जिंक के फायदे और नुकसान। Benefits and Side Effects of Zinc In Hindi.

Dr Delnaz Tabriz Chanduwadia

Dr Delnaz Tabriz Chanduwadia

Dietician and Nutritionist, Jaslok Hospital, 13 years of experience

अक्टूबर 10, 2020 Lifestyle Diseases 48954 Views

English हिन्दी Bengali العربية

जिंक का मतलब हिंदी में (Zinc Meaning in Hindi)

जिंक प्रकृति में पाया जाने वाला एक ऐसा खनिज है जो मनुष्य के लिए लाभकारी होता है। यह शरीर के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व माना जाता है क्योंकि यह शरीर को कोशिकाओं के अंदर जीन, डीएनए और प्रोटीन बनाने और प्रतिरक्षा कार्य करने जैसी कई प्रक्रियाओं को करने में मदद करता है। शरीर स्वाभाविक रूप से जस्ता का उत्पादन नहीं करता है और कभी-कभी, जिंक की गंभीर कमी मानव शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसलिए चिकिस्तक द्वारा लोगों को जिंक युक्त स्वास्थ्य पूरक लेने की सलाह दी जाती है। हालांकि, विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के माध्यम से जस्ता की पूर्ति आसानी से की जा सकती है। चलिए आपको इस लेख में जिंक के अच्छे खाद्य स्रोतों और जिंक की भूमिका के बारे में विस्तार से बताते हैं।

  • जिंक क्या है?  (What is Zinc in Hindi)
  • जिंक के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं? (Health Benefits of Zinc in Hindi)
  • कौन से खाद्य पदार्थ जिंक प्रदान करते हैं? (What Foods provide Zinc in Hindi)
  • जिंक का अनुशंसित सेवन क्या है? (What is the Recommended Intake of Zinc in Hindi)
  • जिंक के दुष्प्रभाव क्या हैं?  (Side Effects of Zinc in Hindi)

जिंक क्या है?  (What is Zinc in Hindi)

जिंक एक ऐसा खनिज है जो हमारी सभी कोशिकाओं में पाया जाता है और यह हमें स्वस्थ रहने में मदद करता है। मानव शरीर को विभिन्न प्रक्रियाओं जैसे प्रतिरक्षा कार्य, प्रोटीन के संश्लेषण, डीएनए के संश्लेषण, जीन अभिव्यक्ति और घावों के उपचार के लिए जस्ता की आवश्यकता होती है। गर्भवती महिलाओं और बच्चों को विशेष रूप से शरीर के उचित उन्नति व विकास के लिए जिंक की आवश्यकता होती है।

जिंक के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं? (Health Benefits of Zinc in Hindi)

मानव शरीर को मजबूत बनाने के लिए जिंक बहुत फायदेमंद होता है। यह प्रतिरक्षा को बढ़ाने और संक्रमण से लड़ने और कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में मदद करता है। यदि शरीर में जिंक की गंभीर कमी हो जाती है, तो प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। इसलिए अपने आहार में जिंक को शामिल करना जरूरी है।

  • यह संक्रमण और सांस की समस्याओं के जोखिम को कम करता है।
  • जिंक मलेरिया और अन्य परजीवियों के कारण होने वाली बीमारियों से बचाव करने में मदद करता है।
  • शोध के अनुसार मोतियाबिंद और रतौंधी जैसी नेत्र संबंधी समस्याओं के लिए भी जिंक फायदेमंद होता है।
  • जिंक अस्थमा, उच्च रक्तचाप के इलाज में कारगर होता है।
  • बच्चों में दस्त का इलाज जिंक की गोलियों से किया जा सकता है।
  • मुंहासों की समस्या को दूर करने में जिंक मुख्य भूमिका निभाता है। इसलिए अपनी त्वचा की स्थिति में सुधार के लिए अपने आहार में जिंक युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें। जिंक सल्फेट को मुंहासों और पिंपल्स के लिए एक कारगर इलाज माना जाता है।
  • सर्दी-जुकाम जैसी सामान्य समस्याओं के लिए जिंक कारगर साबित होता है।

(और पढ़े  – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए खाएं ये चीजें)

कौन से खाद्य पदार्थ जिंक प्रदान करते हैं? (What Foods provide Zinc in Hindi)

