जानिए फैटी लिवर क्या होता है ? What is Fatty Liver In Hindi

Login to Health जुलाई 16, 2019 Liver Section 226 Views

Fatty Liver Meaning in Hindi.

लिवर हमारे शरीर का बहुत अहम हिस्सा है। यह शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि और दूसरा बड़ा अंग होता है। लिवर हमारे शरीर में पित्त का निर्माण करता है और शरीर में स्तिथ वसा को तोड़ने का काम करता है। यह रक्त के डिटफिक्सफिकैशन में भी सहायता करता है। लिवर में कुछ फैट सामान्य रूप से होता है। लेकिन फैट की मात्रा कोशिकाओं में अधिक बढ़ने पर लिवर में फैट जमा हो जाता है और इस प्रक्रिया को फैटी लिवर कहते है। फैटी लिवर दो तरह के होते है। एल्कोहल लिवर और नॉन एल्कोहल लिवर है। यह जीवन शैली में परिवर्तन और गलत खान-पान,अधिक शराब पीना, मोटापा के कारण होता है। यह बीमारी पारिवारिक या अनुवांशिक भी हो सकती है। आइये फैटी लिवर के बारे में विस्तार से जाने।

  • फैटी लिवर क्या है ? (What is Fatty Liver in Hindi)
  • फैटी लिवर के कारण क्या है ? (What are The Causes of Fatty Liver in Hindi)
  • फैटी लिवर के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Fatty Liver in Hindi)
  •  फैटी लिवर का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Fatty Liver in Hindi)
  • फैटी लिवर में क्या खाना चाहिए और क्या परहेज करना चाहिए ? (What to Eat and What to Avoid While Suffering Fatty Liver in Hindi)

फैटी लिवर क्या है ? (What is Fatty Liver in Hindi)

फैटी लिवर को हिंदी में गुर्दे की चर्बी कहते है। फैटी लिवर एक तरह की लिवर की बीमारी होती है। लिवर में वसा की मात्रा अधिक होने पर लिवर फैटी हो जाता है। इसके कारण लिवर में खराबी आ जाती है। केवल अधिक तैलीययुक्त पदार्थ से लिवर में फैट नहीं होता है। बल्कि अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने से भी लिवर को बहुत नुकसान पहुंचता है। इस नुकसान के कारण लिवर काम करना बंद कर देता है।

फैटी लिवर के कारण क्या है ? (What are The Causes of Fatty Liver in Hindi)

फैटी लिवर के निम्लिखित कारण है।

  •  शरीर में अधिक मात्रा में विटामिन बी की कमी के कारण फैटी लिवर हो सकता है।
  • अधिक मात्रा में शराब पीने के कारण लिवर फैटी हो जाता है।
  • आहार में अधिक कोलेस्ट्रॉल वाले आहार लेने के कारण लिवर फैटी होता है। (और पढ़े – कोलेस्ट्रॉल क्या है)
  • दूषित मांस का सेवन करने से लिवर फैटी हो सकता है।
  • मिर्च मसालो का अधिक मात्रा में सेवन करने से लिवर फैटी हो जाता है।
  • डॉक्टर की सलाह लिए बिना खुद से अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करने के कारण से लिवर फैटी हो जाता है।
  •  यदि व्यक्ति मलेरिया या टाइफाइड से ग्रस्त है तो उन्हें भी फैटी लिवर की समस्या हो सकती है।
    (और पढ़े – मलेरिया के कारण क्या है)
  • हेपिटिस बी संक्रमण से पीड़ित होने के कारण व्यक्ति को फैटी लिवर की समस्या हो सकती है। (और पढ़े – हेपेटाइटिस बी क्या है)

फैटी लिवर के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Fatty Liver in Hindi)

फैटी लिवर के लक्षण सभी व्यक्तियों में एक जैसी नहीं होती है। फैटी लिवर के अलग अलग लक्षण व्यक्तियों में नजर आते है।

  • पेट में सूजन होना।
  • छाती में भारीपन होना।
  • भुख ना लगना।
  • पेट में अधिक गैस बनना।
  • कमजोरी व आलस होना।

फैटी लिवर का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Fatty Liver in Hindi)

  • फैटी लिवर का इलाज करने के लिए डॉक्टर मरीज को आहारों में परिवर्तन और जीवन शैली में बदलाव करने व रोजाना व्यायाम, योगा करने का सुझाव देते है।
  • शुरुवाती लक्षण नजर आने पर डॉक्टर मरीज को सप्लीमेंट्स, ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, लिपिड लोवेरिंग ड्रग्स जैसी दवाइयों की खुराक देते है। दवाओं का उपयोग लिवर से फैट को हटाने के लिए किया जाता है।
  • लिवर प्रत्यारोपण को अंग्रजी में Liver Transplantation कहा जाता है। व्यक्ति में यदि फैटी लिवर की समस्या अत्यधिक गंभीर हो जाती है, तो डॉक्टर लिवर का प्रत्यारोपण करते है। यह केवल कुछ गंभीर मामलो में ही किया जाता है।
  • शरीर में वसा की मात्रा व मोटापा कम करने के लिए बेरिएट्रिक सर्जरी गैस्ट्रोइंटेस्टिनल डॉक्टर के द्वारा किया जाता है। यह सर्जरी एल्कोलिक और नॉन एल्कोलिक मरीज दोनों का किया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि शरीर में चर्बी या वसा की मात्रा और मोटापा कम हो।

फैटी लिवर में क्या खाना चाहिए और क्या परहेज करना चाहिए ? (What to Eat and What to Avoid While Suffering Fatty Liver in Hindi)

  • फैटी लिवर में क्या खाना चाहिए :- फैटी लिवर में खाना फल और रस सभी ताजा होना चाहिए इस बात पर विशेष ध्यान दे।
  • सब्जियों में, आलू,हरी-सब्जिया,पालक,करेला,कोहड़ा,भिंडी इत्यादि सब्जी का उपयोग उबालकर इसका सेवन करे।
  • फलो में, केवल ताजे फल होना चाहिए जैसे सेब,अंगूर,पपीता,लीची,नाशपाती इत्यादि है।
  • तरल पदार्थ में यानि पानी अधिक पीना चाहिए एव नारियल पानी,एलोवेरा रस,बिना मलाई वाला दूध,मेथी का पानी, ताजे सब्जियों के सुप और ताजे फलो के रस का सेवन कर सकते है।
  • फैटी लिवर में क्या परहेज करना :- शराब,तैलीययुक्त पदार्थ,जंक फ़ूड,पैक सब्जी,पैक फल,अधिक मसाला,रेड मीट,कांटफिस,मिठाईया,केक,अचार,नमकीन ,अधिक मात्रा में नमक का सेवन इत्यादि खाने से बचे।

यदि आपको फैटी लिवर की समस्या है या फैटी लिवर के बारे में और अधिक जानकारी चाहिए तो तुरंत हेपटोलॉजिस्ट डॉक्टर (Hepatologist) से संपर्क करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + fourteen =