थायराइड क्या होता है। जानिए इसके कारण,लक्षण,इलाज व घरेलु उपचार। Thyroid Meaning in Hindi

Login to Health अप्रेल 5, 2019 Uncategorized 405 Views

आज भारत में दस में एक व्यक्ति थायराइड की बीमारी से पीड़ित है। भारत स्वास्थ मंत्रालय की तरफ से थायराइड का इलाज खर्च कम कर दिया है। जिससे लोग अपना इलाज करवा सके। पुरुषो की तुलना में महिलाओं में अधिक थायराइड की समस्या होती है। थायराइड व्यक्ति के शरीर में पाये जाने वाले अंतौरान्ड ग्लांड्स में से एक है। थायराइड गर्दन में श्वास नाली के ऊपर तितली के आकार की होती है। यह थ्योरिकसिन नामक हार्मोन्स बनाती है। यह शरीर की ऊर्जा Metabolism को बढ़ाता है। यह थायराइड ग्रंथि शरीर में स्थित कोशिकाओं को नियंत्रित करता है। यह एक तरह का मास्टर लिवर होता है। जो ऐसे जींस का स्राव करती है। जो सभी कोशिकाओं में रक्त पहुंचाने का कार्य करती है। इस ग्रंथि के सही तरह से काम ना कर पाने से बहुत सी परेशानीया उत्पन्न होती है। सभी के दिमाग में यह सवाल आ रहा होगा इसका उपचार क्या है चलिए आगे और जानकारी लेते है।

  • थायराइड क्या है ? (What is Meaning of Thyroid in Hindi.)
  • थायराइड कितने प्रकार के होते है ? (What are The Types of Thyroid in Hindi)
  • थायराइड के कारण क्या है ? (What are The Causes of Thyroid in Hindi.)
  • थायराइड के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Thyroid in Hindi.)
  • थायराइड का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Thyroid in Hindi.)
  • थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Thyroid in Hindi.)
  • थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या खाने से परहेज करना चाहिए ? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid in Hindi.)

 

थायराइड क्या है ? (What is Meaning of Thyroid in Hindi)

थायराइड गले की बीमारी होती है जो शुरुवात में पता नहीं लगती है लेकिन बढ़ने पर यह आसानी से गले पर नजर आती है। यह गले पर गोल आकर के जैसा होता है। यह आयोडीन की कमी से होता है इसलिए भोजन में आयोडीन नमक मिलाकर खाये जिससे थायराइड जैसी समस्या नहीं होगी।

थायराइड कितने प्रकार के होते है ? (What are The Types of Thyroid in Hindi)

थायराइड दो तरह से होता है। T3 हाइपरथायराइज्मि, T4 हाइपोथायरायडिज्म। यह ग्रंथि अन्य हार्मोन्स के प्रति सवेंदनशील होती है।

थायराइड के कारण के कारण क्या है ? (What are The Causes of Thyroid in Hindi)

  • थायराइड के कारण व्यक्ति को ठीक से नहीं पूरी नहीं हो पाती है।
  • थोड़े काम करने से व्यक्ति को बहुत थकावट महसूस होने लगती है।
  • शरीर में कैल्शियम की कमी थायराइड के कारण हो जाती है।
  • थायराइड के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक छमता कम हो जाती है।
  • अधिक आयोडीन का सेवन करने के कारण थायराइड की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
  • थायराइड के कारण दिल की धड़कनो पर बहुत प्रभाव पड़ता है।

थायराइड के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Thyroid in Hindi)

  • थायराइड के निम्लिखित लक्षण है।
  • कब्ज होना।
  • शरीर का वजन।
  • हाथ-पैर ठंडे होना।
  • त्वचा सुखना।
  • तनाव में रहना।
  • आलसपन होना।
  • जुखाम ठीक नहीं होना।
  • शारीरिक व मानसिक विकास में बाधा उत्पन्न होना।
  • बालो का गिरना।

(बालो की गिरने की समस्या को दूर करने के लिए पढ़े हेयर फॉल क्यों होता है)

थायराइड का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Thyroid in Hindi)

  • थायराइड बीमारी का विभिन्न प्रकार से इलाज किया जाता है। जैसे ग्रंथ नलिका में कोई समस्या उत्पन्न हो रही है, तो डॉक्टर कुछ एंटीबायोटिक दवाइयों की खुराक देते है जिससे थायराइड को कम किया जा सके।
  • अगर व्यक्ति को गले में दर्द की शिकायत होती है, तो डॉक्टर पहले व्यक्ति के रक्त की जांच करता है। रक्त में TSH और TRM की मात्रा देखी जाती है यह जानने के लिए थायराइड के लक्षण है या नहीं है। परिणाम मिलने के बाद ही डॉक्टर इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का सुझाव देते है।
  • दवाओं के लेने से कभी-कभी थायराइड में Cyst की संभावना हो जाती है। Cyst अन्य बीमारी का भी कारण बन सकता है इसलिए डॉक्टर सर्जरी के द्वारा Cyst को हटा देते है।
  • यदि व्यक्ति को थायराइड में कैंसर होता है, तो डॉक्टर कीमोथेरेपी और विकिरण की सहायता से इलाज करते है। यदि थायराइड की स्थिति अधिक ख़राब हो जाती है तो डॉक्टर सर्जरी करने का निणर्य भी ले सकते है।

थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Thyroid in Hindi)

  • लौकी के रस में तुलसी के पत्ते मिलाकर पीये। थायराइड की समस्या दूर होगी।
  • खानो में अधिक मछली का तेल इस्तेमाल करे क्योकि मछली के तेल में ओमेगा फैटि तत्व होता है।
  • सेब का सिरका खाना चाहिए क्योकि सेब के सिरके में अल्काइन एसिड होता है जो उच्च रक्तचाप में मदद करता है।
  • अदरक की चाय में शहद मिलाकर पीये इससे बहुत आराम मिलेगा। अदरक में पोटैशियम, जिक जैसे तत्व होते है जो थायराइड की समस्या को कम करते है।
  • हरी धनिया की चटनी भोजन में मिलाकर इसका सेवन करे जिससे पाचनक्रिया अछि रहेगी तो थायराइड की समस्या उत्पन्न नहीं होगी।
  • योगा में प्राणायाम आसान थायराइड के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। क्योकि यह आसान उज्जायी गले पर केंद्रित होता है और साथ में सूर्य नमस्कार भी कर सकते है।

थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या खाने से परहेज करना चाहिए ? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid in Hindi)

  • थायराइड में आयरन,कापरयुक्त पदार्थ का सेवन अधिक करना चाहिए। जैसे: लहसुन,प्याज,मशरूम, मुलेठी पोषक तत्व थायराइड को संतुलित करते है।
  • नारियल तेल में भोजन बनाकर खाये व दही को कम मात्रा में खाये और पनीर, टमाटर, हरी – सब्जिया, विटामिन A वाले पोषक तत्व अधिक खाये।
  • थायराइड में धूम्रपान करने से बचे व मैदे वाली बानी चीजे, बंद फूलगोभी, ब्रोक्रोली, चाय, कॉफी,चिकन,मटन,अधिक मिर्च मसाला, मलाई, नमकीन, बिस्कुट, मिठाई, चावल,सफ़ेद नमक इत्यादि खाने से बचे।

 

अगर आपको थायराइड की समस्या है और घरेलु उपचार से भी ठीक नहीं हो पा रहा है तो तुरंत Endocrinologists  एंडोक्रिनोलॉजिस्ट्स डॉक्टर से संपर्क करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 18 =