जानिए मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) क्या होता है। What is Diabetes in Hindi

Login to Health मई 21, 2019 Lifestyle Diseases 521 Views

Diabetes Meaning in Hindi

हमारे शरीर में गड़बड़ी होने के कारण बहुत सी बीमारिया होती है। उसमे से एक बीमारी डायबिटीज की होती है। डायबिटीज को हिंदी में मधुमेह रोग के नाम से जाना जाता है। डायबिटीज एक ऐसी बीमारी होती है। जो मरीजों का साथ नहीं छोड़ती है। हलाकि कुछ इलाज से हम इसे नियंत्रित जरूर कर सकते है। पहले के ज़माने में यह रोग केवल वयस्क लोगो को होता था। लेकिन आजकल यह रोग किसी को भी हो जा रहा है। इसका मुख्य कारण उनका गलत खान-पान का तरीका है। यदि सही तरह से संतुलित आहार लिया जाये तो डायबिटीज को नियंत्रित रख सकते है। चलिए आज मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त करेंगे।

 

  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) क्या होता है ? (What is Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) कितने प्रकार के होते है ? (What are the Types of Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) के कारण क्या है ? (What are the Causes of Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) का इलाज क्या है ? (What are the Treatments for Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) का घेरलू उपचार क्या है ? (What are the Home Remedies for Diabetes in Hindi)
  • मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) में किस तरह की सावधानी बरतनी चाहिए ? (What precautions to take in Diabetes in Hindi)

 

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) क्या होता है ? (What is Diabetes in Hindi)

मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) एक तरह का ऐसा रोग है। जिसमे रक्त में उपस्थित ग्लूकोज या शुगर का स्तर बढ़ जाता है। भोजन करने से शरीर को ग्लूकोज मिलता है। इस ग्लूकोज को इंसुलिन नामांक हार्मोन्स कोशिकाओं तक पहुंचाने का कार्य करता है। ताकि उन्हें ताकत मिल सके। मधुमेह बीमारी को समझने से पहले इंसुलिन का महत्व समझना होगा। इंसुलिन एक ऐसा हार्मोन्स होता है। जो शरीर में कार्बोहाइड्रेड और वसा के चयापचय को नियंत्रित करता है। इंसुलिन के बिना ग्लूकोज शरीर में प्रवेश नहीं कर सकता है। यह रक्तवाहिकायो में एकत्रित हो जाता है। ऐसे में व्यक्ति वो शक्ति नहीं मिल पाती जो उसे मिलनी चाहिए। इससे व्यक्ति मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) से ग्रस्त हो जाता है।

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) कितने प्रकार के होते है ? (What are the Types of Diabetes in Hindi)

मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) मुख्य तौर पर दो तरह के होते है।

  • टाइप 1 :- ये डायबिटीज अधिकतर छोटे बच्चों या फिर 20 साल से कम उम्र के लड़को में होती है। मधुमेह टाइप 1 में शरीर में इंसुलिन नहीं बनता है।
  • टाइप 2 :- जो लोग पहले से शुगर से पीड़ित होते है। उनमे से अधिकतर लोग मधुमेह टाइप 2 से प्रभावित होते है। मधुमेह टाइप 2 में शरीर में इंसुलिन बनता है। पर यह ठीक से कार्य नहीं करता या शरीर के अनुसार जितनी मात्रा में चाहिए उतनी मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता है।

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) के कारण क्या है ? (What are the Causes of Diabetes in Hindi)

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) के बहुत से कारण हो सकते है।

  • अधिक मात्रा में जंकफूड का सेवन करने से शरीर में कैलोरी व वसा की मात्रा बढ़ जाती है। जिससे शरीर में इंसुलिन में शुगर स्तर बढ़ जाता है।
  • मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) का रोग अनुवांशिक होने कारण भी हो सकता है।
  • शरीर में अधिक मोटापा व वजन बढ़ने के कारण मधुमेह रोग हो सकता है।
  • रोजाना शारीरिक गतिविधिया व्यायाम नहीं करने से मधुमेह हो जाता है।
  • व्यक्ति के अधिक तनाव में रहने के कारण मधुमेह की समस्या हो जाती है।

(और पढ़े – एंजायटी क्या है)

  • व्यक्ति के अधिक मात्रा में धूम्रपान का सेवन करने के कारण मधुमेह का रोग हो जाता है।
  • डॉक्टर की सलाह के बिना गलत दवाइयों के सेवन करने के कारण व्यक्ति को मधुमेह रोग हो सकता है।
  • व्यक्ति के अधिक चाय, कोल्ड्रिंक, मीठी चीजों का सेवन करने से मधुमेह रोग हो जाता है।

