एक्यूट किडनी फेल्योर क्या है? What is Acute Kidney Failure in Hindi?

Dr Foram Bhuta

Dr Foram Bhuta

BDS (Bachelor of Dental Surgery), 10 years of experience

दिसम्बर 21, 2019 Lifestyle Diseases 22661 Views

English हिन्दी Bengali

एक्यूट किडनी फेल्योर का मतलब हिंदी में (Acute Kidney Failure Meaning in Hindi)

तीव्र गुर्दे की विफलता एक ऐसी स्थिति है जो तब होती है जब गुर्दे काम करना बंद कर देते हैं, या रक्त शुद्धिकरण की प्रक्रिया कम हो जाती है। तीव्र गुर्दे की विफलता में रक्त में विषाक्त पदार्थों का संचय होता है। यह रक्त की रासायनिक संरचना को प्रभावित करता है। कई लोगों में किडनी खराब होने की वजह से किडनी फेल होने की समस्या होने पर मरीज को अस्पताल में भर्ती कराना और तुरंत इलाज शुरू करना जरूरी हो जाता है। किडनी मनुष्य का तीसरा प्रमुख अंग है। जिस तरह आप अपने दिल का ख्याल रखते हैं, उसी तरह किडनी का भी ख्याल रखना बेहद जरूरी है। गुर्दे का मुख्य कार्य आपके रक्त से अपशिष्ट को छानना है। गुर्दा मूत्र के रूप में रक्त से अतिरिक्त तरल पदार्थ को निकालने में भी मदद करता है। गुर्दे रक्तचाप को नियंत्रित करने और लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में भी मदद करते हैं। वे इलेक्ट्रोलाइट्स को विनियमित करने और शरीर में विटामिन डी को सक्रिय करने में मदद करते हैं। अगर आपको किडनी में कोई असामान्यता महसूस हो तो तुरंत इलाज कराएं। क्योंकि किडनी की समस्या को हल्के में लेना शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। हम इस लेख के माध्यम से तीव्र गुर्दे की विफलता के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं। 

  • गुर्दे की विफलता के विभिन्न प्रकार क्या हैं? (What are the different types of Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर के क्या कारण हैं? (What are the causes of Acute Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर के जोखिम कारक क्या हैं? (What are the risk factors of Acute Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Acute Kidney Failure in Hindi)
  • तीव्र गुर्दे की विफलता का निदान कैसे करें? (How to diagnose Acute Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर का इलाज क्या है? (What is the treatment of Acute Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Acute Kidney Failure in Hindi)
  • एक्यूट किडनी फेल्योर को कैसे रोकें? (How to prevent Acute Kidney Failure in Hindi)

गुर्दे की विफलता के विभिन्न प्रकार क्या हैं? (What are the different types of Kidney Failure in Hindi)

किडनी खराब होने के मुख्यतः दो प्रकार होते हैं।

  • तीव्र गुर्दे की विफलता – इस प्रकार की गुर्दा की विफलता अचानक शुरू होती है, और थोड़े समय तक चलती है।
  • क्रोनिक किडनी फेल्योर – इस प्रकार की किडनी फेलियर धीरे-धीरे होती है, और लंबे समय तक चलती है।

एक्यूट किडनी फेल्योर के क्या कारण हैं? (What are the causes of Acute Kidney Failure in Hindi)

निम्नलिखित स्थितियों में तीव्र गुर्दे की विफलता हो सकती है। 

गुर्दे में रक्त का प्रवाह बाधित या बंद हो जाता है: यह निम्नलिखित स्थितियों के कारण हो सकता है। 

  • खून की कमी। 
  • द्रव हानि। 
  • दिल का दौरा। 
  • रक्तचाप की दवाएं। 

(और पढ़े – उच्च रक्तचाप क्या है?)

  • संक्रमण। 
  • दिल के रोग। 

(और पढ़े – हार्ट वॉल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी क्या है?)

  • लीवर फेलियर। 
  • इबुप्रोफेन, एस्पिरिन, नेप्रोक्सन सोडियम जैसी कुछ दवाओं का उपयोग। 
  • गंभीर जलन। 
  • गंभीर निर्जलीकरण। 
  • एनाफिलेक्सिस (गंभीर एलर्जी प्रतिक्रिया)

(और पढ़े – लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी क्या है?)

