हर्पीस संक्रमण किस कारण से फैलता है। How Does Herpes Virus Spread

Login to Health जुलाई 19, 2019 Lifestyle Diseases 129 Views

Herpes Virus Meaning in Hindi.

हर्पिस एक तरह का वायरल संक्रमण है। जो एक दूसरे के संपर्क में आने से त्वचा में तेजी से फैलता है। ये बीमारी मुख्य्तः छोटे बच्चो में अधिक पाया जाता है। बच्चे हमेशा स्कूल में रहते है और एक दूसरे के साथ रहते है उनकी त्वचा एक दूसरे से स्पर्श हो जाती है। यह संक्रमण फैलने लगता है। ऐसा इसलिए होता है यदि छोटे शिशु को टिका नहीं लगवाया हो या बच्चे की इम्युनिटी बहुत कमजोर है। चलिए हर्पीस के बारे में और जानकारी प्राप्त करे।

  • हर्पिस संक्रमण क्या है ? (What is Herpes Virus Meaning in Hindi)
  • हर्पिस संक्रमण फैलने के कारण क्या है ?(What are The Causes of Herpes Virus in Hindi)
  • हर्पिस संक्रमण के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Herpes Virus in Hindi)
  •  हर्पिस संक्रमण का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Herpes Virus in Hindi)
  •  हर्पिस संक्रमण के घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Herpes Virus in Hindi)

हर्पिस संक्रमण क्या है ? (What is Herpes Virus Meaning in Hindi)

हर्पिस एक ऐसी बीमारी है। जो त्वचा पर छोटे छोटे दानो में फैलता है इन दानो में पानी भरा हुआ रहता है जो अधिक पीड़ा देता है। जिससे त्वचा अधिक सवेंदनशील हो जाती है। यह त्वचा पर स्पष्ट रूप से दिखाई देते है। कई शोधो में शोधकर्ता ने बताया है हर्पिस संक्रमण 40 के आयु के बाद अधिक होने की संभावना रहती है और यह अत्यधिक दर्दनाक होता है। यह बीमारी खासतौर पर उनको होती है जो चिकनपॉक्स से ग्रसित हो चूका हो। चिकनपॉक्स के धब्बो में हर्पिस संक्रमण होने की अधिक संभावना रहती है।

हर्पिस संक्रमण फैलने के कारण क्या है ? (What are The Causes of Herpes Virus in Hindi)

  • हर्पिस संक्रमण एक दूसरे के साथ संपर्क में आने के कारण अधिक होता है।
  • यदि हर्पिस संक्रमण से ग्रसित व्यक्ति के इस्तेमाल की गयी चीजों को अगर स्वस्थ व्यक्ति इस्तेमाल करे तो यह संक्रमण उसे भी हो जायेगा।
  • हर्पिस संक्रमण आंखो के माध्यम से अन्य व्यक्तियों में हो सकता है।
  •  संक्रमित व्यक्ति के साथ जननांग संपर्क में आने के कारण फैलता है।
  • मुँह के छालो के साथ मुँख संबंध बनाने से भी यह संक्रमण फैलता है।
  • व्यक्ति को संक्रमण होने के कारण त्वचा पर फकोले निकल आता है।
  • बिना सावधानी के यौन संबंध बनाने के कारण योनी में हर्पिस संक्रमण होने लगता है।

हर्पिस संक्रमण के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Herpes Virus in Hindi)

हर्पिस संक्रमण के लक्षण सभी व्यक्तियों में अलग अलग होता है। सारे लक्षण एक व्यक्ति में नहीं होता है।

हर्पिस संक्रमण का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Herpes Virus in Hindi)

  •  हर्पिस संक्रमण का इलाज डॉक्टर कुछ एंटी-वायरल दवाइयों की खुराक देकर कर सकते है। जिससे व्यक्ति के संक्रमण को कम और त्वचा के घाव को भरा जा सके।
  • संक्रमण को कम करने की एंटी-वारयल दवाइयां जैसे: ऐसाइक्लोवीट,क्लोवीडरम,असिहरपीन आदि है।
  • इस संक्रमण कोई गंभीर इलाज नहीं होता है। यह कुछ समय में ठीक हो जाता है।

 हर्पिस संक्रमण के घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Herpes Virus in Hindi)

  • बेकिंग सोडा का उपयोग कीटनाशक पर किया जाता है। बेकिंग सोडा को पानी में मिलकर रुई से घाव की जगह पर लगाए जिससे दर्द और खुजली कम होगा।
  • आइस पैक यानि बर्फ के टुकड़े को चोट पर सेकते रहे दर्द कम होगा।
  •  जैतून के तेल में एंटीबैक्टीरियल एजेंट एंटीआक्सीडेंट तत्व होता है जो हर्पीस संक्रमण को रोकता है।
  • सेब का सिरका का उपयोग करने से दर्द और जलन कम होगा।
  • मुलेठी की जड़ रामबाण की तरह इलाज करता है। मुलेठी में एंटीबैक्टीरियल एव एंटीआक्सीडेंट गुण होता है। पानी में मुलेठी जड़ का चूर्ण मिलाकर संक्रमित स्थान पर लगाए। (और पढ़े – एंटीऑक्सीडेंट का महत्व)

अगर आपको हर्पिस संक्रमण के बारे अधिक जानकारी व इलाज करवाना हो तो जनरल फिजिशियन डॉक्टर (General Physician Doctor) से तुरंत संपर्क करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + fourteen =