जिंक विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में पाया जाता है जो जिंक की जरुरी दैनिक आवश्यकता प्रदान कर सकते हैं।

  • मांसाहारी लोगों के लिए, मांस (लाल मांस), मुर्गी पालन, समुद्री भोजन जैसे सीप, केकड़ा और झींगा मछली जैसी चीजें आदि है। 
  • शाकाहारियों के लिए, साबुत अनाज, गढ़वाले नाश्ता अनाज, नट और डेयरी उत्पाद जैसे आइटम। शाकाहारियों द्वारा खाए गए कुछ बीन्स और अनाज में ऐसे यौगिक होते हैं जो इंक को शरीर द्वारा अवशोषित होने से रोकते हैं। इसलिए, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (एनआईएच) के अनुसार शाकाहारियों को अनुशंसित मात्रा से 50% अधिक जस्ता खाने की जरूरत है। 

(और पढ़े – लाल राजमा या राजमा के स्वास्थ्य लाभ और दुष्प्रभाव)

जिंक का अनुशंसित सेवन क्या है? (What is the Recommended Intake of Zinc in Hindi)

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) 1 के मुताबिक, आपकी उम्र के आधार पर प्रत्येक दिन मिलीग्राम (मिलीग्राम) में जस्ता की मात्रा की सिफारिश की जाती है।

जीवन स्तर  अनुशंसित राशि
जन्म से 6 महीने 2 मिलीग्राम
शिशु 7 -12 महीने 3 मिलीग्राम
शिशु 1–3 साल  3 मिलीग्राम
बच्चे 4–8 साल  5 मिलीग्राम
बच्चे 9–13 साल  8 मिलीग्राम
किशोर 14–18 साल  (लड़के) 11 मिलीग्राम
किशोर14–18 साल (लड़कियां) 9 मिलीग्राम
वयस्क (पुरुष) 11 मिलीग्राम
वयस्क (महिला 8 मिलीग्राम
गर्भवती किशोर 12 मिलीग्राम
गर्भवती महिलाएं 11 मिलीग्राम
स्तनपान कराने वाले किशोर 13 मिलीग्राम
स्तनपान कराने वाली महिलाएं  12 मिलीग्राम

 

जस्ता स्वास्थ्य की खुराक का कोई भी सेवन केवल पंजीकृत आहार विशेषज्ञ या आपके सामान्य चिकित्सक की सलाह के अनुसार होना चाहिए।

(और पढ़े – ठंड में क्या खाएं और क्या न खाएं?)

जिंक के दुष्प्रभाव क्या हैं?  (Side Effects of Zinc in Hindi)

कुछ लोगों में अत्यधिक मात्रा में जिंक लेने से कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे मतली, उल्टी, दस्त, गुर्दे की समस्याएं, पेट की समस्याएं।

अधिक जिंक के सेवन से जुड़ी कुछ अन्य समस्याएं हैं। 

  • बुखार, खांसी, थकान, पेट दर्द।
  • जिन लोगों को एड्स और एचआईवी है उन्हें जिंक का प्रयोग सावधानी से करना चाहिए। जिंक एड्स वाले लोगों के लिए संक्रमण के जोखिम को और बढ़ा सकता है। साथ ही मधुमेह वाले लोगों को कम मात्रा में जिंक का उपयोग करना चाहिए। अधिक जिंक का सेवन रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा सकता है।
  • गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए कम मात्रा में जिंक का सेवन करना सुरक्षित है। इसके अलावा इसे ज्यादा मात्रा में लेने से नुकसान भी हो सकता है।

(और पढ़े – गर्भवती महिलाओं के लिए डाइट प्लान)

हमें उम्मीद है कि हम इस लेख के माध्यम से जिंक के लाभ और दुष्प्रभावों के बारे में आपके प्रश्नों का उत्तर दे पाए हैं।

यदि आप जिंक की कमी के लिए खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं, तो कृपया आहार विशेषज्ञ से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल इस लेख के माध्यम से आपको जानकारी देना है और किसी भी तरह से दवा या उपचार की सिफारिश नहीं करते हैं। केवल एक डॉक्टर ही आपको सबसे अच्छी सलाह दे सकता है।

संदर्भ –

  1. राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (एनआईएच) आहार अनुपूरक कार्यालय

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox