थायराइड कैंसर क्या हैं । Thyroid Cancer in Hindi

Login to Health अप्रैल 5, 2021 Cancer Hub 13 Views

English हिन्दी

थायराइड कैंसर का मतलब हिंदी में,  (Thyroid Cancer Meaning in Hindi)

थायराइड कैंसर क्या हैं ?

थायराइड एक छोटे तितली के आकार की ग्रंथि होती है जो आपके गर्दन के निचले हिस्से में पाया जाता है। यह एक ऐसी ग्रंथि है जो चयापचय को नियंत्रित करती है। इसके अलावा हार्मोन उत्पन्न करने का कार्य करता है और शरीर के कई कार्यो में मदद करता है जैसे दिल की गतिविधि, ऊर्जा का उपयोग, रक्तचाप, गर्मी पैदा करना व ऑक्सीजन का उपभोग, वजन नियंत्रित करना आदि। आपको बता दे, थायराइड कैंसर तब विकसित होता है जब कोशिकाएं बदलती हैं या उत्परिवर्तित होती हैं। थायरॉइड में असामान्य कोशिकाएँ बढ़ना शुरू हो जाती हैं और, उनमें से पर्याप्त मात्रा में हो जाने के बाद, ये ट्यूमर का निर्माण कर बनाती है। यदि निदान में  थायरॉइड कैंसर का पता चलता है तो चिकिस्तक सटीक उपचार करते है। थायरॉइड कैंसर का इलाज करना संभव है इसलिए थायरॉइड कैंसर के संकेत व लक्षण नजर आने पर उपचार करवाना चाहिए। चलिए आज के लेख में आपको  थायरॉइड कैंसर के प्रकार, कारण, लक्षण, निदान, उपचार के बारे में बताया गया हैं। 

  • थायराइड कैंसर के प्रकार ? (Types of Thyroid Cancer in Hindi)
  • थायराइड कैंसर के कारण ? (Causes of Thyroid Cancer in Hindi)
  • थायराइड कैंसर के लक्षण ? (Symptoms of Thyroid Cancer in Hindi)
  • थायराइड कैंसर का निदान ? (Diagnoses of Thyroid Cancer in Hindi)
  • थायराइड कैंसर का इलाज ? (Treatments for Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के प्रकार ? (Types of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के मुख्य चार प्रकार है। 

    • पैपिलरी थायराइड कैंसर (Papillary thyroid cancer) यह थायराइड कैंसर का सबसे आम प्रकार है जिसे पैपिलरी थायराइड कैंसर कहते है। यह कूपिक कोशिकाओं से उत्पन्न होता है। थायराइड हार्मोन का उत्पादन करता है हालांकि इस तरह का कैंसर किसी भी उम्र के लोगो को हो सकता है। अधिकतर 30 से अधिक उम्र वाले को प्रभावित करता है।  
    • कूपिक थायराइड कैंसर (Follicular thyroid cancer) यह कैंसर थायरॉइड कूपिक कोशिकाओं से उत्पन्न होता है और 50 साल से अधिक उम्र के लोगो को प्रभावित करता है। 
    • मेडुलरी कैंसर (Medullary cancer) मेडुलरी थायरॉयड कैंसर जो सभी थायरॉयड कोशिकाओं को प्रभावित करता है। लगभग 4 % मेडुलरी कैंसर पाया जाता है यह शुरुवाती चरण में अधिक संभावना होती है। ऐसा इसलिए यह कैल्सीटोनिन नामक एक हार्मोन का उत्पादन करता है, जो चिकिस्तक ब्लड टेस्ट के द्वारा परिणाम को देखते हैं।
    • एनाप्लास्टिक थायरॉयड कैंसर (Anaplastic thyroid cancer) – एनाप्लास्टिक थायरॉयड कैंसर सबसे गंभीर प्रकार हो सकता है, क्योंकि यह शरीर के अन्य भागों में तेजी से फैलता है। यह बहुत दुर्लभ होता है जिसका उपचार करना कठिन हो जाता हैं। (और पढ़े – थायराइड सर्जरी क्यों किया जाता हैं)

 

थायराइड कैंसर के कारण ? (Causes of Thyroid Cancer in Hindi)

वैज्ञानिक के अनुसार  थायराइड कैंसर का कोई स्पष्ट कारण का पता नहीं चल पाया है। हालांकि थायराइड कैंसर तब होता है जब आपके थायरॉयड में कोशिकाएं आनुवंशिक परिवर्तन होने से होती है। इसके अलावा उत्परिवर्तन कोशिकाओं को बढ़ने और तेजी से फैलते है। यह कोशिकाएं मरने की क्षमता भी खो देती हैं, जैसा कि सामान्य कोशिकाएं करती हैं। संचित असामान्य थायरॉयड कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं। असामान्य कोशिकाएं पास के ऊतक पर आक्रमण कर सकती हैं और शरीर के अन्य भागों में फैल सकती हैं। (और पढ़े – थायराइड का इलाज क्या हैं)

थायराइड कैंसर के लक्षण ? (Symptoms of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के निम्नलिखित लक्षण हो सकते है। 

  • सांस लेने में कठिनाई होना। 
  • निगलने में कठिनाई होना। 
  • गला बैठ जाना। 
  • गर्दन में सूजन होना। 
  • गर्दन में गांठ होना। 
  • गर्दन के सामने वाले हिस्से में दर्द होना। 
  • ठंड होने से खांसी आना।  (और पढे – खांसी आने पर क्या खाना चाहिए)

थायराइड कैंसर शुरुवाती होने पर कोई संकेत नजर नहीं आते है लेकिन ऊपर बताए गए लक्षण का अनुभव होता है तो चिकिस्तक से संपर्क करना चाहिए। 

थायराइड कैंसर का निदान ? (Diagnoses of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर का निदान करने के लिए चिकिस्तक पहले शारीरिक परीक्षण करेंगे जिसमे मरीज के स्वास्थ्य की स्तिथि, पारिवारिक बीमारी इतिहास व थायराइड के बारे में पूछते है। इसके अलावा थायराइड कैंसर का पता लगाने के लिए अन्य जांच की सलाह देता है। इनमे जांच में शामिल है। 

  • ब्लड टेस्ट। 
  • थायराइड फक्शन टेस्ट। 
  • थायराइड का अल्ट्रासाउंड। 
  • थायराइड का स्कैन। 
  • ब्लड में फास्फोरस की जांच। 
  • थायराइड बायोप्सी। 
  • लैरिंगोस्कोपी। 
  • थायरोग्लोबुलीन टेस्ट। 
  • इमेजिंग टेस्ट यानि सिटी स्कैन, एमआरआई स्कैन। 
  • जेनेटिक टेस्ट। (और पढ़े – कोलोंस्कोपी टेस्ट क्यों किया जाता हैं)

थायराइड कैंसर का इलाज ? (Treatments for Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर का इलाज थायराइड कैंसर के प्रकार, चरण व मरीज की परिस्तिथि के आधार पर किया जाता है। अधिकतर थायराइड कैंसर का इलाज करने पर ठीक हो जाता है। 

  • थायराइड कैंसर का इलाज मुख्य तौर पर सर्जरी के माध्यम से की जाती है। इसमें मरीज के थायरॉइड ग्लैड का कोई हिस्सा या पूरा ग्लैंड सर्जरी के जरिए निकाल देते है। हालांकि कैंसर के एक गांठ या कोशिका होने पर पहले हटा दिया जाता है ताकि कैंसर का फैलाव न हो पाएं। 
  • सर्जरी के बाद थायराइड के बचें हुए ऊतक को रेडियो एक्टिव आयोडीन के माध्यम से नष्ट किया जाता है। इसके अलावा जिन लोगो का सर्जरी में पूरा थायरॉइड ग्लैड निकाल दिया गया है हो उनको जीवन काल तक हार्मोन की दवा का सेवन करने की सलाह देते है। यह दवा शरीर में हार्मोन उत्पन्न करने का कार्य करती है और हाइपोथायराएडिज्म के जोखिम को रोकती है। (और पढ़े – हाइपोथायराएडिज्म का इलाज क्या हैं)

हमें आशा है की आपके प्रश्न थायराइड कैंसर क्या हैं ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको थायराइड कैंसर की समस्या हो रही है तो किसी अच्छे (Oncologist) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Oncologist in Delhi

Best Oncologist in Mumbai

Best Oncologist in Chennai

Best Oncologist in Bangalore