गुर्दा की क्षति: जिन स्थितियों में गुर्दा की क्षति हो सकती है उनमें शामिल हैं। 

  • गुर्दे के चारों ओर रक्त वाहिकाओं में रक्त का थक्का (रक्त का एक द्रव्यमान) बनना। 
  • कोलेस्ट्रॉल जमा गुर्दे में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध करता है। 

(और पढ़े – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं?)

  • ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस (गुर्दे में मौजूद ग्लोमेरुली या छोटे फिल्टर की सूजन)
  • संक्रमण, जैसे कोविड – 19  
  • हेमोलिटिक यूरीमिक सिंड्रोम (लाल रक्त कोशिकाओं के समय से पहले विनाश के परिणामस्वरूप होने वाली स्थिति)
  • ल्यूपस (प्रतिरक्षा प्रणाली या शरीर की बीमारी से लड़ने वाली प्रणाली के कारण होने वाला विकार), जिससे ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस हो जाता है। 
  • नैदानिक इमेजिंग परीक्षणों के दौरान उपयोग की जाने वाली एंटीबायोटिक्स, डाई और कीमोथेरेपी दवाओं जैसी दवाएं (शरीर के आंतरिक अंगों की स्पष्ट छवियां प्राप्त करने के लिए किए गए परीक्षण)

(और पढ़े – कीमोथेरेपी क्या है?)

  • थ्रोम्बोटिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (एक दुर्लभ प्रकार का रक्त विकार)
  • विषाक्त पदार्थ, जैसे कोकीन, शराब, या भारी धातु
  • स्क्लेरोडर्मा (रोगों का एक समूह जो त्वचा और संयोजी ऊतकों को प्रभावित करता है)
  • ट्यूमर लसीका सिंड्रोम (ट्यूमर कोशिकाओं का टूटना जिसके परिणामस्वरूप विषाक्त पदार्थ निकलते हैं, जिससे गुर्दे में चोट लगती है)
  • रबडोमायोलिसिस (मांसपेशियों के ऊतकों का टूटना, मांसपेशियों के ऊतकों के विनाश से विषाक्त पदार्थों की रिहाई के कारण गुर्दे की क्षति)

गुर्दे में मूत्र का अवरोध: शरीर से मूत्र के मार्ग को अवरुद्ध करने वाली विभिन्न स्थितियों के रूप में जाना जाता है। 

  • ब्लैडर कैंसर। 
  • ग्रीवा कैंसर। 
  • पेट का कैंसर। 

(और पढ़े – कोलन कैंसर क्या है?)

  • मूत्र पथ में रक्त का थक्का बनना। 
  • पथरी। 
  • बढ़ा हुआ अग्रागम। 
  • प्रोस्टेट कैंसर। 

(और पढ़े – प्रोस्टेट कैंसर क्या है?)

  • मूत्राशय को नियंत्रित करने वाली नसों की क्षति। 

एक्यूट किडनी फेल्योर के जोखिम कारक क्या हैं? (What are the risk factors of Acute Kidney Failure in Hindi)

निम्नलिखित मामलों में तीव्र गुर्दे की विफलता का खतरा बढ़ जाता है। 

  • उम्र में वृद्धि। 
  • एक गंभीर चिकित्सा स्थिति के लिए अस्पताल में भर्ती, जिसके लिए गहन देखभाल की आवश्यकता हो सकती है। 
  • उच्च रक्त चाप। 

(और पढ़े – लिवर सिरोसिस क्या है?)

  • मधुमेह। 
  • दिल की विफलता (हृदय शरीर को पर्याप्त रक्त पंप करने में विफल रहता है)
  • जिगर के रोग। 
  • गुर्दे के रोग। 
  • कुछ प्रकार के कैंसर और उनके उपचार। 
  • परिधीय धमनी रोग (पैरों या बाहों में रक्त वाहिकाओं में रुकावट)

(और पढ़े – किडनी ट्रांसप्लांट सर्जरी क्या है?)

