जानिए एसिड रिफ्लक्स क्यों होता हैं। Acid Reflux in Hindi.

Login to Health अक्टूबर 3, 2020 Lifestyle Diseases 994 Views

English हिन्दी Bengali

Acid Reflux Meaning in Hindi. 

एसिड रिफ्लक्स की समस्या को चिकिस्तक भाषा में गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफलक्स डिजीज (GERD) कहा जाता हैं। एसिड रिफ्लक्स की समस्या आजकल लोगो में अधिक देखी जा रही है चाहे बच्चा, वयस्क व वृद्ध हो। अक्सर लोगो की खान-पान की गलत आदते व दिनचर्या जैसे असमय भोजन करने से या खाली पेट रहने और खाते ही लेट जाना इत्यादि एसिड रिफ्लक्स का कारण बनता हैं। एसिड रिफ्लक्स होने पर भोजन बार-बार गले तक आने लगता है और अधिक गंभीर होने पर खट्टी डकारे भी आने लगती हैं। यदि यह समस्या लंबे समय से मरीज को परेशान कर रही है, तो खांसी व अस्थमा की परेशानी आ सकती हैं। इसलिए अपनी आदतों को बदलना चाहिए ताकि एसिड रिफ्लक्स की समस्या से बच सकें। चलिए आज के लेख के माध्यम से आपको एसिड रिफ्लक्स( Acid Reflux Meaning in Hindi) के बारे में विस्तार से बताएंगे। 

  • एसिड रिफ्लक्स के कारण क्या है ? (What are the Causes of Acid Reflux in Hindi)
  • एसिड रिफ्लक्स के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Acid Reflux in Hindi)
  • एसिड रिफ्लक्स का इलाज क्या है ? (What are the Treatments for Acid Reflux in Hindi)
  • एसिड रिफ्लक्स से बचाव कैसे करें ?(Prevention of Acid Reflux in Hindi)
  • एसिड रिफ्लक्स के नुकसान क्या हैं ? (Side -Effects of Acid Reflux in Hindi)

एसिड रिफ्लक्स के कारण क्या है ? (What are the Causes of Acid Reflux in Hindi)

एसिड रिफ्लक्स तब होता है जब पेट की कुछ एसिड सामग्री घुटकी में बहती है, गुलाल में, जो भोजन को मुंह से नीचे ले जाती है। नाम के बावजूद, नाराज़गी का दिल से कोई लेना-देना नहीं है। पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड होता है, एक मजबूत एसिड जो भोजन को तोड़ने और बैक्टीरिया जैसे रोगजनकों से बचाने में मदद करता है। पेट के अस्तर को विशेष रूप से शक्तिशाली एसिड से बचाने के लिए अनुकूलित किया जाता है, लेकिन अन्नप्रणाली की रक्षा नहीं की जाती है।

मांसपेशियों की एक अंगूठी, गैस्ट्रोओसोफेगल स्फिंक्टर, आम तौर पर एक वाल्व के रूप में कार्य करता है जो भोजन को पेट में जाने देता है लेकिन घुटकी में वापस नहीं। जब यह वाल्व विफल हो जाता है, और पेट की सामग्री को अन्नप्रणाली में पुनर्संयोजित किया जाता है, तो एसिड रिफ्लक्स के लक्षण महसूस होते हैं, जैसे कि नाराज़गी।

जोखिम में –

  • जीईआरडी सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है, कभी-कभी अज्ञात कारणों से। अक्सर, यह एक जीवन शैली कारक के कारण होता है, लेकिन यह उन कारणों के कारण भी हो सकता है जिन्हें हमेशा रोका नहीं जा सकता है।
  • रोके जाने योग्य नहीं होने का एक कारण हर्निया (या हेटस) हर्निया है। डायाफ्राम में एक छेद पेट के ऊपरी हिस्से को छाती गुहा में प्रवेश करने की अनुमति देता है, कभी-कभी जीईआरडी के लिए अग्रणी होता है।  (और पढ़े- हर्निया क्या होता है ?)

