दिल का दौरा। Heart Attack in Hindi

Dr Priya Sharma

Dr Priya Sharma

BDS (Bachelor of Dental Surgery), 6 years of experience

अप्रैल 18, 2019 Heart Diseases 10567 Views

English हिन्दी Bengali العربية

हार्ट अटैक का मतलब हिंदी में (Heart Attack Meaning in Hindi)

ऐसी स्थिति जिसमें हृदय में रक्त का प्रवाह अचानक अवरुद्ध हो जाता है, दिल का दौरा या रोधगलन के रूप में जाना जाता है। दिल का दौरा दिल की मांसपेशियों को स्थायी नुकसान पहुंचा सकता है। शरीर में सभी कोशिकाओं और अंगों के विशिष्ट कार्य होते हैं। हृदय हमारे शरीर का मुख्य अंग है; इसलिए इसे स्वस्थ रखना जरूरी है। यह पूरे शरीर में ऑक्सीजन युक्त रक्त को पंप करने का कार्य करता है। यदि हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियां संकुचित या अवरुद्ध हो जाती हैं, तो इसका परिणाम दिल का दौरा पड़ सकता है। अकेले भारत में हर 35 सेकेंड में एक व्यक्ति की मौत दिल का दौरा पड़ने से होती है। पिछले एक साल में कई लोग हार्ट अटैक का शिकार हो चुके हैं। आइए आज के लेख में आपको हार्ट अटैक के बारे में विस्तार से बताते हैं।

  • ह्रदयाघात क्या है? (What is a Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक के कारण क्या हैं? (What are the causes of Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक के जोखिम कारक क्या हैं? (What are the risk factors of Heart attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक का निदान कैसे करें? (How to diagnose a Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक के उपचार क्या हैं? (What are the treatments for Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Heart Attack in Hindi)
  • हार्ट अटैक को कैसे रोकें? (How to prevent Heart Attack in Hindi)

ह्रदयाघात क्या है? (What is a Heart Attack in Hindi)

दिल का दौरा दिल की बीमारी है। यह हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों में रुकावट के कारण होता है। रक्त की आपूर्ति में कमी के कारण, हृदय का कुछ हिस्सा काम करना बंद कर देता है, जिसके परिणामस्वरूप दिल का दौरा पड़ता है। दिल का दौरा एक घातक बीमारी है जिसके परिणामस्वरूप मृत्यु हो सकती है।

हार्ट अटैक के कारण क्या हैं? (What are the causes of Heart Attack in Hindi)

  • कोरोनरी धमनी रोग – इस स्थिति में, एक या अधिक कोरोनरी धमनियों (हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियां) के क्षतिग्रस्त होने के कारण व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • एथेरोस्क्लेरोसिस – रक्त में कोलेस्ट्रॉल और अन्य वसायुक्त पदार्थों का उच्च स्तर एथेरोस्क्लेरोसिस नामक पट्टिका के निर्माण से धमनियों को संकीर्ण कर सकता है। इसके परिणामस्वरूप रक्त के थक्के का निर्माण होता है। अगर यह थक्का बड़ा हो जाए तो व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • कोरोनरी धमनी का टूटना – कोरोनरी धमनी के फटने के कारण दिल का दौरा पड़ सकता है। इस स्थिति को सहज कोरोनरी धमनी विच्छेदन (एससीएडी) के रूप में जाना जाता है। एससीएडी से हृदय में रक्त का प्रवाह कम या धीमा हो जाता है जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • कोरोनरी आर्टरी की ऐंठन– यह एक ऐसी स्थिति है जहां हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिकाओं की दीवारों की मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं। यह हृदय की मांसपेशियों को रक्त की आपूर्ति को कम करता है या रोक सकता है, जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है। 

हार्ट अटैक के जोखिम कारक क्या हैं? (What are the risk factors of Heart attack in Hindi)

दिल का दौरा पड़ने वाले कुछ जोखिम कारकों में शामिल हैं। 

  • आयु – 45 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों और 55 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में युवा पुरुषों और महिलाओं की तुलना में दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है।
  • धूम्रपान – धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ सकती है।
  • मधुमेह – जब शरीर द्वारा पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन (अग्न्याशय द्वारा स्रावित एक हार्मोन) का उत्पादन नहीं होता है या शरीर इंसुलिन के लिए अच्छी तरह से प्रतिक्रिया नहीं करता है, तो इससे शरीर के रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि होती है, जिससे जोखिम बढ़ जाता है। दिल का दौरा पड़ने से। (और जानें- मधुमेह क्या है? मधुमेह के प्रकार क्या हैं?)
  • उच्च रक्तचाप: उच्च रक्तचाप हृदय की ओर जाने वाली धमनियों को नुकसान पहुंचा सकता है जिसके परिणामस्वरूप दिल का दौरा पड़ सकता है। (और पढ़े – हाई ब्लड प्रेशर क्या है?)
  • उच्च ट्राइग्लिसराइड या रक्त कोलेस्ट्रॉल का स्तर – कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल या खराब कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर धमनियों के संकुचन का कारण बनता है जिससे दिल का दौरा पड़ता है। ट्राइग्लिसराइड्स का एक उच्च स्तर (एक प्रकार का रक्त वसा जो आहार से संबंधित होता है) भी दिल के दौरे की संभावना को बढ़ाता है। (और जानें- कोलेस्ट्रॉल क्या है?)
  • मोटापा – मोटापे से दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ जाती है। (इसके बारे में और जानें- बच्चों में मोटापा क्या बढ़ाता है?)
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम – यह एक ऐसी स्थिति है जो तब होती है जब किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप, उच्च रक्त शर्करा और मोटापा होता है। यह सिंड्रोम दिल के दौरे की संभावना को बढ़ाता है।
  • पारिवारिक इतिहास – दिल के दौरे का पारिवारिक इतिहास किसी व्यक्ति में दिल के दौरे के उच्च जोखिम का संकेत देता है।
  • तनाव: उच्च स्तर के तनाव से दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • व्यायाम की कमी – निष्क्रियता से दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • अवैध नशीली दवाओं का उपयोग – कोकीन जैसी दवाओं के उपयोग से कोरोनरी धमनियों में ऐंठन हो सकती है जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है।
  • ऑटोइम्यून रोग– ऑटोइम्यून स्थितियां (जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अपने स्वयं के ऊतकों पर हमला करती है) जैसे ल्यूपस या रुमेटीइड गठिया (शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली जोड़ों और अन्य आंतरिक अंगों पर हमला करती है) दिल के दौरे की संभावना को बढ़ा सकती है।
  • प्रीक्लेम्पसिया का इतिहास – गर्भावस्था के दौरान होने वाली जटिलता को प्रीक्लेम्पसिया कहा जाता है। इस स्थिति से दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

हार्ट अटैक के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Heart Attack in Hindi)

हार्ट अटैक का निदान कैसे करें? (How to diagnose a Heart Attack in Hindi)

  • डॉक्टर पहले रोगी के लक्षणों के आधार पर उसकी शारीरिक जांच करेगा और निदान करने के लिए रोगी की उम्र, स्वास्थ्य, चिकित्सा इतिहास और परिवार के इतिहास को ध्यान में रखेगा।
  • दिल के दौरे के निदान की पुष्टि के लिए निम्नलिखित परीक्षण किए जा सकते हैं। 
  • एक्स-रे, सीटी स्कैन, इकोकार्डियोग्राम – ये हृदय की समस्याओं का निदान करने के लिए हृदय सहित शरीर के आंतरिक अंगों को देखने के लिए किए गए इमेजिंग परीक्षण हैं।
  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफी – यह हृदय में विद्युत गतिविधि को मापने के लिए किया जाता है।
  • रक्त परीक्षण: दिल का दौरा पड़ने की पुष्टि के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है।
  • कार्डिएक कैथीटेराइजेशन – इस पद्धति का उपयोग करके हृदय के अंदर की जांच की जाती है।

हार्ट अटैक के उपचार क्या हैं? (What are the treatments for Heart Attack in Hindi)

हार्ट अटैक का इलाज मरीज के लक्षणों के आधार पर डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया जाता है।

