क्रायो चिकित्सा क्या हैं। Cryotherapy in Hindi

अप्रैल 19, 2021 Lifestyle Diseases 1111 Views

हिन्दी

क्रायो चिकित्सा का मतलब हिंदी में,   (Cryotherapy Meaning in Hindi)

क्रायो चिकित्सा क्या हैं ? 

क्रायो थेरेपी को दूसरे शब्दो में कोल्ड थेरेपी कहा जा सकता है। यह एक तरह का उपचार है जिसमे असामान्य ऊतक को जमने और नष्ट करने के लिए शरीर कुछ मिनट के लिए अधिक ठंडे तापमान पर रखा जाता है। हालांकि अत्यधिक ठंड बनाने के लिए चिकिस्तक तरल नाइट्रोजन या आर्गन गैस जैसे पदार्थ का उपयोग करते है। क्रायोथेरेपी का उपयोग विभिन्न प्रकार की त्वचा की स्थिति और कुछ कैंसर के इलाज के लिए किया जा सकता है, जिसमें प्रोस्टेट और यकृत कैंसर शामिल हैं। यह थेरेपी बाहरी (त्वचा पर) और आंतरिक रूप से (शरीर के अंदर) ऊतक दोनों का उपचार कर सकती है। क्रायो थेरेपी का उपयोग खेल से जुड़े लोग अधिक करते है ताकि प्रभावित अंगो से गर्मी बाहर निकाला जा सके। चलिए आज के लेख में आपको क्रायो चिकित्सा क्या हैं के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं।

  • क्रायो थेरेपी कैसे की जाती हैं ? (What are the Procedure of Cryotherapy in Hindi)
  • क्रायोथेरेपी की तैयारी कैसे करनी चाहिए? (How should prepare for cryotherapy in Hindi)
  • क्रायो थेरेपी के फायदे क्या हैं ? (What are the Benefits of Cryotherapy in Hindi)
  • क्रायो थेरेपी के नुकसान क्या हैं ? (What are the Side-Effects of Cryotherapy in Hindi)

क्रायो थेरेपी कैसे की जाती हैं ? (What are the Procedure of Cryotherapy in Hindi)

त्वचा विशेषज्ञ के मुताबिक क्रायो थेरेपी मुख्य तौर तिन तरीको से किया जाता है। 

  • पहले तरीके में त्वचा के मस्से व त्वचा में असामन्य वृद्धि के लिए उपयोग किया जाता है इस प्र्क्रया में चिकिस्तक रुई के टुकड़ो को नाइट्रोजन में भीगा देते है और वृद्धि वाली त्वचा पर सीधे लगाते है ताकि त्वचा को जमाया जा सके। 320 तापमान पर तरल नाइट्रोजन पर क्रायोजेन उपलब्ध रहता है। इस तकनीक का मुख्य उद्देश्य त्वचा में उस जगह को तुरंत जमाना फिर धीरे धीरे पिघलाना ताकि उस जगह की कोशिका क्षतिग्रस्त हो सके। त्वचा की वृद्धि के आधार पर दूसरी प्रक्रिया किया जाता है। (और पढ़े – पी आर पी थेरेपी क्यों की जाती है)
  • दूसरी प्रक्रिया में तरल नाइटोजन व क्रायोजन को त्वचा सीधे स्प्रे किया जाता है। हालांकि यह जमाव लगभग पांच से बिस सेकेंड तक रह सकती है। इस प्रक्रिया में त्वचा की वृद्धि के आधार पर दूसरा सत्र किया जाता है। कुछ मामलो में चिकिस्तक थर्मामीटर से जुडी पतली सुई को घाव में प्रवेश कर जांच करते है। घाव का जमाव ठीक से हुआ है या नहीं। 
  • तीसरी प्रक्रिया में तरल नाइटोजन व अन्य क्रायोजन को किसी यंत्र में डाला जाता है और इस यंत्र को त्वचा पर सीधे प्रयोग किया जाता है। इस यंत्र के जरिये त्वचा के भाग को फ्रिज किया जाता है। हालांकि दूसरी प्रक्रिया की तुलना में थोड़ा अधिक समय लगता है। (और पढ़े – ग्रुप थेरेपी कैसे की जाती हैं)

