ओवुलेशन टेस्ट किट क्या है। Ovulation test Kit in Hindi

Login to Health दिसम्बर 5, 2019 Uncategorized 90 Views

Ovulation test Kit Meaning in Hindi

बहुत सी महिलाएं माँ बनने की कोशिश करती है, किंतु सही समय पता न होने से वह असफल हो जाती है। उन महिलाओं को लगने लगता है उनमे या उनके साथी में कुछ कमी है। हालांकि ऐसा कुछ नहीं होता है क्योंकि महिलाओं को अपने ओवुलेशन का सही समय पता न होने के कारण वह संभोग करने के बाद भी गर्भवती नहीं हो पाती है। बहुत सी महिलाओं को अपने मासिक धर्म की पिछली और आगे की तारिक याद नहीं रहती है, तो उन्हें ओवुलेशन का पता नहीं चल पाता है। महिलाओं के लिए माँ न बन पाना बहुत चिंता व तनाव बढ़ाता है। लेकिन महिलाओं को चिंता व तनाव में होने की जरुरत नहीं क्योंकि प्रेग्नेंसी किट जिस तरह आपको प्रेग्नेंट होने न होने की जानकारी देता है उसी तरह ओवुलेशन किट भी होता है जो आपको ओवुलेशन होने न होने की जानकारी देता है। यह भारत के हर मेडिकल की दुकान पर आसानी से मिल जाता है। इस लेख के माध्यम से हम महिलाओं ओवुलेशन किट के बारे में विस्तार से बतायेंगे की ओवुलेशन किट क्या है, ओवुलेशन किट का उपयोग कैसे करे, ओवुलेशन किट की कीमत, ओवुलेशन किट के नतीजे आदि के बारे में जानकरी दी गई है।

  • ओवुलेशन किट क्या है ? (Ovulation Kit Kya Hai in Hindi)
  • ओवुलेशन किट का उपयोग ? (Ovulation Kit Ka Upyog in Hindi)
  • ओवुलेशन किट के परिणाम ? (Ovulation kit ke Parinam in Hindi)
  • ओवुलेशन किट की कीमत ? (Ovulation Kit Ke Kemat in Hindi)

ओवुलेशन किट क्या है ? (Ovulation Kit Kya Hai in Hindi)

एक ओव्यूलेशन टेस्ट (जिसे कभी-कभी ओपीके भी कहा जाता है, जो ओव्यूलेशन प्रेडिक्टर किट के लिए खड़ा होता है) एक ऐसा परीक्षण है जो आपके मूत्र में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) की उपस्थिति और एकाग्रता का पता लगाता है। जब आपको एक सकारात्मक ओवुलेशन परीक्षण मिलता है, तो इसका मतलब है कि ओव्यूलेशन आसन्न है। (और पढ़े – ओवलूशन दर्द क्या है )

ओवुलेशन किट का उपयोग ? (Ovulation Kit Ka Upyog in Hindi)

  • महिलाएं अपनी ओवुलेशन को जानने के लिए ओवुलेशन किट का उपयोग करती है। यूरिन के माध्यम से ओवुलेशन की जांच करते है अगर टेस्ट किट में रंग गाढ़ा या कम बताता है आपके एलएच में हुई वृद्धि हुई या नहीं।
  • आजकल डिजिटल उपकरण आ गया है जिससे महिलाओं को अपना ओवुलेशन आसानी से पता चल जाता है। जिससे वो गर्भधारण करने में सफल हो रही है।
  • अगर आप किसो भी तरह के किट का उपयोग कर रही है, तो सबसे पहले किट के साथ दिए गए निर्देशों को सही से पढ़े। इसके बाद निर्देशों अनुसार उपयोग करे। किट के पैक में कम से कम 5 या 10 किट दिया होता है।
  • आपके द्वारा उपयोग लाये जाने वाले किट एक दूसरे से भिन्न भी हो सकता है। लेकिन आपको पेशाब को 10 से 8 घंटो के भीतर इकठ्ठा करने की कोशिश करे। इसके अलावा सबसे सही समय दोपहर 2 या 2.30 बजे का माना गया है। हालांकि यह जरुरी नहीं आपको ओवुलेशन की खबर मिल सके यह आपके एलएच पर निर्भर रहता है। आप सुबह परीक्षण न करे क्योंकि सुबह यह पता नहीं हो पाता है।
  • अगर आपको ओवुलेशन का परिणाम मिलता है तो यह दो दिन तक होता है अंडाशय से बाहर आती है इस दौरान संभोग करने से महिला के गर्भवस्था होने की अधिक संभावना रहती है। कुछ ओवुलेशन सही समय पर न होने का कारण महिलाओं की अनियमियत मासिकधर्म की समस्या होता है। आपको अपने मासिक चक्र के बारे में जानकारी रखे खासतौर पर पहले और दूसरे बार मासिकधर्म कब हुआ है।
  • ओवुलेशन किट में दो लाइन दी गई होती है। एक लाइन को नियंत्रण रेखा कहते है यह लाइन आपको बताती है की सही से उपयोग हुआ है। इस किट में दूसरी लाइन बताती है की आपके एलएच में वृद्धि हुई या नहीं। जिसके आधार पर ओवुलेशन के बारे में पता करते है।
  • पेशाब को एक साफ कंटेनर में रखे। पाऊच से स्ट्रिप निकाले और पेशाब में डूबा दे। स्टाप लाइन दे अधिक न डुबाये। कुछ देर रहने के बाद बाहर निकाल ले और निचे सीधे रख दे। परिणाम के लिए आप 5 से 10 मिनट इंतजार करें। (और पढ़े – पेशाब में जलन की समस्या)

