आंखो में जलन होने के कारण, लक्षण, उपचार व बचाव। Burning Eye Causes, Symptoms, Treatments and Prevention in Hindi

Login to Health दिसम्बर 7, 2019 Lifestyle Diseases 1997 Views

Burning Eye Meaning in Hindi

आंखो में जलन होने की समस्या धूल या मिट्टी जाने के कारण होती है। इसके अलावा छोटे बच्चो में संक्रमण होने से भी आंखो में जलन की समस्या होती है। आंखो में जलन होने पर कुछ निम्न लक्षण जैसे: आंखो में पानी आना, आंखो में दर्द होना, खुजली होना, आदि नजर आते है। आंखो की समस्याओं को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि नेत्र चिकिस्तक से संपर्क कर उपचार करवाए। आंखो की अन्य समस्या के बारे में आप जानते है की अधिक लोग पीड़ित रहते है। अक्सर आंखो की सुरक्षा के लिए चश्मे लगाते है। हालांकि आंखो में जलन की अधिक समस्या पर्यावरण वातावरण कवक के कारण होता है। इन समस्या से आंखो में कीचड़ व खुजली होने लगती है। आंखो में जलन की समस्या अधिकतर देखी जा रही है जिसकी रोकथाम के लिए उपचार की आवश्यकता होती है। चलिए इस लेख में आंखो में जलन की समस्या के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे।

  • आंखो में जलन के कारण क्या है ? (What are the Causes of Burning Eye in Hindi)
  • आंखो में जलन के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Burning Eye in Hindi)
  • आंखो में जलन का परीक्षण ? (Diagnosis of Burning Eye in Hindi)
  • आंखो में जलन का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Burning Eye in Hindi)
  • आंखो में जलन होने से बचाव ? (Prevention of Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन के कारण क्या है ? (What are the Causes of Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन अनेको कारणों से हो सकता है।

  • बहुत देर तक टीवी मोबाईल की स्क्रीन देखने से आंखो में जलन होने का कारण बनता है। क्योंकि ज्यादा लाइट आंखो पर पड़ने से दबाव पड़ता है।
  • आंखो में धुल मिट्टी कंकड़ जाने से आंखो लग जाती है इस वजह से आंखो में जलन और दर्द की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके अलावा दूषित पानी में नहाने से पानी आंखो में लगने से जलन की संभावना बढ़ जाती है।
  • आंखो में अक्सर खुजली होने पर जलन भी होने लगता है और यह खुजली आंख के अलावा नाक, कान, अन्य भाग में हो सकता है।
  • कुछ आंखो से जुडी बीमारी आंखो में जलन का कारण बनती है। बैक्टीरिया और वायरस आंखो पर अधिक हमला कर जलन पैदा करती है। कुछ यौन संचरित बीमारी आंखो में जलन का कारण बनती है।

आंखो में जलन के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन होने पर निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते है।

  • लाल या गुलाबी आंख की उपस्थिति।
  • सूजी हुई पलकें।
  • जागने पर आंखों की पलकों और कोनों के चारों ओर पपड़ी।
  • निर्वहन के कारण सुबह आंखें खोलने में कठिनाई।
  • आंख के कोने से पीले या हरे रंग का निर्वहन।
  • गीली आखें।

आंखो में जलन का परीक्षण ? (Diagnosis of Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन का परीक्षण करने से पहले मरीज की आंखो की बीमारी इतिहास जानने का प्रयास करते है ताकि निदान किया सके।

  • चिकिस्तक आपके लक्षण के बारे में पूछते है।
  • संक्रमण और संकेत कैसे हुआ।
  • रक्त प्रवाह के कोई लक्षण।
  • कुछ मामलो में एंटीबायोटिक दवाएं देकर उपचार किया जाता है। इसमें कोई बड़ी जांच की जरूरत नहीं होती है।

आंखो में जलन का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन का उपचार मरीज के कारणों के आधार पर किया जाता है। जिसके लिए कुछ निम्न सुझाव दिए गए है।

  • गर्मियों के मौसम में धुप लगने से आंखो में जलन की समस्या होने लगती है। जिससे बचाव करने के लिए आंखो में चश्मे लगाना चाहिए। इसके अलावा कुछ क्रीम लगाने से आंखो में जलन की समस्या उत्पन्न होती है जिसे पानी से अच्छी तरह धोना चाहिए।
  • आंखो में डालने वाली ड्राप खाने वाली दवाओं से भिन्न होता है इसलिए कुछ ड्राप आंखो में जलन की समस्या उत्पन्न करता है।
  • अगर आपकी आंखो में जलन की अधिक समस्या है तो बिना किसी देरी के डॉक्टर को दिखाना चाहिए। ताकि डॉक्टर आपके लक्षणो के आधार पर कुछ दवाइया या ड्राप लिख सकते है।
  • ठंडे बर्फ से आंखो के ऊपर रखे से आंखे को अच्छा महसूस होता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखे जिस कोल्ड का उपयोग कर रहे है तो वह साफ सुथरी होनी चाहिए।
  • अगर किसी तरह की सफाई करते है वस्तुओ पर जमी धुल से बचाव करे। यह धुल आंखो में जाकर जलन पैदा करती है जिससे व्यक्ति अपनी आंखो को मसलने लगता है और आखें लाल हो जाती है। ऐसी स्थिति में तुरंत थोड़े गर्म पानी से आंखो को धो लेना चाहिए ताकि कोई बड़ी समस्या का जोखिम न रहे।

आंखो में जलन होने से बचाव ? (Prevention of Burning Eye in Hindi)

आंखो में जलन होने से बचाव करने के लिए कुछ निम्न तरीके अपना सकते है।

  • अगर आप कंप्यूटर पर काम करते है, तो आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए।
  • कंप्यूटर पर काम करने समय थोड़ी थोड़े देर में ब्रेक लेना चाहिए।
  • कंप्यूटर को आंखो से थोड़ी 20 से 25 इंच दूरी पर रखे। ताकि आंखे प्रभावित न हो।
  • कंप्यूटर पर काम करते वक्त कुछ-कुछ देरी में दूर की वस्तु को देखना चाहिए।
  • ऐसी लाइट का उपयोग न करे जो आंखो की रौशनी को प्रभावित करता है।
  • आपको कम रोशनी लाइट का उपयोग करे।
  • अगर आंखो में जलन की समस्या होती है तो मोबाईल का उपयोग न करे।
  • आंखो की देखभाल करने के लिए सफाई रखना बेहद जरुरी होता है। ताकि संक्रमण आंखो को नुकसान न पंहुचा सके।
  • आंखो में सूखापन दूर करने के लिए ड्राप का उपयोग कर सकते है।
  • जलती आंखो में लक्षण को कम करने के लिए तेज धुप में चश्मा लगाकर निकले ताकि आंखे जलने से बच सके।
  • अधिक प्रदूषण होने पर बाहर चश्मा लगाकर निकाले।

अगर आप लेंस पहनते है और किसी तरह की समस्या का सामना कर रहे है तो अपने चिकिस्तक से बात करें। अगर आपको आंखो से जुडी किसी प्रकार की समस्या हो रही है, तो ऑप्थेमलोगी (Ophthalmologists) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

16 − six =