एक्यूट किडनी फेल्योर के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of Acute Kidney Failure in Hindi)

तीव्र गुर्दे की विफलता में निम्नलिखित लक्षण देखे जा सकते हैं। 

  • थकान महसूस कर रहा हूँ। 
  • मतली। 
  • बेचैनी। 
  • छाती में दर्द। 

(और पढ़े – सीने में दर्द के घरेलू उपचार)

  • सांस लेने में कष्ट। 
  • छाती का दबाव। 
  • भ्रम की स्थिति। 
  • अनियमित दिल की धड़कन। 
  • मूत्र उत्पादन में कमी। 
  • द्रव प्रतिधारण। 
  • टखनों, पैरों या पैरों में सूजन। 
  • कोमा या दौरे, गंभीर मामलों में। 

(और पढ़े – किडनी कैंसर का इलाज क्या है?)

यदि आप तीव्र गुर्दे की विफलता के किसी भी लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़े – किडनी कैंसर का इलाज क्या है?)

तीव्र गुर्दे की विफलता का निदान कैसे करें? (How to diagnose Acute Kidney Failure in Hindi)

  • शारीरिक परीक्षण – डॉक्टर आपकी शारीरिक जांच करेंगे, और आपके लक्षण, चिकित्सा इतिहास और पारिवारिक इतिहास को नोट करेंगे।
  • मूत्र उत्पादन का माप – 24 घंटों में पेशाब की मात्रा को मापने से डॉक्टर को गुर्दे की विफलता का कारण निर्धारित करने में मदद मिल सकती है।
  • यूरिनलिसिस – यूरिन टेस्ट से कुछ असामान्यताएं सामने आ सकती हैं जो किडनी फेल होने का संकेत दे सकती हैं।
  • रक्त परीक्षण – लिए गए रक्त के एक नमूने से क्रिएटिनिन और यूरिया के स्तर में वृद्धि का पता चल सकता है, जो कि किडनी के कार्य को मापने के लिए उपयोग किए जाने वाले पदार्थ हैं।
  • इमेजिंग परीक्षण – अल्ट्रासाउंड और सीटी स्कैन जैसे इमेजिंग परीक्षण डॉक्टर को गुर्दे की स्पष्ट छवियां प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़े – सिस्टोस्कोपी क्या है?)

  • बायोप्सी – डॉक्टर गुर्दे के एक छोटे से ऊतक के नमूने को निकाल सकते हैं और परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में भेज सकते हैं। ऊतक का नमूना प्राप्त करने के लिए त्वचा और गुर्दे में एक सुई डाली जाती है।

(और पढ़े – किडनी स्टोन क्या है?)

एक्यूट किडनी फेल्योर का इलाज क्या है? (What is the treatment of Acute Kidney Failure in Hindi)

किडनी खराब होने के ज्यादातर मामलों में मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, हालांकि कुछ मरीज घर पर ही ठीक हो सकते हैं। तीव्र गुर्दे की विफलता के उपचार में शामिल हैं। 

गुर्दे की चोट के अंतर्निहित कारण का उपचार

  • तीव्र गुर्दे की विफलता के उपचार में चोट या बीमारी की पहचान करना शामिल है जिससे गुर्दे को नुकसान पहुंचा है।
  • उपचार के विकल्प गुर्दे की विफलता के कारण पर निर्भर करते हैं।

गुर्दे ठीक होने तक जटिलताओं का उपचार –

  • रक्त में तरल पदार्थ की मात्रा को संतुलित करने के लिए उपचार –
  • रक्त में तरल पदार्थ की कमी के कारण गुर्दे की तीव्र विफलता के मामले में, डॉक्टर अंतःशिरा (IV) तरल पदार्थ की सिफारिश कर सकते हैं, जिन्हें सीधे शरीर की नस में इंजेक्ट किया जाता है। डॉक्टर भी तरल पदार्थ का सेवन बढ़ाने की सलाह देते हैं।
  • कुछ मामलों में, तीव्र गुर्दे की विफलता के कारण शरीर में बहुत अधिक तरल पदार्थ हो सकते हैं। इससे पैरों और बाहों में सूजन आ जाती है। ऐसे मामलों में, डॉक्टर मूत्रवर्धक नामक दवाओं की सिफारिश कर सकते हैं, जिसके कारण आपका शरीर मूत्र के रूप में अतिरिक्त तरल पदार्थ को बाहर निकाल देता है।

