नवजात शिशु में दस्त रोकने के बेहतरीन उपाय। Baby me Dast Rokne ke Behtarin Upay in Hindi

जनवरी 30, 2020 Lifestyle Diseases 22981 Views

हिन्दी

Baby me Dast Rokne ke Upay ka Matlab in Hindi

दस्त में विषाक्त पदार्थ व बैक्टीरिया पाचन प्रणाली से बाहर निकलते है। नवजात शिशु में दस्त की समस्या होने से माँ अधिक परेशान हो जाती है। इसमें शिशु के मल पानी की तरह होने लगता है व मल से बहुत गंध आती है। अत्यधिक दस्त होने से शिशु बहुत परेशान करने लगते है। शिशु को दस्त की समस्या आमतौर पर दांत निकलने व ठंडी लगने से होने लगता है। इसके अलावा माता को किसी तरह का बैक्टीरियल इन्फेक्शन हुआ है तो अगर ऐसे में शिशु स्तनपान कर ले तो बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो सकता है। यह दस्त का कारण बन सकता है। हालांकि कई माता अपने बच्चे के दस्त को रोकने के लिए कई तरह का प्रयास करती है। अगर आपके बच्चे को कई दिनों से दस्त हो रहा है तो बिना किसी देरी के बाल चिकिस्तक से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा शिशु में दस्त की समस्या शुरुवाती है तो कुछ घरेलु उपचार की सहायता से ठीक कर सकते है। चलिए आपको इस लेख में दस्त के घरेलू उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी बतायेंगे।

नवजात शिशु के दस्त को रोकने के उपाय ? (Baby me Dast Rokne Ke Upay in Hindi)

