अनिद्रा (नींद) नहीं आने का कारण क्या है ? What are Causes of Insomnia in Hindi.

Login to Health अप्रेल 17, 2019 Lifestyle Diseases 487 Views

Insomnia Meaning in Hindi

अनिद्रा या इंसोम्निया नींद नहीं आने का एक विकार होता है। यह व्यक्ति के अच्छे नींद को खराब कर देता है और व्यक्ति पूरी रात सो नहीं पाता है। एक बार यदि नींद में बाधा आ जाती है फिर दोबारा नींद नहीं आती है। यह अनिद्रा होने के कारण होता है। व्यक्ति अनिद्रा के कारण अपने पुरे दिन के कार्य करने में बहुत थका हुआ महसूस करता है, क्योकि व्यक्ति के भीतर कोई ऊर्जा बची नहीं रहती है। अनिद्रा व्यक्ति को कमजोर बना देती है। आइए Insomnia के बारे में और जानकारी प्राप्त करते है।

  • अनिद्रा क्या है ? (What is Insomnia Meaning in Hindi.)
  • अनिद्रा के कारण क्या है ? (What are The Causes of Insomnia in Hindi.)
  • अनिद्रा के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Insomnia in Hindi.)
  • अनिद्रा का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Insomnia in Hindi.)
  • अनिद्रा से बचाव कैसे करे ? (How to Prevention Insomnia in Hindi.)

अनिद्रा क्या है ? (What is Insomnia Meaning in Hindi)

अनिद्रा एक नींद ना आने की समस्या है जो विश्व में लाखो लोगो को प्रभावित करता है। अनिद्रा से पीड़ित व्यक्ति को नींद आना और सोते रहना मुश्किल हो जाता है। अनिद्रा के बहुत दुष परिणाम हो सकते है। अनिद्रा में व्यक्ति को दिन के समय सुस्ती, नींद, मानसिक व शारीरिक बीमारी बढ़ने का खतरा होता है। अनिद्रा होने से व्यक्ति के स्वभाव में बहुत बदलाव देखने को मिलते है, जैसे चिड़चिड़ापन, चिंता, तनाव आदि होता है।

अनिद्रा के कारण क्या है ? (What are The Causes of Insomnia in Hindi)

अनिद्रा का सबसे पहला कारण तनाव होता है। व्यक्ति के जीवन में बहुत सारी समस्या होती है।  

  • जैसे: परिवार की आर्थिक स्तिथि, छात्रों को पढ़ाई और काम की चिंता,थकावट के कारण सक्रीय हो जाना,स्वास्थ को लेकर परेशान रहना, किसी की मौत का सदमा लगना, तलाक हो जाना, घटना हो जाना इत्यादि तनाव के कारण हो सकते है।
  • अवस्थ नींद की आदते होना जैसे अधिक भोजन करके मोबाइल में व्यस्त रहना ,बिस्तर पर न सोने के बजाय कुर्सी पर सोना,काम के दौरान बिस्तर का इस्तेमाल करना,सोने के पहले उत्तेजना वाले कार्य करना यह सब अनिद्रा पैदा करने का कारण होता है।
  • अगर व्यक्ति को मानसिक समस्या है तो यह अनिद्रा होने का कारण हो सकता है।
  • रक्तचाप, अस्थमा के मरीजों को दवाइयां लेने के कारण अनिद्रा हो सकती है।
  • कार्य और कार्यक्रम के बदलाव के कारण अनिद्रा शुरू हो जाती है जैसे बार बार काम का सिफ्ट बदलना, अलग अलग छेत्र में यात्रा करना,इत्यादि।

अनिद्रा के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Insomnia in Hindi.)

  • रात को सोने में दिक्कत होना।
  • कोई कार्य को लेकर चिंतित रहना।

(और पढ़े – एंजायटी (चिंता) क्या है)

  • एक कार्य पर मस्तिष्क का केंद्रित होना।
  • रातो के दौरान जागते रहना।
  • नींद और थकावट होना।

(और पढ़े – थकावट क्यों होती है और थकावट का इलाज क्या है)

  • बहुत जल्दी उठना।
  • याददाश्त कमजोर होना।

(और पढ़े – माइग्रेन क्या है और माइग्रेन का कारण क्या है)

  • चिड़चिड़ापन होना।
  • मानसिक रूप से सबसे मिलना जुलना बंद कर देना।

अनिद्रा का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Insomnia in Hindi.)

 

  • अनिद्रा के इलाज के लिए पहले डॉक्टर सोने के समय में बदलाव व रोजाना आदतों में बदलाव करने का सुझाव देते है। जिससे नींद पूरी होने में मदद मिल सके।
  • कुछ अनिद्रा के मरीजों के लिए डॉक्टर थेरेपी का उपयोग करते है। यह थेरेपी दो तरह से करते है।
  • संज्ञानात्म्क व्यावहारिक थेरेपी Cognitive Behavioral Therapy. :- यह थेरेपी उन मरीजों को करते है जिनको नींद नहीं आती तनाव,चिंता की समस्या दूर करने लिए करते है।
  • उद्दीपन नियंत्रण थेरेपी Stimulus Control Therapy :- यह थेरेपी उन अनिद्रा के मरीजों के लिए होता है जो बिस्तर का उपयोग कामभोग के लिए करते है और नियमित समय से नींद लेते है उनके आदतों को बदलने के लिए किया जाता है।
  • अनिद्रा के कुछ गंभीर मरीजों के लिए डॉक्टर कुछ नींद की दवाई खुराक लेने की सलाह देते है। जैसे: ज़ोपिक्लोने-लूनेस्ता Eszopiclone Lunesta, रमेल्टॉन-रोज़ेरेम Ramelteon- Rozerem आदि दवाइयों की सलाह देते है।
  • बिना डॉक्टर की सलाह लिए किसी प्रकार की नींद की दवायें ना ले इस बात का विशेष ध्यान रखे।

अनिद्रा से बचाव कैसे करे ? (How to Prevention Insomnia in Hindi.)

  • व्यक्ति को सही समय पर उठना और सोना चाहिए।
  • जब नींद लगे तभी सोने जाना चाहिए।
  • सोने वाले कमरे में लाइट का उपयोग ना करे अंधेरा कर के सोये।
  • अनिद्रा से बचने के लिए सोने से पहले मोबाइल या लैपटॉप का इस्तेमाल ना करे।
  • सोने वाले कमरे को साफ़ रखे और उस कमरे में अधिक सामान ना रखे।
  • साइकॉलजिस्ट की मदद से अनिद्रा से बचा जा सकता है।
  • सोने के दो घंटे पहले हमेशा भोजन करे।
  • व्यक्तियों को कुछ स्तिथि में दवाइयों का सेवन करना होता है इसलिए दवाइयों का सेवन सावधानीपूर्वक करे।
  • धूम्रपान की आदत है तो तुरंत अपनी आदत बदल लीजिये।

 

अगर आप अनिद्रा या (नींद ना आना) Insomnia से परेशान है तो तुरंत न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर (Neurologist) से संपर्क करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + twelve =