दांत में कीड़े लगने के घरेलू उपचार। Dant me Kida lagne ke Gharelu Upchar in Hindi

Login to Health दिसम्बर 24, 2019 Lifestyle Diseases 7282 Views

हिन्दी

Dant me Kida Lagne ka Meaning in Hindi

आजकल दांतो से जुडी समस्या सभी को होती है। इसका मुख्य कारण दांतो की ठीक से देखभाल न करना होता है। इस वजह दांतो में अनेको प्रकार की समस्या होती है, जिसमे दांतों में कीड़े लगने की स्थिति बहुत मामले में गंभीर होती है। दांतो में कीड़े तब लगते है जब दांतो की सतह में छोटे-छोटे छेद होने लगते है और दांतों को नष्ट करने लगते है। अगर आपके दांतो में कैविटी की समस्या अधिक गंभीर हो गयी है तो आपको दन्त चिकिस्तक से संपर्क करना चाहिए। हालांकि अगर आपके दांतो में कैविटी की समस्या शुरू हो रही है तो आप घरेलु उपचार की सहायता से ठीक कर सकते है। इस लेख में दांत को कीड़े से बचाव करने के लिए कुछ घरेलु उपचार के बारे में बताया गया है।

दांत में कीड़े लगने के घरेलू उपचार क्या है ? (Dant me Kida lagne ke Gharelu Upchar in Hindi)

दांतो में कीड़े लगने के निम्नलिखित घरेलू उपचार है।

  • कैविटी की समस्या को कम करे टूथपेस्ट बनाये – आपको घर में टूथपेस्ट बनाने के लिए कुछ प्राकृतिक सामग्री की जरुरत पड़ेगी जो आपके घर में आसानी से उपलब्ध रहती है। यह टूथपेस्ट आपके दांतो को किसी तरह का नुकसान नहीं करता है। इस टूथपेस्ट को बनाने के लिए एक चम्मच काला नमक, एक चम्मच स्वीटिया, एक चम्मच बेकिंग सोडा, एक कप नारियल तेल, इन सबको मिलाकर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को अपने रोजन पेस्ट की जगह पर दांतो पर लगाए। (और पढ़े – दांतो में सड़न)
  • सैल्मन मछली का सेवन करे – सैल्मन मछली में अच्छी मात्रा में विटामिन डी पाया जाता है। यह मुँह के स्वास्थ्य को अच्छा बनने में मदद करता है। यह मछली हमारे स्वास्थ्य को अच्छी मात्रा में कैल्शियम देता है। यह दांतों के लिए लाभदायक होता है और दांतो को मजबूत कर कीड़े लगने से बचाता है। इसलिए दांतो के लिए सुपरफूड कहा जाता है। जिन लोगो को दांतों में कीड़े लगने की समस्या है तो इस मछली को अपने आहार में जरूर शामिल करे।
  • दही करे बेहतरीन उपचार – एक अध्ययन में दही को दांतो का सबसे अच्छा उपचार बताया गया है। यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद तो होता है बल्कि कीड़े लगने की समस्या को कम करता है। जो लोग दही का सेवन करते है उनके मसूड़े और दांत दोनों मजबूत रहते है, उनको मसूड़ों से संबंधित समस्या या कीड़े व फोड़ा की समस्या का जोखिम नहीं रहता है। दही में अच्छी मात्रा में कैल्शियम मौजूद होता है जो दांतो को स्वस्थ और मजबूत बनाता है।
  • ब्लैक टी करे दांतो से कीड़े को दूर – रोजाना ब्लैक टी का सेवन करने से दांतो से जुडी समस्या कम होती है और मसूड़े मजबूत होते है। कुछ शोध के अनुसार ब्लैक टी को दांतो की सड़न की समस्या कम होती है। ब्लैक टी में अच्छी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो मसूड़ों को मजबूत व सड़न से बचाव करता है। ब्लैक टी के लिए एक बैग टी का गर्म पानी में डालकर उसमे शहद मिलाकर पीये। इससे दांतो की समस्या कम होती है। (और पढ़े – ग्रीन टी क्या है)
  • एलोवेरा का उपयोग – एलोवेरा स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है। ऐलोवेरा में बहुत से एंटीऑक्साइड व प्रोटीन पाया जाता है। यह शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। इसके अलावा बहुत से रोगो से बचाव करता है। एलोवेरा तेल दांतो पर लगाने से दांत के कीड़े मर जाते है। दांत पुनः अपने स्थिति में आ जाते है। एलोवेरा जेल में एंटीबायोटिक गुण होता है जो कीटाणु को नष्ट कर कर दांतो की सड़न को कम करता है। एलोवेरा का उपयोग करने के लिए एलोवेरा की पत्तियों को काट ले। इसमें से जेल को एक कटोरी में निकाल ले। फ्रिज में रख दे कुछ देर के लिए इसके बाद उंगली की मदद से प्रभावित दांत की जगह पर लगाए। दस मिनट बाद पानी से कुल्ला करे।
  • ऑयल पुल्लिंग करे इलाज – तेल लगाकर गरारे करने की प्रक्रिया को ऑयल पुल्लिंग कहते है। ऑयल पुल्लिंग करने से मुँह का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। इससे शरीर के विषाक्त रोगाणु मुँह में उपन्न रहते है। ऑयल पुल्लिंग की प्रक्रिया से विषाक्त रोगाणु को कम किया जाता है। इससे कैविटी की समस्या भी कम होती है। इसके लिए आपको तिल के तेल और नारियल तेल की जरूरत होती है। नारियल तेल व तिल को दांतो में लगा ले और 15 से 20 मिनट को छोड़ दे। पानी से कुल्ला कर ले। इस प्रक्रिया के बाद अपने टूथपेस्ट से दांतो की सफाई करें।
  • मुलेठी का उपयोग दांतो के कीड़े दूर करने के लिए – मुलेठी एक ऐसी जड़ी बूटी है जो कई तरह की बीमारियों के उपचार में उपयोग करते है। मुँह में मौजूद बैक्टीरिया को ख़त्म करने के लिए मुलेठी का उपयोग फायदेमंद रहता है। कुछ अध्ययन में मुलेठी की गोली व चूरन दांतो के लिए अच्छा होता है। यह दांतो की बैक्टीरिया व संक्रमण की समस्या को कम करने में मदद करता है। मुलेठी का उपयोग करने के लिए मुलेठी की लकड़ी को पीसले और कुछ बूंद पानी मिलाकर दांतो पर घसने से दांतो की समस्या कम होती है। (और पढ़े – नीलगिरी तेल के फायदे)
  • नमक पानी दांतो की समस्या को कम करे – अगर आपको दांतो में किसी तरह की समस्या हो रही है तो थोड़े गुनगुने पानी में नमक डालकर कुल्ला करे, इससे दांतो में स्थित रोगाणु नष्ट हो जाते है। दांतो में कैविटी से संबंधित विकार की संभावना कम हो जाती है। बहुत से शोध में नमक पानी से कुल्ला करने पर दांतो की समस्या कम होती है। बहुत पुराने ज़माने से लोग इस घरेलु उपचार का उपयोग करते आ रहे है। इसके बाद अपने टूथपेस्ट से दांतो की सफाई करते है। हालांकि दांत स्वस्थ रहने पर रोजाना नमक पानी से कुल्ला न करे।

अगर आपको दांतों से जुडी किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप किसी अच्छे Dentist से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।