क्रायोथेरेपी की तैयारी कैसे करनी चाहिए? (How should prepare for cryotherapy in Hindi)

  • अधिकतर लोगो को त्वचा पर क्रायोथेरेपी कराने की तैयारी के लिए कुछ विशेष करने की जरूरत नहीं है। मरीज को क्रायोथेरेपी से पहले तैयारी के लिए चिकिस्तक निम्न सुझाव देते है ताकि मदद हो सके। 
  • यदि मरीज एस्पिरिन या रक्त पतला करने वाली कुछ दवाएं का सेवन करता है तो आंतरिक क्रायोसर्जरी से कुछ दिन पहले इन दवाओं नहीं करना चाहिए। इसके अलावा थेरेपी के पहले अत्यधिक खाना पीना नहीं है बल्कि सिमित मात्रा में करना चाहिए। प्रक्रिया होने के बाद घर चलाकर जाना है इसकी योजना बनाना शामिल है।(और पढ़े – कीमोथेरेपी कैसे की जाती हैं)
  • अगर कोई व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है उनको क्रायो थेरेपी नहीं करवाने की सलाह दी जाती है। (और पढ़े – डायबिटीज के आयुर्वेदिक उपचार)

क्रायो थेरेपी के फायदे क्या हैं ? (What are the Benefits of Cryotherapy in Hindi)

क्रायो थेरेपी के निम्नलिखित फायदे है। चलिए आगे बताते है। 

  • खेल के बाद खिलाड़ियों को जल्दी ठीक होने में क्रायो थेरेपी फायदेमंद होता है। 
  • माइग्रेन के लक्षण को कम करने में क्रायो थेरेपी फायदेमंद होता है। 
  • किसी तरह के दर्द को जल्दी रिकवर करने में क्रायो थेरेपी उपयोगी होता है। 
  • शरीर के गंभीर फैट को दूर करने के लिए व मोटापा कम करने में क्रायो थेरेपी मददगार होता है। (और पढ़े – वजन कम करने के लिए अलसी के बीज के फायदे)
  • जीर्ण रोगो से जुडी समस्या को दूर करने में क्रायो थेरेपी फायदेमंद होता है। 
  •  त्वचा से जुडी समस्या को ठीक करने में क्रायो थेरेपी प्रभावी होता है। 
  • क्रायो थेरेपी रक्त संचार को सही करता है साथ ही टिश्यू तक ऑक्सीजन व पोषक पहुंचाने की क्रिया में सुधार करता है। 
  • मांसपेशियो के दर्द से छुटकारा दिलाने में क्रायो थेरेपी सहायक माना जाता है। खिलाडी मांसपेशियो के दर्द से जल्दी निजात पाने के लिए क्रायो थेरेपी का उपयोग करते है। (और पढ़े – स्पीच थेरेपी क्या हैं)

क्रायो थेरेपी के नुकसान क्या हैं ? (What are the Side-Effects of Cryotherapy in Hindi)

क्रायो थेरेपी में कोई बड़ी जटिलता नहीं होती है लेकिन कुछ निम्न जोखिम हो सकते है। 

हालांकि ये समस्याएं 24 घंटे के बाद ठीक हो जाती है. लेकिन यह समस्या अधिक समस्या तक रहती है, तो अपने चिकिस्तक से संपर्क करें। 

हमें आशा है की आपके प्रश्न क्रायो चिकित्सा क्या हैं ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको क्रायो चिकित्सा के बारे में अधिक जानकारी व इलाज करवाना हो, तो (General Surgeon) संपर्क कर सकते है। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best General Surgeon in Delhi

Best General Surgeon in Mumbai

Best General Surgeon in Chennai

Best General Surgeon in Bangalore


Login to Health

Login to Health

लेखकों की हमारी टीम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को समर्पित है। हम चाहते हैं कि हमारे पाठकों के पास स्वास्थ्य के मुद्दे को समझने, सर्जरी और प्रक्रियाओं के बारे में जानने, सही डॉक्टरों से परामर्श करने और अंत में उनके स्वास्थ्य के लिए सही निर्णय लेने के लिए सर्वोत्तम सामग्री हो।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox