कंडोम के उपयोग, लाभ व जानकारी। Condom in Hindi

Login to Health दिसम्बर 7, 2019 Lifestyle Diseases, Mens Health 8508 Views

हिन्दी Bengali

Condom Meaning in Hindi

कंडोम का उपयोग अनचाहे गर्भ से बचाव करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग करने से यौन संबंधित बीमारिया जैसे एड्स, एचआईवी, गोनोरिया, सिफलिस का जोखिम कम हो जाता है। हमारे भारत में 2016 में बहुत से लोग एड्स की बीमारी से पीड़ित पाए गए थे। जैसा की आप जानते है की एड्स बहुत ही संक्रामक बीमारी है। यह आपके यौन मार्ग से फैलती है। हालांकि एड्स को समाप्त करने के लिए अभी तक कोई दवा, उपचार उपलब्ध नहीं है। इसलिए इन बीमारियों से खुद की सुरक्षा करे और कंडोम का उपयोग करें। बहुत से लोग कंडोम के बारे में नहीं जानते होंगे या जानते भी है तो उनको उपयोग करने के बारे में पता नहीं होता है। कंडोम का उपयोग कर संभोग करने से यौन बीमारी से बचाव तो होता है बल्कि यौन सुख की प्राप्ति भी होती है। चलिए इस लेख में आपको कंडोम (Condom) के उपयोग, लाभ के बारे में विस्तार से बताया गया है।

  • कंडोम क्या है ? (Condom in Hindi)
  • कंडोम के प्रकार ? (Types of Condom in Hindi)
  • कंडोम का उपयोग करने का तरीका ? (How to use Condom in Hindi)
  • कंडोम के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Condom in Hindi)
  • कंडोम के नुकसान क्या ? (What are the Side-Effects of Condom in Hindi)

कंडोम क्या है ? (Condom in Hindi)

कंडोम रबड़ की सामग्री का एक पतला टुकड़ा है जो सेक्स के दौरान एक आदमी के लिंग पर फिट बैठता है। जब सही तरीके से उपयोग किया जाता है, तो कंडोम एचआईवी, साथ ही गर्भावस्था और अधिकांश एसटीआई को रोकता है। सबसे लोकप्रिय और सामान्य प्रकार का कंडोम एक पतली लेटेक्स (रबर) से बनाया गया है। कंडोम का उपयोग भारत में पहले इतना उपयोग में नहीं लाते थे। लेकिन जब से बीमारियों के बारे में सभी को पता चला तब से पुरुष कंडोम का उपयोग करने लगे। यह आपको और आपके साथी को यौन बीमारियों से बचाता है। कंडोम आपको किसी भी मेडिकल के दुकान पर आसानी से मिल सकता है।

कंडोम के प्रकार ? (Types of Condom in Hindi)

भारत में पुरुष के कंडोम के कई फ्लेवर मेडिकल पर उपलब्ध रहते है। जिसमे केला, चॉकलेट, वेनिला, सेब, स्ट्रॉबेरी, कॉफी आदि शामिल है। इस तरह के कंडोम ओरल सेक्स के दौरान एसटीडीटी के खतरे को कम करता है। (और पढ़े – केला के फायदे)

  • एलोवेरा कंडोम स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। यह कंडोम की तरह काम करता है क्योकि एलोवेरा काटने से चिकनाई व फिसलने वाले पदार्थ होते है जो सेक्स के दौरान दर्द व पीड़ा से बचाता है।
  • वॉर्म कंडोम आपको महिला साथी को गर्माहट देने में मदद करता है। ये कंडोम आपके साथी की उत्तेजना को बढ़ावा देता है।
  • अल्ट्रा थिन कंडोम पुरुष अधिक उपयोग करते है क्योकि यह संभोग के दौरान पुरुष सुखद अनुभव देता है। यह पतला और हर साइज में उपलब्ध रहता है।
  • बिग हेंड कंडोम सभी पुरुषो को फिट होते है क्योंकि पुरुषो लिंग एक साइज के नहीं होते है और जिन लोगो के लिंग बड़े है उनको बिग हेंड कंडोम का उपयोग करना चाहिए। इस बात का ध्यान रखे मुँह अधिक बड़ा न हो नहीं तो फटने का जोखिम हो जाता है।
  • एक्ट्रा लुब्रीकेटेड कंडोम उनके लिए सही है जिनकी साथी की योनि सूखापन अधिक रहता है क्योकि इस कंडोम में चिचिपा व फिसलने वाले द्रव लगे होते है जो दर्द व गिला करने का काम करता है।
  • डॉट्स कंडोम में छोटे छोटे डॉट्स बने होते है। यह महिला को बहुत आनंद देता है और योनि में चिकनापन बढ़ता है। इसके अलावा संभोग काफी उत्साह भरा रहता है।
  • रिब्ड कंडोम एक ऐसा कंडोम जो महिला के उत्तेजना को बढ़ाने का काम करता है। अगर आप अपने साथी के साथ कोई यादगार पल बिताना चाहते है तो यह कंडोम अच्छी संतुष्टि देता है है।
  • अनफ्लेवर कंडोम यौन सुरक्षा के लिए उपयोग किया जाता है। ताकि आप अपने साथी को गर्भवती होने से बचाव कर सके एव बीमारियों से रोकथाम कर सके।

