राजगिरा (चौलाई) के फायदे। Benefits of Rajgira (Amaranth) in Hindi

Login to Health नवम्बर 13, 2020 Lifestyle Diseases 252 Views

हिन्दी

राजगिरा (चौलाई) के फायदे का मतलब हिंदी में

राजगिरा को चौलाई व अंगेजी में अमरंथ के नाम से जाना जाता है। राजगिरा देखने में छोटे दाने की तरह होता है जो चौलाई के पौधे पर फलते है। राजगिरा के बीज पकने के बाद पौधों को काटकर निकाल दिया जाता है। राजगिरा का उपयोग बड़े पैमाने पर लड्डू व चाशनी में डूबोकर चिक्की बनाने के लिए किया जा सकता है। राजगिरा का उत्पादन बहुत से राज्यों में की जाती है और राजगिरा किसी बड़े या छोटे दुकानों पर आसानी से मील जाता है। शायद बहुत से लोगो को पता नहीं होगा राजगिरा बहुत सी बीमारियों के जोखिम को कम करने में फायदेमंद होता है। चलिए आज के लेख में आपको राजगिरा के फायदे के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं। 

  • राजगिरा के पोषक तत्व क्या हैं ? (What are the Nutritional Value of Rajgira (Amaranth) in Hindi)
  • राजगिरा के स्वास्थ्य लाभ ? (What are the Health Benefits of Value of Rajgira (Amaranth) in Hindi)
  • राजगिरा के नुकसान ? (What are the Side-Effects of Rajgira (Amaranth) in Hindi)

राजगिरा के पोषक तत्व क्या हैं ? (What are the Nutritional Value of Rajgira (Amaranth) in Hindi)

राजगिरा में बहुत से पोषक तत्व और खनिजों का समावेश होता है। इसमें अच्छी मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर व शुगर होता है। इसके अलावा विटामिन सी, विटामिन-बी, आयरन, कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, सोडियम, जिंक, थायमिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन आदि मौजूद होता है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। (और पढ़े – विटामिन सी की कमी के कारण)

राजगिरा के स्वास्थ्य लाभ ? (What are the Health Benefits of Value of Rajgira (Amaranth) in Hindi)

राजगिरा के बहुत से स्वास्थ्य लाभ है। चलिए आगे विस्तार से बताते है। 

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में  शरीर को रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में राजगिरा बहुत उपयोगी होता है। ऐसा इसलिए इसमें अच्छी मात्रा में जिंक मौजूद होता है जो रोगो से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें विटामिन सी का अच्छा स्रोत होता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। जिन लोगो की इम्म्युंटी कमजोर है उनको राजगिरा का उपयोग करना चाहिए। (और पढ़े – इम्युनिटी बढ़ाने के लिए क्या पीना चाहिए) 
  • पाचन शक्ति बढ़ाने में पाचन शक्ति कमजोर होने से कब्ज जैसी समस्या का जोखिम हो जाता है। राजगिरा पाचन शक्ति को मजबूत करने में फायदेमंद होता है। इसमें अच्छी मात्रा में फाइबर होता है जो कब्ज की समस्या को दूर करता है। इसलिए जिन लोगो को कब्ज जैसे समस्या है उनको राजगिरा का सेवन करना चाहिए। कुछ शोध के अनुसार पाचन शक्ति मजबूत होने कब्ज जैसी समस्या नहीं होती है। राजगिरा पाचन शक्ति को मजबूत करती है। 
  • हड्डियों के लिए फायदेमंद हड्डियों से जुडी समस्या आमतौर पर हड्डियों की कमजोरी के वजह से होता है। राजगिरा में कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है जो हड्डियों को मजबूत करने में फायदेमंद होता है। यदि हड्डियों में कमजोरी होती है तो गठिया व ऑस्टियोपोर्सस बीमारी होने का खतरा बना रहता है। इन समस्या से बचने के लिए राजगिरा का सेवन करना चाहिए। (और पढ़े – गठिया के घरेलू उपचार)
  • डायबिटीज को नियंत्रण करने में डायबिटीज से पीड़ित लोगो के लिए राजगिरा एक अच्छा घरेलू उपचार है। इसका उपयोग करने से डायबिटीज को नियंत्रण किया जाता है। राजगिरा के तेल डायबिटीज प्रकार 2 के लिए फायदेमंद होता है। यदि आपका डायबिटीज नियंत्रण में है तो इसका उपयोग न करे। यदि आप पहली बार उपयोग कर रहे है तो चिकिस्तक से परामर्श करें। (और पढ़े – डायबिटीज के घरेलु उपचार)
  • सूजन कम करने में फायदेमंद  राजगिरा में कुछ ऐसे गुण होते है जो शरीर के सूजन को कम करने में लाभकारी होता है। कुछ शोध के अनुसार राजगिरा में अच्छी मात्रा में एंटी -इंफ्लेमेंटरी गुण मौजूद होता है जो सूजन को कम करता है। सूजन को कम करने के लिए राजगिरा का उपयोग कर सकते है।
  • बालों के लिए फायदेमंद बालों के गिरने व टूटने जैसी समस्या को कम करने में राजगिरा फायदेमंद होता है। ऐसा इसलिए राजगिरा में प्रचुर मात्रा में जिंक मौजूद होता है जो बालों की जड़ों को मजबूत करता है और बालों को टूटना कम करता है। इसके अलावा बालों में खुजली की समस्या को दूर करने में राजगिरा उपयोगी होता है। यदि बालों में अधिक खुजली व झड़ने की समस्या है तो राजगिरा का उपयोग करना चाहिए।  (और पढ़े – बालों का झड़ना क्यों होता है)

राजगिरा के नुकसान ? (What are the Side-Effects of Rajgira (Amaranth) in Hindi)

राजगिरा के बहुत से फायदे होते है, लेकिन कुछ मामलो में नुकसानदायक परिणाम हो सकते है। 

  • राजगिरा का अत्यधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इस वजह से पेट में ऐंठन, दर्द व पेट फूलने की समस्या हो सकती है। 
  • राजगिरा में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है और अत्यधिक कैल्शियम शरीर में हृदय रोग के जोखिम को बढ़ावा दे सकता है। इसलिए अत्यधिक सेवन करने से बचें। 
  • जिन लोगो को बीपी व किडनी स्टोन की समस्या है उनको राजगिरा का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।  (और पढ़े – किडनी स्टोन क्या है)
  • राजगिरा का अत्यधिक सेवन क्रोनिक बीमारियों व कैंसर जैसी बीमारियों को बढ़ावा दे सकता है। इसलिए कम मात्रा में सेवन करना चाहिए। 

हमें आशा है की आपके प्रश्न राजगिरा (चौलाई) के फायदे ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको राजगिरा के उपयोग से स्वास्थ्य में किसी तरह की अनियमियता हो रही है तो सामान्य चिकिस्तक (General Physician) से संपर्क कर सकते है। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best General Physician in Delhi

Best General Physician in Mumbai

Best General Physician in Bangalore 

Best General Physician in Chennai