कोरोना वायरस संक्रमण क्या है। Coronavirus in Hindi

Login to Health जनवरी 27, 2020 Lifestyle Diseases 6752 Views

हिन्दी

Coronavirus Meaning in Hindi

कोरोना वायरस संक्रमण एक तरह का ऐसा संक्रमण है जो कोरोनाविरिडाई परिवार का माना जाता है। इस संक्रमण की शुरुवात चीन के वुहांग प्रांत से हुई थी लेकिन चीन के लोगो के संपर्क आने से अन्य देशो के लोग भी इस वायरस की चपेट में आ जा रहे है। हालांकि (WHO) वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन ने इस संक्रमण से सतर्कता अपनाने की सलाह दी है। सब सोच रहे होंगे आखिर ये होता कैसे है तो बता दे यह संक्रमण जानवर से मनुष्य में श्वसन प्रक्रिया के माध्यम से फ़ैल जाता है। अगर व्यक्ति कोरोना वायरस से प्रभावित है, तो उस व्यक्ति के संपर्क में स्वस्थ व्यक्ति के आने से यह वायरस उसे भी प्रभावित कर देता है। इसलिए अगर आपके घर में किसी को भी खांसी या सर्दी या बुखार जैसी समस्या नजर आ रही है तो तुरंत चिकिस्तक से संपर्क करे, क्योंकि सर्दी-जुखाम, बुखार कोरोना वायरस के लक्षण में आते है। कोरोना वायरस के लिए कोई खास उपचार अभी तक उपलब्ध नहीं हुआ है किंतु इसपर वैक्सीन बनाने की खोज जारी है। हालांकि इस वायरस के लक्षणो को कम करने का चिकिस्तक प्रयास करते है। भारत की बात करे तो अभी तक कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य को लेकर सावधानी बर्तनी चाहिए। चलिए आपको इस लेख में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के बारे में विस्तार से जानकारी बतायेंगे।

  • कोरोना वायरस संक्रमण के कारण क्या है ? (What are the Causes of Coronavirus in Hindi)
  • कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Coronavirus in Hindi)
  • कोरोना वायरस संक्रमण का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Coronavirus in Hindi)
  • कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Coronavirus in Hindi)

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण क्या है ? (What are the Causes of Coronavirus in Hindi)

कोरोना वायरस संक्रमण सर्दी-जुखाम के जरिये लोगो को अपना शिकार बना रही है, क्योंकि वातावरण में संक्रमित बूंदे किसी व्यक्ति के संपर्क में आता है तो कोरोना वायरस संक्रमण उसे भी हो जाता है। इसके अलावा संक्रमित के खांसने व छींकते समय स्वस्थ व्यक्ति के संपर्क में आने से हो जाता है। अगर हवा कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित हो जाती है, तो उस हवा में स्वस्थ व्यक्ति के श्वास लेने से व्यक्ति संक्रमित हो सकता है। यह संक्रमण केवल श्वसन प्रणाली को प्रभावित नहीं करता बल्कि शरीर के कोशिकाओ को क्षति पहुंचाता है। ऐसे में व्यक्ति को छींक अधिक आना, श्वास मार्ग में कठिनाई, सूजन बढ़ने का जोखिम रहता है।

  • व्यक्ति से व्यक्ति में फैलने का मुख्य कारण हाथ मिलाना, कपड़ो का साझा करना आदि है। इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के कुछ निम्न कारण हो सकते है।
  • संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिला लेना।
  • संक्रमित व्यक्ति की चीजों को साझा करना।
  • कुछ मामलो में जानवरो के मल दूषित वस्तुओं के संपर्क में आने से फ़ैल सकता है। (और पढ़े – हैजा का उपचार)
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ रहना व बात करना।
  • संक्रमित व्यक्ति के खांसने व छींकने के बाद उस हवा श्वास लेने से फैलता है।

कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण क्या है ? (What are the Symptoms of Coronavirus in Hindi)