अन्य जोखिम कारक अधिक आसानी से नियंत्रित होते हैं।

  • मोटापा(और पढ़े – मोटापा कम कैसे करें)
  • धूम्रपान (सक्रिय या निष्क्रिय)
  • शारीरिक व्यायाम के निम्न स्तर
  • दवाओं, अस्थमा, कैल्शियम-चैनल ब्लॉकर्स, एंटीथिस्टेमाइंस, दर्द निवारक, शामक और अवसाद के लिए दवाओं सहित आदि। 

एसिड रिफ्लक्स के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Acid Reflux in Hindi)

एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux Meaning in Hindi) के निम्नलिखित लक्षण होते है, किंतु सभी लक्षण केवल एक ही मरीज में नजर नहीं आते बल्कि भिन्न-भिन्न नजर आ सकते हैं। हार्टबर्न एक असहज जलन है जो अन्नप्रणाली में होती है और स्तन क्षेत्र के पीछे महसूस होती है। लेटते या झुकते समय यह खराब हो जाता है। यह कई घंटों तक रह सकता है और अक्सर खाना खाने के बाद बिगड़ जाता है। नाराज़गी का दर्द गर्दन और गले की ओर बढ़ सकता है। पेट का तरल पदार्थ कुछ मामलों में गले के पीछे तक पहुंच सकता है, जिससे कड़वा या खट्टा स्वाद पैदा होता है। 

  • सीने में जलन होना। 
  • शरीर की पाचन क्रिया खराब रहना। 
  • गले में जलन होना। 
  • अपच होना। 
  • अनियमित दिनचर्या होना। 
  • खराब खान -पान। 
  • खट्टी डकार आना। 
  • घबराहट महसूस होना। 
  • पेट के निचले हिस्से में जलन होना। 
  • मुंह में भोजन वापस आना। 
  • भोजन निगलने में कठिनाई आना। (और पढ़े – थायरॉइड के लक्षण)
  • छाती में जलन होना। 

एसिड रिफ्लक्स का इलाज क्या है ? (What are the Treatments for Acid Reflux in Hindi)

  • एसिड रिफ्लक्स की दवा चिकिस्तक के पर्चे के बिना भी आसानी से मेडिकल पर आसानी से मिल जाती है। एसिड रिफ्लक्स की दवाओं में एंटासीड्स, एल्ज़ीनेट, प्रोटोन पंप इनहिबिटर, फेमोटीटाइन आदि दवाये शामिल है। 
  • सभी मरीजों को एसिड रिफ्लक्स की दवा मरीज नहीं देते है। जिनको  हमेशा समस्या होती है। केवल उनको ही दवा देते है। 
  • कुछ गंभीर मामलो में चिकिस्तक मरीज को सर्जरी करवाने सलाह देते है। इन सर्जरी में फंडोप्लीकेशन सर्जरी  (Fundoplication Surgery), एंडोस्कोपिक आदि करते है।

एसिड रिफ्लक्स से बचाव कैसे करें ?(Prevention of Acid Reflux in Hindi)

एसिड रिफ्लक्स से बचाव करने के लिए निम्न उपाय अपना सकते हैं। 

  • रोजाना व्यायाम करना चाहिए। 
  • कोई ऐसे व्यायाम नहीं करे जिससे पेट पर अधिक बल लगे। 
  • हमेशा सोने के 2 या 3 घंटे पहले भोजन करें। 
  • ढीले ढाले कपडे पहने। 
  • धूम्रपान व शराब का सेवन ना करें। 
  • भोजन में कम मसालों का सेवन करें। 
  • साल में एक बार डॉक्टर से परमर्श जरूर करे। 
  • बीज जैसा फल जरूर खाएं।
  • दिन में तीन बार थोड़ा (एक छोटा कप) ठंडा मीठी दूध पीएं।(और पढ़े – दूध के स्वास्थ्य लाभ)
  • प्याज़ को दही के साथ खाने से एसिड से आराम मिलता है।

एसिड रिफ्लक्स के नुकसान क्या हैं ? (Side -Effects of Acid Reflux in Hindi)

एसिड रिफ्लक्स होने पर बहुत से दुष्परिणाम हो सकते हैं। 

  • बदहजमी होने लगना। 
  • हाइड्रोक्लोरिक एसिड का बनना। 
  • जलन होना। 
  • सांस लेने में दिक्कत(और पढ़े – कोरोना वायरस के कारण)
  • आवाज भारी होना
  • मुंह में छाले होना

अगर आप एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux Meaning in Hindi) के बारे में अधिक जानकारी एव इलाज करवाना चाहते  है,तो गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट (Gastroenterologist) से संपर्क करें। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Gastroenterologist in Delhi

Best Gastroenterologist in Mumbai

Best Gastroenterologist in Bangalore

Best Gastroenterologist in Chennai