रक्त कैल्शियम के स्तर को बहाल करने के लिए दवाएं –

  • यदि आपके शरीर में कैल्शियम का स्तर बहुत कम हो जाता है, तो डॉक्टर कैल्शियम के जलसेक की सिफारिश कर सकते हैं।
  • डॉक्टर कैल्शियम सप्लीमेंट भी लिख सकते हैं और आपको कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ खाने की सलाह दे सकते हैं।

रक्त पोटेशियम को नियंत्रित करने के लिए दवाएं –

  • यदि गुर्दे आपके रक्त से पोटेशियम को ठीक से फ़िल्टर नहीं कर रहे हैं, तो डॉक्टर रक्त में उच्च पोटेशियम के स्तर के संचय को रोकने के लिए ग्लूकोज, कैल्शियम, या कियोनेक्स (सोडियम पॉलीस्टीरिन सल्फोनेट) की सिफारिश कर सकते हैं।
  • रक्त में बहुत अधिक पोटेशियम मांसपेशियों की कमजोरी और अनियमित दिल की धड़कन का कारण बन सकता है, जिसे अतालता के रूप में जाना जाता है।
  • रक्त से विषाक्त पदार्थों को हटाने के लिए डायलिसिस –
  • रक्त में विषाक्त पदार्थों के निर्माण के मामले में, गुर्दे के ठीक होने के दौरान शरीर से विषाक्त पदार्थों और अतिरिक्त तरल पदार्थों को निकालने के लिए आपको अस्थायी डायलिसिस की आवश्यकता हो सकती है।
  • डायलिसिस शरीर से अतिरिक्त पोटेशियम को हटाने में भी मदद कर सकता है।
  • डायलिसिस में, एक मशीन एक डायलाइज़र (कृत्रिम किडनी) के माध्यम से शरीर से रक्त को बाहर निकालती है जो कचरे को छानती है। फिर रक्त शरीर में वापस आ जाता है।

(और पढ़े – डायलिसिस क्या है?)

एक्यूट किडनी फेल्योर की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of Acute Kidney Failure in Hindi)

तीव्र गुर्दे की विफलता की जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं। 

  • फेफड़ों में तरल पदार्थ का निर्माण, जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है। 
  • छाती में दर्द। 
  • गुर्दे को स्थायी क्षति। 
  • मांसपेशी में कमज़ोरी। 
  • मौत। 

(और पढ़े – पल्मोनरी एम्बोलिज्म क्या है?)

एक्यूट किडनी फेल्योर को कैसे रोकें? (How to prevent Acute Kidney Failure in Hindi)

  • गुर्दे की विफलता को रोकने के लिए निम्नलिखित में से कुछ कदम उठाए जा सकते हैं। 
  • आपके द्वारा ली जाने वाली कोई भी दवा सही खुराक और समय पर ली जानी चाहिए, जैसा कि डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया गया है। 
  • मधुमेह या उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों से पीड़ित लोगों को अधिक मात्रा में दवाएं लेने से बचना चाहिए। 
  • शराब का सेवन सीमित करें। 
  • एक अच्छी तरह से संतुलित आहार लें जिसमें आपके शरीर के लिए आवश्यक सभी विटामिन और पोषक तत्व हों। 
  • अपने आहार में नमक का सेवन सीमित करें। 
  • यदि आपको रक्तचाप और मधुमेह जैसी अन्य बीमारियों के साथ गुर्दा की समस्या है, जो तीव्र गुर्दे की विफलता के विकास के जोखिम को बढ़ा सकती है, तो आपको स्थिति का प्रबंधन करने के लिए डॉक्टर द्वारा दी गई सिफारिशों का पालन करना चाहिए।

अगर आपको किसी भी तरह की किडनी की समस्या है तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। 

(और पढ़े – किडनी साफ करने के घरेलू उपाय क्या हैं?)

हमें उम्मीद है कि हम इस लेख के माध्यम से एक्यूट किडनी फेल्योर से संबंधित आपके सभी सवालों के जवाब दे पाए हैं।

अगर आपको किडनी से जुडी किसी भी तरह की समस्या के बारे अधिक जानकारी व उपचार के लिए Nephrologist से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल जानकारी देना है न की हम किसी दवा, उपचार, घरेलु उपचार की सलाह देते है। आपको एक चिकिस्तक ही केवल अच्छा चिकिस्तक सुझाव दे सकता है क्योंकि उनसे अच्छा कोई दूसरा नहीं होता है। 

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox