रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) क्या है। Night blindness in Hindi

Login to Health सितम्बर 12, 2019 Lifestyle Diseases 192 Views

Night blindness Meaning in Hindi.

रतौंधी एक तरह की आंखो बीमारी है। इसमें आंखो के सामने अंधेरा सा छा जाता है। रतौंधी को अंग्रजी में Night blindness के नाम से जाना जाता है। रतौंधी, या निएक्टालोपिया, वह जगह है जहां आंख कम रोशनी की स्थिति में अनुकूल नहीं होती है, जैसे कि रात के समय। रतौंधी अपने आप में एक स्थिति नहीं है बल्कि एक मौजूदा नेत्र विकार का परिणाम है। जब प्रकाश मंद होता है, तो आंख को अनुकूलित करना चाहिए। हालांकि रतौंधी अंधेरा प्रकाश में देखने की किसी व्यक्ति की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है, लेकिन इससे पूर्ण अंधापन नहीं होता है। यह रात में ड्राइविंग करते समय सड़क के संकेत देखने में समस्याएं पैदा कर सकता है। प्रकाश से अंधेरे सेटिंग्स में जाने पर आंख को अनुकूलित करने में सामान्य से अधिक समय लग सकता है। रतौंधी कुछ अंतर्निहितस्थितियों का एक लक्षण है, जिसके कई कारण हो सकते हैं। इस लेख में रतौंधी के लक्षणों, संभावित कारणों और उपचारों पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे।

  • रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) के कारण क्या है ? (What are the Causes of Night blindness in Hindi)
  • रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Night blindness in Hindi)
  • रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Night blindness in Hindi)
  • रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Night blindness in Hindi)

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) के कारण क्या है ? (What are the Causes of Night blindness in Hindi)

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) अनेको कारण से हो सकता है।

  • रेटिनाइट पिगमेंटोसा एक ऐसी स्तिथि होती है। जिसमे देखने की शक्ति बहुत कम हो जाती है। आँखों में अंधापन होने लगता है। इससे रतौंधी की शिकायत होने लगती है।
  • शरीर में विटामिन की कमी होने से आंखो में कमजोरी हो जाती है। इससे आंखो में रतौंधी हो जाती है।
  • मोतियांबिंद होने के कारण रतौंधी की भी समस्या हो जाती है।
  • निकट दृष्टि दोष की समस्या होने कारण भी रतौंधी की समस्या होने लगती है।
  • कुछ अन्य भी कारक भी होते है। जैसे आहार में कमी, बुजुर्ग स्तिथि, अनुवांशिकता इत्यादि हो सकते है।

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Night blindness in Hindi)

रतौंधी के साथ अन्य लक्षण भी हो सकते हैं। इन लक्षणों की प्रकृति अंतर्निहित कारण पर निर्भर करेगी लेकिन इसमें शामिल हो सकते हैं।

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Night blindness in Hindi)

रतौंधी के लिए उपचार कारण के आधार पर अलग-अलग हो सकता है।

  • उपचार में विशिष्ट प्रकार के चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस पहनना शामिल हो सकता है, जो सही दृष्टि का समर्थन करने में मदद कर सकता है।
  • धूप का चश्मा पहनने से आंख को पराबैंगनी प्रकाश से भी बचाया जा सकता है, जिससे आंखों की क्षति हो सकती है।
  • जब कारण विटामिन ए की कमी है, उपचार में आहार में अधिक विटामिन ए को शामिल करना शामिल है। विटामिन ए के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:
  • अंडे, दृढ़ अनाज, पाश्चराइज्ड दूध, नारंगी और पीले रंग की सब्जियां और फल, कॉड लिवर तेल, गहरे रंग की, पत्तेदार हरी सब्जियां आदि है।
  • अधिक गंभीर मामलों में नेत्र शल्य चिकित्सा आवश्यक हो सकती है। उदाहरण के लिए,लसिक एक प्रकार की सर्जरी है जो दृष्टि में सुधार करने के लिए कॉर्निया के आकार को बदलती है। अन्य प्रकार की सर्जरी का उद्देश्य आंख से मोतियाबिंद को हटाना या मोतियाबिंद के उपचार के लिए आंख में दबाव जारी करना हो सकता है।
  • कुछ मामलों में, रतौंधी का इलाज संभव नहीं है। रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा में वर्तमान में कोई प्रभावी उपचार नहीं है, हालांकि कुछ नेत्र उपकरणों और चिकित्सा सेवाओं के लक्षणों और जीवन की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है।
  • रतौंधी के कारण होने वाले कुछ जोखिमों को कम करने के लिए सावधानी बरतने में मदद मिल सकती है। इसका मतलब यह हो सकता है कि रात में ड्राइविंग न करें, या जहां भी संभव हो नेविगेट करने या अंधेरे में घूमने से बचें।

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Night blindness in Hindi)

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) को बढ़ने से रोकने के लिए कुछ निम्न उपाय कर सकते है। अपने आहार में विटामिन ए को अधिक शामिल करना चाहिए।

  • समुद्री खाद्य पदार्थ का भी सेवन कर सकते है। इससे आंखो की रौशनी बढ़ने में मदद मिलती है।
  • सब्जियों में पपीता, शिमला मिर्च, पालक, खरभुजा, पीले-हरे फल का सेवन अधिक करे।
  • आंखो में थोड़ी सी भी समस्या होने पर नेत्र विशेषयज्ञ से संपर्क करना चाहिए।

रतौंधी (नाईट ब्लाइंडनेस) के बारे में अधिक जानकारी एव उपचार करवाने के लिए सबसे अच्छे ओफ्थल्मोलॉजिस्ट (Ophthalmologist) से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − 1 =