कंडोम का उपयोग करने का तरीका ? (How to use Condom in Hindi)

कंडोम का उपयोग करने के निम्न तरीका है।

  • कंडोम की सही तारिक जांच कर ध्यान से रैपर से कंडोम को खोलें और निकालें।
  • कंडोम को सीधा, कठोर लिंग के सिर पर रखें। अगर खतना नहीं हुआ है, तो सबसे पहले चमड़ी को पीछे खींचें।
  • कंडोम की नोक से चुटकी भर हवा तरह निकाले।
  • लिंग को हर तरह से कंडोम के नीचे उतारें।
  • सेक्स के बाद लेकिन बाहर खींचने से पहले, कंडोम को बेस पर पकड़ें। फिर कंडोम को जगह पर रखते हुए, बाहर खींचें।
  • कंडोम को सावधानी से हटाएं और कूड़ेदान में फेंक दें।
  • अगर कंडोम फट गया है तो गर्भावस्था से बचने के लिए पांच दिनों के भीतर पिल्स का उपयोग करे।

कंडोम के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Condom in Hindi)

  • कंडोम के निम्नलिखित लाभ है जो एड्स जैसी गंभीर बीमारियों से बचाव करता है। कंडोम आपको मेडिकल पर आसानी से मिल जायेगा और आप चाहे तो ऑनलाइन पर आर्डर कर मगवा सकते है।
  • कंडोम के निम्नलिखित लाभ है जो एड्स जैसी गंभीर बीमारियों से बचाव करता है। कंडोम आपको मेडिकल पर आसानी से मिल जायेगा और आप चाहे तो ऑनलाइन पर आर्डर कर मगवा सकते है। (और पढ़े – नीम का उपयोग संक्रमण दूर करने में)
  • कंडोम जन्म नियंत्रण को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा यौन संक्रमण को रोकता है।
  • केमिस्ट की दुकान पर आसानी से आप ले सकते है। कंडोम की अधिक कीमत नहीं होती है और कंडोम लेने के लिए आपको किसी डॉक्टर के पर्चे की जरुरत नहीं होता है।
  • कंडोम अलग अलग फ्लेवरों और साइज में उपलब्ध है। कंडोम सेक्स आनंद को बढ़ावा देता है इसमें लुबिक्रेत चिकनाई पदार्थ होता है।
  • कंडोम के कोई दुष्परिणाम नहीं होता है। हालांकि गलत साइज़ के उपयोग करने से फट सकते है। इसलिए सही साइज़ के कंडोम का उपयोग करें।

कंडोम के नुकसान क्या ? (What are the Side-Effects of Condom in Hindi)

  • कई पुरुषो की शिकायत रहती है कंडोम का उपयोग करने से उत्तेजना में कमी आ जाती है। इसका कारण आप सही साइज़ की कंडोम का उपयोग नहीं करते है।
  • गलत तरीके से कंडोम का उपयोग करने से कंडोम खराब व फट जाते है।
  • कुछ पुरुषो के अनुसार कंडोम मूड करता है और उत्तेजना को कम कर पुनः पहली क्रिया में आ जाता है।
  • कंडोम धर्षण को बढ़ाता है और अधिक धर्षण लिंग के प्रवेश को कम करता है।
  • लेटेक्स से एलर्जी कंडोम के इस्तेमाल और एक सीमा होती है। आप तेल का उपयोग करने के बाद कंडोम का उपयोग सही नहीं रहता है।

और पढ़े – महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के तरीके। Ways to Increase Libido in Women in Hindi

और पढ़े – पुरुषो में कामेच्छा की कमी। Low Libido in Men in Hindi

अगर आपको कंडोम से जुडी कोई सवाल या समस्या है तो आपको किसी अच्छे सेक्सोलोजी या यूरोलॉजी (Urologists or Sexologists) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Top Urologist in Mumbai

Top Urologist in Gurgaon

Top Urologist in Chennai

Top Urologist in Bangalore