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Diabetes in Hindi)

  • अधिक भुख लगना।
  • आंखो की रोशनी कमजोर होना।

(और पढ़े – मोतियबिंद होने का कारण क्या है)

  • थकान व कमजोरी महसूस होना।
  • चोट लगने पर जल्दी ठीक नहीं होना।
  • बार-बार पेशाब आना।
  • त्वचा में संक्रमण होना।
  • त्वचा पर फोड़े-फुंशी निकलना।
  • त्वचा रूखी होना।
  • शरीर का वजन कम होना।
  • बार-बार प्यास लगना।

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) का इलाज क्या है ? (What are the Treatments for Diabetes in Hindi)

  • मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) के इलाज में डॉक्टर मरीजों को शुगर स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए सही खान-पान व शारीरिक गतिविधिया जैसे व्यायाम, योगा करने की सलाह देते है।
  • मधुमेह शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए डॉक्टर पहले मरीज के शुगर स्तर की जांच करते है। यह रक्त शुगर की जांच दो तरीको से की जाती है।
  • पहली रक्त शुगर जांच खाली पेट किया जाता है और दूसरी रक्त शुगर जांच खाना खाने के बाद की जाती है।
  • जांच करने के बाद शुगर स्तर को नियंत्रण रखने के लिए कुछ दवाइयों जैसे: मेटफोर्मिन,की खुराक दी जाती है। यह केवल मधुमेह टाइप २ के मरीजों को दी जाती है।
  • सुल्फीनीरुलियस ये दवाइया इंसुलिन को बनाने में उत्तेजित करती है। शरीर को बेहतर तरीके से इंसुलिन का उपयोग करने में मदद करती है।
  • टाइप 1 और टाइप 2 के मधुमेह के मरीजों को साल में एक बार अपने आंखो की रेटिना, मोतियाबिंद इत्यादि की जांच करवानी चाहिए।

मधुमेह (शुगर, डायबिटीज) का घेरलू उपचार क्या है ? (What are the Home Remedies for Diabetes in Hindi)

  • मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) को नियंत्रण में रखने के लिए काला जामुन का सेवन करना चाहिए। काले जामुन में बहुत तरह एंटीऑक्सीडेंट होते है। जो इंसुलिन बनाने में मदद करते है। जिससे ब्लड शुगर सामान्य स्तर में रहता है।
  • गुड़हल के 8 से 10 पत्ते को पीसकर चटनी बनाले फिर एक ग्लास पानी में मिलाकर रात भर रख दे। सुबह उठकर इसका सेवन करे। गुड़हल के पत्ते मेंअधिक मात्रा में फोलिक एसिड होता है। यह मधुमेह को नियंत्रण रखने में बहुत कारगर सिद्ध होता है।
  • सहजन के पत्ते का रस डायबिटीज में रामबाण की तरह काम करता है। सहजन के पत्ते में प्रचुर मात्रा में एस्कोर्बिक एसिड होता है। जो शुगर स्तर को नियंत्रण व इंसुलिन बढ़ाता है जिससे इम्युनिटी सिस्टम,मजबूत होता है।  
  • मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) से ग्रस्त व्यक्तियों को रोजाना 8 से 10 नीम की पत्तियों को चबा कर खाना चाहिए। नीम में उपस्थित एंटीवायरल शरीर में शुगर स्तर को नियंत्रण रखने में सहायता करता है।

(नीम के और फायदों के लिए और पढ़ेनीम के क्या फायदे है )

मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) में किस तरह की सावधानी बरतनी चाहिए ? (What precautions to take in Diabetes in Hindi)

  • मधुमेह के मरीजों को रोजाना शारीरिक गतिविधिया जैसे व्यायाम, योगा करना चाहिए। योगा में अनुलोम, विलोम, कपालभारती जैसे आसन करना मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है।
  • मधुमेह के मरीजों को हमेशा अपने पैरो को चोट लगने से बचाना चाहिए।
  • मधुमेह के मरीजों को नियमित रूप से ब्लड शुगर लेवल का टेस्ट करवाना चाहिए।
  • अधिक तेल और मसाले वाली चीजों का परहेज करे तथा पौष्टिक आहार सेवन रोजाना करे।

 

अगर आप मधुमेह (शुगर,डायबिटीज) के बारे में जानकारी एव इलाज करवाना चाहते है,तो तुरंत डायबेटोलॉजिस्ट डॉक्टर (Diabetologist) से संपर्क करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − four =