नवजात शिशु के दस्त को रोकने के निम्नलिखित उपाय है।

  • छोटे बच्चे के दस्त रोकने के लिए गाजर का रस देना चाहिए – गाजर में अच्छी मात्रा में विटामिन और खनिज होता है, जो शरीर को मजबूत करने में मदद करता है। छोटे बच्चो के दस्त को रोकने में मदद करता है। गाजर का उपयोग करने के लिए इसे पहले अच्छे से उबाल ले, इस उबले गाजर को प्यूरी बना ले, इस प्यूरी को पुरे दिन में दो बार शिशु को दे। गाजर शिशु के दस्त की समस्या को कम कर ऊर्जा को बढ़ाता है। (और पढ़े – डायरिया का उपचार)
  • नींबू का उपयोग कर दस्त रोके – नींबू बहुत से समस्या को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसमें बहुत से एंटीऑक्सीडेंट व एंटी बैक्टीरियल गुण होता है जो संक्रमण को रोकने में मदद करता है। नींबू शिशु के दस्त को रोकने के लिए फायदेमंद होता है। एक नींबू के रस को एक कटोरी में निकल ले उसमे थोड़ा नमक मिला ले, इस मिश्रण को दिन में कम से कम चार से पांच बार एक चम्मच पिलाये। (और पढ़े – नींबू के फायदे और नुकसान)
  • छोटे शिशु को चावल का पानी दे – छोटे शिशु के दस्त की समस्या को रोकने के लिए चावल का पानी पिलाना फायदेमंद होता है। चावल के पानी में बहुत से विटामिन व खनिज होता है। इसमें प्रचुर में कैल्शियम व प्रोटीन होता है, यह शिशु के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में मदद करता है। चावल के पानी के लिए एक कप पानी में थोड़ा चावल धोकर उबाले और पानी को छान कर चावल को मेश कर शिशु को पिलाये। चावल के पानी से बच्चे को दस्त की समस्या कभी नहीं होगी। (और पढ़े – सेकेन बेबी सिंड्रोम)
  • बच्चे के दस्त को रोकने के लिए जायफल का उपयोग – शिशु को जायफल का सेवन करवाने से दस्त से छुटकारा दिला सकते है। कुछ शोध में जायफल को बहुत अच्छा घरेलू उपचार कहा गया है। इसका उपयोग करने के लिए जायफल को घिसकर चूर्ण तैयार कर ले और बच्चे को पानी में मिलाकर पीला दे। इसके अलावा सेब को उबालकर प्यूरी बनाकर उसमे जायफल का चूर्ण बनाकर दे, इस प्रकिया को करने से शिशु की दस्त की समस्या ठीक हो जाएगी। अगर आपके बच्चे को एलर्जी की समस्या हो रही है, तो चिकिस्तक से संपर्क करें।
  • शिशु के दस्त रोके दही – दही में प्राकृतिक रूप से कुछ बैक्टीरिया होते है जो संक्रमण को दूर करने में मदद करता है। दही पाचन के स्वास्थ्य को बेहतर करता है। घर की बनी छाछ पिलाने से शिशु को दस्त की समस्या को दूर करता है। इसके लिए एक कप दही में थोड़ा जीरा पाउडर मिला ले। इसके अलावा दही में चीनी पाउडर व चुटकी नमक भी मिला सकते है। इस मिश्रण को दिन में कम से कम पांच चम्मच दे।
  • दाल का पानी फायदा करे दस्त में – मुंग की दाल खाने से पाचन प्रणाली मजबूत होती है। शिशु को दाल की पानी पिलाने से दस्त की समस्या ठीक हो जाती है। इसके आपको बीने छिलके वाली दाल लेकर उसको अच्छी तरह बनाना चाहिए। दाल से पानी निकला कर शिशु को चम्मच से पिलाना चाहिए। इस बात का ध्यान दे आपका शिशु अगर छे महीने से अधिक का है तो ही दाल का पानी उसे पिलाये। यदि शिशु छे महीने से कम है तो चिकिस्तक से सलाह ले। (और पढ़े – कुलथी दाल के फायदे और नुकसान)
  • नारियल पानी रोके शिशु के दस्त को – नारियल का पानी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि इसमें बहुत से विटमिन और खनिज होते है। नारियल पानी न केवल बड़ो के लिए बल्कि छोटे बच्चो के दस्त को रोकने में मदद करता है। नारियल पानी को एक कटोरी में ले, शिशु को एक चम्मच से नारियल पानी पिलाये। पुरे दिन में शिशु को दो से तीन बार एक चम्मच नारियल पानी दे। इससे शिशु के दस्त की समस्या रुक जाएगी। (और पढ़े – नारियल के फायदे क्या है)
  • सेब का उपयोग करने में – सेब में मौजूद प्रोटीन दस्त की समस्या को रोकने में मदद करता है। सेब को छोटे टुकड़े में काटले और पानी में उबाल ले। इसके बाद इसकी मेश कर प्यूरी बना ले। ठंडा होने बाद इसमें गाजर की प्यूरी डालकर एक चम्मच शिशु को पिलाये। किंतु छे महीने से अधिक महीने के बच्चे को यह प्यूरी पिलाये। इस प्रक्रिया से बच्चे के दस्त को रोकने में मदद करता है।

अगर आपके शिशु को कई दिनों से दस्त की समस्या हो रही है तो किसी अच्छे पीडियाट्रिक (Pediatric) चिकिस्तक से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य आपको रोगो के प्रति जानकारी देना है हम आपको किसी तरह के दवा, उपचार, सर्जरी की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक दे सकता है क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा नहीं होता है। 


Login to Health

Login to Health

लेखकों की हमारी टीम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को समर्पित है। हम चाहते हैं कि हमारे पाठकों के पास स्वास्थ्य के मुद्दे को समझने, सर्जरी और प्रक्रियाओं के बारे में जानने, सही डॉक्टरों से परामर्श करने और अंत में उनके स्वास्थ्य के लिए सही निर्णय लेने के लिए सर्वोत्तम सामग्री हो।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox


    captcha