक्रमण या बैक्टीरिया के हमले के कारण झुनझुनी की समस्या हो सकती है, जिसमें कुष्ठ रोग (एक इलाज योग्य संक्रमण रोग जो त्वचा के घावों और तंत्रिका क्षति का कारण बन सकता है), एचआईवी, हेपेटाइटिस सी और बी (यकृत की सूजन की स्थिति), लाइम रोग (ए टिक-जनित जीवाणु संक्रमण), आदि।
  • हाथों और पैरों में झुनझुनी के कुछ अन्य कारणों में गर्भावस्था, अत्यधिक शराब का सेवन, विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आना, हाइपोथायरायडिज्म (जब थायरॉयड ग्रंथि पर्याप्त थायराइड हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है) आदि शामिल हो सकते हैं।

यदि कूल्हे के जोड़ की हड्डी के फ्रैक्चर के कारण पैरों में झुनझुनी होती है, तो रोगी को हिप जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी की सलाह दी जाती है। हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी भारत के विभिन्न शहरों के विभिन्न अस्पतालों में विभिन्न प्रसिद्ध आर्थोपेडिक सर्जनों द्वारा की जाती है।

मुंबई में कुल हिप रिप्लेसमेंट की लागत

बैंगलोर में कुल हिप रिप्लेसमेंट की लागत

दिल्ली में टोटल हिप रिप्लेसमेंट की कीमत

चेन्नई में कुल हिप रिप्लेसमेंट की लागत

 

मुंबई में सर्वश्रेष्ठ हड्डी रोग सर्जन

बैंगलोर में सर्वश्रेष्ठ हड्डी रोग सर्जन

दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ हड्डी रोग सर्जन

चेन्नई में सर्वश्रेष्ठ हड्डी रोग सर्जन

हाथों और पैरों में झुनझुनी के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Tingling in Hands and Feet in Hindi)

हाथों और पैरों में झुनझुनी के दौरान निम्नलिखित लक्षण विकसित हो सकते हैं। 

  • हाथ पैरों में सुन्नपन।
  • जलन और चुभन महसूस होना।
  • प्रभावित क्षेत्र में ठंडक महसूस होना।
  • कमज़ोर महसूस। 
  • काम में सुस्ती। 

अगर कभी-कभी झुनझुनी हो जाती है, तो यह कोई गंभीर समस्या नहीं है। अगर ऐसा रोज हो रहा है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – कोहनी दर्द के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम)

हाथों और पैरों में झुनझुनी का निदान कैसे करें? (How to diagnose Tingling in Hands and Feet in Hindi)

निम्नलिखित नैदानिक परीक्षण हाथों और पैरों में झुनझुनी का कारण निर्धारित करने में उपयोगी हो सकते हैं। 

  • शारीरिक परीक्षण – डॉक्टर रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति की जांच करता है। रोगी के लक्षण और चिकित्सा इतिहास नोट किया जाता है।
  • न्यूरोलॉजिकल परीक्षा – डॉक्टर रोगी की सजगता, मोटर कार्यों और संवेदी कार्यों को देखकर तंत्रिका कार्य की जाँच करता है।
  • रक्त परीक्षण – रक्त परीक्षण रक्त में कुछ रसायनों, हार्मोन और विटामिन के स्तर के मूल्यांकन में मदद करते हैं। यह अंग के कार्य और रक्त कोशिका के स्तर की जाँच करने में भी मदद करता है।
  • इमेजिंग परीक्षण – शरीर के आंतरिक अंगों की स्पष्ट छवियां प्राप्त करने के लिए एक्स-रे, सीटी स्कैन, एमआरआई स्कैन या अल्ट्रासाउंड जैसे कुछ परीक्षण किए जा सकते हैं।
  • इलेक्ट्रोमोग्राफी – यह परीक्षण आपके तंत्रिका कार्य की जाँच करने में मदद करता है।
  • तंत्रिका चालन वेग परीक्षण – यह परीक्षण नसों के कार्य की जांच करने में भी मदद करता है।
  • त्वचा या तंत्रिका बायोप्सी – डॉक्टर त्वचा या तंत्रिका के एक हिस्से को एक्साइज कर सकते हैं और आगे के मूल्यांकन के लिए प्रयोगशाला में भेज सकते हैं।

(और पढ़े – स्लिप्ड डिस्क क्या है?)

हाथों और पैरों में झुनझुनी के लिए उपचार क्या हैं? (What are the treatments for Tingling in Hands and Feet in Hindi)

उपचार हाथों और पैरों में झुनझुनी के कारण पर निर्भर करता है। हाथों और पैरों में झुनझुनी के लिए विभिन्न उपचार विकल्पों में शामिल हो सकते हैं। 

  • एक दवा की खुराक को समायोजित करना जो आप वर्तमान में ले रहे हैं, या वैकल्पिक चिकित्सा पर स्विच कर रहे हैं।
  • विटामिन की कमी के लिए आहार की खुराक की सिफारिश की जा सकती है।
  • मधुमेह को नियंत्रण में रखने के लिए अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करें।
  • गठिया, एक प्रकार का वृक्ष, या संक्रमण जैसी अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों का इलाज करें। 
  • पुटी को हटाने या तंत्रिका के संपीड़न को ठीक करने के लिए सर्जरी की जा सकती है।
  • झुनझुनी से जुड़े दर्द को कम करने के लिए दर्द निवारक दवाओं की सिफारिश की जा सकती है।
  • कुछ जीवनशैली में बदलाव, जैसे अपने पैरों की देखभाल करना, स्वस्थ और संतुलित आहार खाना, नियमित व्यायाम करना और शराब का सेवन सीमित करना झुनझुनी संवेदनाओं को रोक सकता है या उनका इलाज कर सकता है।

(और पढ़े – अस्थि भंग क्या है?)

हाथों और पैरों में झुनझुनी की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Tingling in Hands and Feet in Hindi)

हाथों और पैरों में झुनझुनी की जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं। 

  • विच्छेदन। 
  • पुराना या दीर्घकालिक दर्द। 
  • विकलांगता। 
  • ताकत का नुकसान। 
  • सनसनी का स्थायी नुकसान। 
  • पक्षाघात। 

(और पढ़े – फिजियोथेरेपी क्या है?)

हमें उम्मीद है कि हम इस लेख के माध्यम से हाथ और पैर में झुनझुनी के संबंध में आपके सभी सवालों के जवाब दे पाए हैं।

यदि आप हाथ और पैर में झुनझुनी के बारे में अधिक जानकारी और उपचार प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप किसी अच्छे हड्डी रोग विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम किसी भी तरह से दवा, इलाज की सलाह नहीं देते हैं। केवल एक डॉक्टर ही आपको सबसे अच्छी सलाह और सही उपचार योजना दे सकता है।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox