स्कीजोफ्रेनिया में क्या खाएं । Diet in Schizophrenia in Hindi

Login to Health मई 8, 2021 Brain Diseases 188 Views

हिन्दी

स्कीजोफ्रेनिया का मतलब हिंदी में,    (Schizophrenia Meaning in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया में क्या खाएं

स्कीजोफ्रेनिया एक मानसिक बीमारी है जो बचपन या किशोरावस्था में हो सकता है। इस बीमारी से पीड़ित लोगो को हमेशा डर या भ्र्म बना रहता है की उनको किसी चीज से खतरा है। मानसिक रोगी को पोषक की बहुत जरूरत होती है क्योंकि भरपूर मात्रा में पोषक मिलने से लक्षण में सुधार किया जा सकता है। कई लोगो को पता नहीं होता है की स्कीजोफ्रेनिया से पीड़ित होने पर किस तरह  डाइट करनी चाहिए। यही वजह से लोग अपने बीमारी से निजात नहीं पाते हैं। किसी बीमारी में दवा के साथ आहार में पोषक तत्व शामिल होना जरुरी होता है। चलिए आज के लेख में आपको स्कीजोफ्रेनिया के मरीज को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं साथ ही जीवनशैली के बारे में बतलाया गया हैं। 

  • स्कीजोफ्रेनिया क्या हैं ? (What is Schizophrenia in Hindi)
  • स्कीजोफ्रेनिया में क्या खाएं ? (Foods for Schizophrenia in Hindi)
  • स्कीजोफ्रेनिया में क्या न खाएं ? (Foods Avoid in Schizophrenia in Hindi)
  • स्कीजोफ्रेनिया मरीज की जीवनशैली ? (Lifestyle in Schizophrenia in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया क्या हैं ? (What is Schizophrenia in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया एक तरह की गंभीर मानसिक बीमारी है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के काम पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसके निजी जिंदगी पर प्रभाव पड़ता है। हालांकि इस बीमारी का सटीक इलाज नहीं है लेकिन दवाओं के उपयोग करने की सलाह दी जाती है। दवा के प्रभाव से बीमारी में कुछ हद सुधार कर सकता हैं। वैज्ञानिको द्वारा इस पर शोध किया जा रहा है की स्थायी इलाज मिल सके। यह बीमारी कुछ लोगो में अनुवांशिक हो सकती है या अत्यधिक ड्रग्स के सेवन से शरीर पर स्कीजोफ्रेनिया का प्रभाव पड़ सकता हैं। 

(और पढ़े – मानसिक बीमारी के कारण क्या हैं)

स्कीजोफ्रेनिया में क्या खाएं ? (Foods for Schizophrenia in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया में निम्न चीजों को शामिल नहीं करना चाहिए।

  • एंटीऑक्सीडेंट – स्कीजोफ्रेनिया से पीड़ित मरीज के मस्तिष्क में अधिक मात्रा में ऑक्सीकरण देखा गया है। शरीर के अन्य भाग की तुलना में मस्तिष्क में ऊर्जा की अधिक खपत होती है। ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में एंटीऑक्सीडेंट थेरेपी मददगार साबित होता हैं। दैनिक आहार में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन ई पर्याप्त मात्रा में ले सकते हैं। आवश्यक होने पर चिकिस्तक से पूछ कर सकते हैं। (और पढ़े – सिरदर्द के लिए  घरेलु उपचार)
  • जिंक  कुछ शोध के अनुसार स्कीजोफ्रेनिया के स्तर के बिच एक करीबी रिश्ता हैं। इस पोषक तत्व में सीप, केकड़ा, और झींगा, मछली आदि के माध्यम से ले सकते हैं। शाकाहारी में लोगो मशरूप, पालक, ब्रोकली, जिंक फोर्टीफाइल अनाज से पूरी कर सकते हैं। जिंक सप्लीमेंट के रूप में आसानी से उपलब्ध होता हैं। लेकिन शुरू करने से पहले चिकिस्तक से बात कर सकते हैं। (और पढ़े – जिंक के फायदे और कितनी मात्रा में लेना चाहिए)
  • नियासिन युक्त आहार – कुछ अध्ययन इस तथ्य नियासिन (विटामिन बी 3) स्कीजोफ्रेनिया के रोगी की स्तिथि में सुधार हो सकता हैं। इसके परिणाम देख सकते है। इस बीमारी के दौरान, पोषक तत्व कुछ खाद्य पदार्थ द्वारा लिया जा सकता है। जैसे – अंडे, सब्जी, मुर्गी, मछली आदि आहार में शामिल कर सकते हैं। (और पढ़े – अंडे के फायदे और नुकसान)
  • विटामिन बी 12 एव फोलिक एसिड – स्कीजोफ्रेनिया के रोगी को विटामिन बी 12 की कमी होने से स्तिथि और खराब हो जाते है। लक्षण को कम करने के लिए विटामिन बी 12 को शामिल नहीं करना चाहिए। पोषक तत्व को शामिल करने के लिए मांस, दूध, विटामिन 12 शामिल करना चाहिए। फोलिक एसिड के लिए हरी सब्जियां, लोबिया, मूंगफली, सूरज बीज आदि शामिल कर सकते हैं।  (और पढ़े – मूंगफली के फायदे और नुकसान)
  • फाइबर – फाइबर हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। स्कीजोफ्रेनिया से पीड़ित लोगो के शरीर में फाइबर की अधिक कमी होने लगती है। फाइबर युक्त फलो की बात करे तो अमरुद, सेब, पपीता, नाशपाती, और सब्जियों में मेथी चौलाई, पत्ते, लौकी, को शामिल कर सकते है। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करने से शरीर का कोलेस्ट्रॉल सामान्य रहता है। फाइबर युक्त खाने से हृदय रोग, मोटापा, डायबिटीज का खतरा कम होता है। आपके शरीर को पूरी तरह स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। (और पढ़े – सेब के फायदे और नुकसान)

स्कीजोफ्रेनिया में क्या न खाएं ? (Foods Avoid in Schizophrenia in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया के मरीज को निम्न खाद्य पदार्थो को शामिल नहीं करना चाहिए। 

अगर आपको इन खाद्य पदार्थो से परेशानी होती है तो इनको कम मात्रा में शामिल करना चाहिए। 

  • जैसे – अंडा। 
  • चिकन। 
  • गेहूं। 
  • जौ। 
  • राई। 
  • सोया। 

(और पढ़े – बाजरा के फायदे)

स्कीजोफ्रेनिया मरीज की जीवनशैली ? (Lifestyle in Schizophrenia in Hindi)

स्कीजोफ्रेनिया मरीज को अपने जीवनशैली में निम्न बदलाव कर सकते हैं। 

  • रोजाना सुबह जल्दी उठना चाहिए। 
  • रात को जल्दी सोना चाहिए। 
  • सुबह थोड़ा व्यायाम और योगा करना चाहिए। 

 (और पढ़े – सुबह व्यायाम करने के फायदे)

हमें आशा है की आपके प्रश्न स्कीजोफ्रेनिया में क्या खाएं ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको स्कीजोफ्रेनिया के बारे में अधिक जानकारी व इलाज के लिए (Psychiatrist) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Psychiatrist in Delhi 

Best Psychiatrist in Mumbai

Best Psychiatrist in Chennai

Best Psychiatrist in Bangalore