जानिए चकोतरा के फायदे और नुकसान। Benefits and Side-Effects of Grapefruit in Hindi

Login to Health जुलाई 5, 2019 Lifestyle Diseases 389 Views

Grapefruit Meaning in Hindi.

ग्रेपफ्रूट(Grapefruit) जिसे हिंदी में चकोतरा के नाम से जाना जाता है। यह फल नींबू और संतरा के प्रजाति का फल है। संतरे की तुलना में चकोतरा में सिट्रिक एसिड अधिक मात्रा में व शर्करा कम मात्रा में होती है। कच्चे चकोतरा का रंग हरा होता है तथा पकने के बाद हल्का नारंगी व पीला होता है। चकोतरे में नींबू और संतरे के सभी गुण है। यह स्वाद में खट्टा और मीठा होता है। चकोतरा की खेती सबसे पहले भारतीय उपमहाद्वीप पर की गई थी। चकोतरा स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है।

  • चकोतरा क्या है ? (What is Grapefruit in Hindi)
  •  चकोतरा के क्या फायदे है ? (What are the Benefits of Grapefruit in Hindi)
  •  चकोतरा के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Grapefruit in Hindi)

 चकोतरा क्या है ? (What is Grapefruit in Hindi)

चकोतरा एक तरह फल है। चकोतरा में कई तरह के पोषक विटामिन होते है। इसमें खनिज में पौटेशियम, कैल्शियम, शर्करा, फास्फोरस इत्यादि से समृद्ध है। चकोतरा में प्रचुर मात्रा में विटामिन ए और विटामिन सी होता है। जो शरीर की रोगप्रतिरोधक को बढ़ावा देता है।

चकोतरा के क्या फायदे है ? (What are the Benefits of Grapefruit in Hindi)

  • बुखार के लिए :- चकोतरा में प्राकृतिक रूप से किनीन होता है। जो मलेरिया बुखार में बहुत लाभदायक होता है। बुखार से छुटकारा पाने के लिए चकोतरा का नियमित रूप से सेवन करना  चाहिए।
  • गठिया के लिए :- गठिया जैसी समस्याओं के लिए चकोतरा फल बहुत अच्छा माना जाता है। इसमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम होता है। जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद व गठिया रोग को दूर करता है
  • पांचन क्रिया ठीक रखने के लिए :- पांचनक्रिया को ठीक रखने चकोतरा अन्य फलो के मुकाबले हल्का होता है। जो आसानी से पेट में पच जाता है शरीर में पांचन किया को ठीक रखने में मदद करता है। जिससे पेट सम्बंधित अन्य विकार नहीं होता है।
  • बालो के लिए :- बालो को मजबूत व सुंदर बनाने में चकोतरा बहुत उपयोगी होती है। इसमें अधिक मात्रा में विटामिन सी और कई एंटी-ऑक्सीडेंट होते है जो बालो की जड़ो को मजबूत बनाने में मदद करते है।  (और पढ़े -हेयर फॉल क्या है)
  • कैंसर से बचाव :- कैंसर बहुत ही खतरनाक बीमारी होती है। चकोतरा में फ्लेवोनोइड भरपूर होते है। जो संक्रमण से लड़ने में सहायता करता है। कार्सिनोजन को शरीर से बाहर निकालता है। जो कैंसर रोग को पैदा करते है। विटामिन ए और फ्लेवोनोइड कैंसर से शरीर की रोकथाम करने में मदद करते है।
  • नींद को बढ़ावा देना :- नींद पूरी नहीं होना अनिद्रा जैसे समस्या उत्पन्न होती है। इन समस्याओं दूर करने के लिए चकोतरा का रस रोजाना पीना चाहिए। चकोतरा में ट्राईपटफान मौजूद होता है। जो नींद में आराम दिलाता है और अनिद्रा की समस्या को दूर करता है। (और पढ़े – अनिद्रा क्या है और अनिद्रा दूर करने का इलाज क्या है)
  • कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए :- शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बराबर रहना बहुत जरुरी होता है। अधिक कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से हाइ ब्लड प्रेशर की समस्या या किडनी स्टोन की समस्या उत्पन्न हो जाती है। कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने के लिए चकोतरा का सेवन करना चाहिए। इसमें उपस्थित विटामिन और खनिज कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मदद करते है। (और पढ़े – कोलेस्ट्रॉल क्या है और हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने का इलाज क्या है)
  •  थकान दूर करने के लिए :- थकान दूर करने के लिए चकोतरा को एक तरह का उपचार माना जाता है। रोजाना एक ग्लास Grapefruit का रस पीना चाहिए। इसमें उपस्थित विटामिन और नॉनकेटन एक दुर्लभ कम्पाउड होता है। जो शरीर में ऊर्जा की वृद्धि करती है और थकान को दूर करती है।
  •  कब्ज दूर करने के लिए :- कब्ज से पीड़ित लोगो को सुबह खाली पेट चकोतरा का रस पीने से कब्ज की समस्या नियंत्रित हो जाती है। इसके तरल पदार्थ फाइबर को उत्तेजित करते है। जिससे पांचन क्रिया ठीक रहता है कब्ज की समस्या नहीं होती है।
  • आंखो के लिए :- चकोतरा में मौजूद विटामिन सी व बीटा केरोटीन आंखो की रौशनी बढ़ाने में बहुत फायदेमंद होता है। आंखो की रौशनी को अच्छा करने के लिए नियमित रूप से चकोतरा का सेवन जरूर करे। (और पढ़े – मोतियाबिंद आंखो में कैसे होता है )

चकोतरा के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Grapefruit in Hindi)

  • Grapefruit के बहुत सारे फायदों के बारे में आप जान गये होंगे। लेकिन फायदे के साथ-साथ कुछ नुकसान भी होते है।
  •  अगर आप किसी दवाई का सेवन करते है तो ऐसे में चकोतरा का रस हानिकारक होता है। चकोतरा का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ले।
  • जिन व्यक्तियों को चकोतरा से एलर्जी है। उन व्यक्तियों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  •  चकोतरा में कुछ ऐसे रसायन होते है। जो शरीर के अंगो को प्रभावित कर सकते है। इसलिए पर्याप्त मात्रा चकोतरा का सेवन करे।
  • यदि कोई व्यक्ति किसी तरह का अन्य उपचार शुरुवात कर रहा है तो उसे चकोतरा का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले।

अगर आपको Grapefruit का सेवन करने से स्वास्थ्य में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न हो रही है। तो तुरंत इसका सेवन बंद कर दे और अपने नदजीकी जनरल फिजिशियन डॉक्टर (General Physician) से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + eleven =