कोरोना वायरस संक्रमण श्वसन तंत्र को इन्फेक्शन के रूप में प्रभावित करता है। जैसा की आपको पता है मौसम के बदलने पर व्यक्ति को सर्दी-जुखाम हो जाता है। कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण बहुत सामान्य होते है, जो लोगो में कभी न कभी नजर आते रहते है। चलिए आपको कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण के बारे में बताते है।

  • खांसी और कफ की समस्या।
  • नाक बहना।
  • निमोनिया।
  • ब्रॉन्काइटिस।
  • सिर में तेज दर्द होना। (और पढ़े – मस्तिष्क की चोट)
  • गला खराब हो जाना।
  • बुखार होना।
  • थकान और उल्टी महसूस होना।
  • सांस लेने में कठिनाई होना।

कोरोना वायरस संक्रमण का उपचार क्या है ? (What are the Treatments for Coronavirus in Hindi)

कोरोना वायरस संक्रमण का कोई विशेष उपचार उपलब्ध नहीं है, किंतु इसपर शोध जारी है। इस संक्रमण से प्रभावित कुछ लोग अपने आप ठीक हो जाते है। कुछ लोगो में यह वायरस गंभीर रूप से होने पर चिकिस्तक इसके लक्षण को कम करने के लिए दवाइयों की खुराक देते है ताकि लक्षण को कम किया जा सके। इसके अलावा चिकिस्तक मरीज को कुछ निम्न सुझाव दे सकते है।

  • अगर मरीज के शरीर में तरल पदार्थ की कमी है तो उसे अधिक पानी पीने की सलाह देते है। (और पढ़े – डिहाइड्रेशन क्यों होता है)
  • बुखार होने पर पेरासिटामोल जैसे दवाएं की खुराक दे सकते है।
  • गले में दर्द को कम करने के लिए कुछ एंटीबायोटिक दवाएं की खुराक दे सकते है।
  • मरीज को बीमार की अवस्था में अधिक आराम करने की सलाह देते है ताकि मरीज स्वस्थ रूप से ठीक हो सके।
  • हालांकि कोरोना वायरस के कुछ ऐसे भी मामले है जिनमे कई लोगो ने अपनी जान गवा दी है। इसलिए इस वायरस से प्रभावित लोगो को तुरंत अस्पताल में भर्ती करवा कर संक्रमण को फैलने से रोकने व लक्षण कम करने का प्रयास करते है। इसके अलावा कोई व्यक्ति के शरीर में लक्षण नजर आ रहे है तो चिकिस्तक से तुरंत संपर्क करे।

कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Coronavirus in Hindi)

कोरोनावायरस का कोई सटीक उपचार या टीकाकरण अभी तक उपलब्ध नहीं है। इस संक्रमण के संपर्क में आने से खुद की रक्षा करना एक बेहतर तरीका है। जैसा की आपको पता है, यह वायरस बहुत तेजी से लोगो को अपना शिकार बना रही है। इस संक्रमण से बचाव करने के लिए कुछ तरीके अपना सकते है।

  • जैसे: ऐसे स्थान पर घूमने के लिए न जाये जहा पर कोरोना वायरस अधिक फैला हो।
  • अगर किसी संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिला लिया है, तो अपने हाथो अच्छे से धो ले।
  • आपने अनजाने में किसी दूषित वस्तु को हाथ लगा दिया हो तो अपने हाथो की सफाई करने के बाद ही मुंह व कान, नाक को स्पर्श करे।
  • यदि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से प्रभावित है तो उससे थोड़ी दूरी बनाये रखे ताकि आपको न हो पाए।
  • अगर आपको हल्की खासी जुखाम व बुखार की समस्या हो रही है तो बिना किसी देरी के चिकिस्तक से संपर्क करें। (और पढ़े – स्वाइन फ्लू के कारण)

कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में अधिक जानकारी एव उपचार के लिए श्वसन रोग विशेषज्ञ (ENT Specialist) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य आपको रोगो के प्रति जानकारी देना है हम आपको किसी तरह के दवा, उपचार, सर्जरी की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक दे सकता है क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा नहीं होता है।