ओवुलेशन किट के परिणाम ? (Ovulation kit ke Parinam in Hindi)

ओवुलेशन किट के परिणाम जानने के लिए आपको 5 से 10 मिनट का इंतजार करना होता है। लेकिन 30 मिनट से अधिक होने पर परिणाम सही नहीं होते है। अगर लंबा समय रखेंगे तो कोई खास नतीजा नहीं मिलता है। अपने परिणामो को जानने के लिए आपको किट के बारे में पूर्ण जानकारी होनी चाहिए टेस्ट लाइन की गहराई रंग कितना है। आपको कुछ निम्न तरीका सुझाया गया है।

  • आपको पता है किट में दो लाइन होती है उसमे दूसरे लाइन के रंग की गहराई देखा जाता है। अगर आपकी किट की दूसरी रेखा अधिक गहरी रंग की होती है तो आपके एलएच में बढ़ौतरी हुई है तो आपका ओवुलेशन 12 से 36 घंटो में होगा तो आपको दूसरी बार जांच करने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • अगर दो रेखाओं में एक लाइन हल्की नजर आ रही है तो आपका एलएच में वृद्धि नहीं हुआ है आपको दूसरे बार प्रयास करना पड़ेगा।
  • अगर आपके किट में कोई भी रंग नजर नहीं आ रहा है, तो इसका मतलब आप गलत समय ओवुलेशन की जांच कर रही है। इसके अलावा सही से किट का उपयोग नं करने से भी परिणाम नजर नहीं आता है।
  • ओवुलेशन की जांच करने का सबसे सही समय दोपहर के 12 से 1 बजे का होता है। सुबह उठाकर जांच करने से आपको खास परिणाम नहीं दिखाई देता है।
  • अगर आपको समझ नहीं आता है तो आपके किट के साथ आपको निर्देशक परचा दिया होता है। इसकी सहायता से आप सही उपयोग कर सकती है। यह वैज्ञानिको की ऐसी तकनीक है जो महिलाओं को ओवुलेशन के बारे में सूचित कराते है।
  • इस बात का भी ध्यान रखे कही प्रजनन क्षमता की कमी के कारण तो नहीं हो रहा है की अंडाशय से अंडे मुक्त नहीं हो रहा है। क्योंकि अंडे गर्भाशय से प्रभावी तरीके से जुड़े न हो।

ओवुलेशन किट की कीमत ? (Ovulation Kit Ke Kemat in Hindi)

भारत में ओवुलेशन किट की सभी ब्रांड केमिस्ट की दूकान पर उपलब्ध है। कुछ ब्रांड ओवुलेशन किट की कीमत 500 से शुरू होता है। इसके अलावा कुछ ओवुलेशन किट की कीमत 5000 व इससे अधिक कीमत भी हो सकती है। आप किसी भी दुकान पर आसानी से प्राप्त कर सकते है। इसके अलावा ऑनलाइन पर भी आर्डर कर सकती है। ओवुलेशन किट के अलावा महिलाये ओवुलेशन को ट्रैक करने के लिए फर्टीलिज़ेर का उपयोग किया जाता है। भारत में अच्छे मॉनिटर उपलब्ध है जो फ़र्टिलिटी की जांच करते है। इन फर्टिलिटी की कीमत कम से कम 2500 से शुरू होकर 25000 तक हो सकती है। आप इनको अपने पास के मेडिकल स्टोर पर प्राप्त कर सकती है या आप ऑनलाइन पर आर्डर दे कर मंगवा सकती है।

अगर महिलाओं को ओवुलेशन से जुडी समस्याओं के बारे में अधिक जानकारी एव उपचार करवाना चाहती है, तो स्त्री विशेषज्ञ (Gynecologist) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको बीमारियों से संबंधित जानकारी देना है न की आपको किसी दवा, उपचार, घरेलू उपचार की सलाह देते है। आपको एक अच्छी चिकिस्तक सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है क्योंकि उनसे अच्छी सलाह दूसरा कोई नहीं दे सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × two =