दवाएं – 

  • यदि रोगी के लक्षण हल्के होते हैं, तो डॉक्टर रक्त के थक्कों को रोकने, प्लेटलेट्स को इकट्ठा होने और प्लाक से चिपके रहने, प्लाक को स्थिर करने और इस्किमिया (जब हृदय को पर्याप्त रक्त नहीं मिलता है) की रोकथाम के लिए कुछ दवाएं दे सकते हैं। कुछ आगे।
  • हृदय की मांसपेशियों को हुए नुकसान को कम करने के लिए जितनी जल्दी हो सके दवाएं दी जानी चाहिए।
  • कुछ दवाएं जो दी जा सकती हैं उनमें थ्रोम्बोलाइटिक दवाएं (धमनियों को अवरुद्ध करने वाले थक्कों को तोड़ने के लिए), एस्पिरिन, हेपरिन और अन्य एंटीप्लेटलेट दवाएं शामिल हैं।

पारंपरिक प्रक्रियाएं –

  • यदि रोगी के लक्षण केवल 12 घंटे तक रहते हैं, तो डॉक्टर पीसीआई (पर्क्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन) या कोरोनरी एंजियोप्लास्टी और स्टेंट प्लेसमेंट कर सकता है। यह अवरुद्ध या संकुचित धमनियों को खोलने के लिए किया जाता है।
  • इन प्रक्रियाओं को थ्रोम्बोलाइटिक थेरेपी (थ्रोम्बोलाइटिक दवाएं) के साथ जोड़ा जा सकता है। (और पढ़े – कोरोनरी एंजियोप्लास्टी क्या है?)

कोरोनरी धमनी की बाईपास सर्जरी –

हार्ट अटैक की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Heart Attack in Hindi)

दिल का दौरा पड़ने के बाद कुछ जटिलताएं देखी जा सकती हैं। जटिलताओं में से कुछ हैं। 

  • अतालता – एक ऐसी स्थिति जिसमें दिल की धड़कन अनियमित होती है।
  • डिप्रेशन (और पढ़े – डिप्रेशन क्या है? लक्षण और उपचार)
  • एडिमा – पैरों और टखनों में द्रव जमा होने और सूजन की स्थिति।
  • एनजाइना – हृदय को अपर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति के परिणामस्वरूप सीने में दर्द होता है जिसे एनजाइना कहा जाता है।
  • एन्यूरिज्म – यह एक ऐसी स्थिति है जहां रक्त वाहिका की दीवार का कमजोर हिस्सा ऊपर की ओर बढ़ जाता है और रक्तचाप बढ़ने के कारण बाहर निकल जाता है। यदि यह फट जाए तो इसे घातक माना जाता है, जिससे स्ट्रोक या बड़े पैमाने पर रक्तस्राव और मृत्यु हो जाती है।
  • दिल की विफलता – हृदय रक्त को ठीक से पंप करने में असमर्थ है, जिससे सांस लेने में कठिनाई, थकान और सूजन हो जाती है।
  • मायोकार्डियल टूटना – दिल के दौरे से होने वाली क्षति के कारण दिल के एक हिस्से में आंसू को मायोकार्डियल टूटना कहा जाता है।

हार्ट अटैक को कैसे रोकें? (How to prevent Heart Attack in Hindi)

निम्नलिखित सावधानियां बरतकर दिल के दौरे को रोका जा सकता है। 

  • धूम्रपान छोड़ने। 
  • मछली, पनीर, सोयाबीन, ताजी सब्जियां, संतरा, अनार, अंगूर, जामुन, अखरोट, बादाम, मूंगफली, जैतून का तेल, वनस्पति तेल, कैनोला तेल, गेहूं का आटा, हरी चाय, आदि सहित संतुलित और स्वस्थ आहार लें। (और पढ़े – हृदय रोगियों के लिए आहार योजना क्या है?)
  • तली हुई सब्जियां, तला हुआ मांस, शीतल पेय, अधिक नमक वाला भोजन, मीठी चीजें, सफेद चावल आदि के सेवन से बचें।
  • नियमित व्यायाम।  
  • शराब का सेवन सीमित करना। 
  • स्वस्थ शरीर के वजन का रखरखाव। 
  • तनाव से बचना। 
  • उच्च रक्तचाप, मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर का प्रबंधन। 

हमें उम्मीद है कि हमने इस लेख के माध्यम से हार्ट अटैक के बारे में आपके सभी सवालों का जवाब दे दिया है।

यदि आप हार्ट अटैक और उसके उपचार के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो तुरंत किसी हृदय रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल इस लेख के माध्यम से आपको जानकारी देना है और किसी भी तरह से दवा या उपचार की सिफारिश नहीं करते हैं। केवल एक डॉक्टर ही आपको अच्छी सलाह और सही उपचार योजना दे सकता है।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox