डिप्रेशन क्यों होता है और इसके लक्षण क्या हैं। Depression in Hindi

Login to Health जुलाई 14, 2020 Lifestyle Diseases 9137 Views

English हिन्दी Tamil العربية

Depression Meaning in Hindi

आजकल लोग अपने कामो में इतना व्यस्त हो जाते हैं कि कुछ समय के बाद डिप्रेशन का शिकार होने लगते हैं। हालांकि यह एक मानसिक बीमारी है जो कुछ देर रहने के बाद अपने आप ठीक हो जाती हैं, किंतु कुछ लोगो में डिप्रेशन जटिलता का रूप ले लेता हैं। ऐसे, लोग के मन में केवल निराशा, दुख भर जाता है, जिसके कारण वह अपने रोजमर्रा के काम ठीक से नहीं कर पाता हैं। जैसा की आपको पता है कोरोना महामारी के कारण लोगो को अपने घरो में रहकर काम करना पड़ रहा है, इस कारण बहुत से लोग अपने परिवाजनों, मित्रो व रिश्तेदारों से नहीं मील पा रहे है। इसके अलावा बीमारी से परिवार की सुरक्षा एव बिगड़ती आर्थिक स्तिथि को लेकर बहुत चिंतित रहने लगे है और यही कारण है की व्यक्ति अवसाद का शिकार होते जा रहा है।हालांकि कुछ लोग डिप्रेशन की समस्या को हल्के में लेते है उनको लगता है यह समस्या अपने आप ठीक हो जाएंगी, किन्तु ऐसा नहीं होता है। यदि व्यक्ति को किसी तरह की समस्या है तो उसका उपाय चिकिस्तक से बेहतर कोई नहीं दे सकता हैं।

कुछ शोध के अनुसार पूरी दुनिया में 34 करोड़ लोग डिप्रेशन से पीड़ित है। डिप्रेशन होने पर कुछ लक्षण जैसे लगातार चिंता करना, गुस्सा आना, शरीर को नुकसान पहुंचना व आत्महत्या की कोशिश करना इत्यादि नजर आते हैं। इसके अलावा 18 से 34 की उम्र में व्यक्ति अधिक तनाव महसूस करता हैं।

तनाव में रहने वाला व्यक्ति अपने परिस्तिथियों का सामना नहीं कर पाता है और कोई भी गलत विकल्प चुन लेता हैं। जैसा की कुछ दिन पहले आपने बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की खबर देखी होगी। जिसमे उनकी मृत्यु मानसिक तनाव के कारण बताई गयी है। यदि आप मानसिक बीमारी से जूझ रहे है, तो आपको मानसिक स्वास्थ्य चिकिस्तक से सहायता ले सकते हैं, ताकि मानसिक तनाव से खुद को बचाया जा सके। चलिए आज के लेख में आपको (Depression) डिप्रेशन के बारे में विस्तार से बताएंगे।

  • डिप्रेशन के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Depression in Hindi)
  • डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Depression in Hindi)
  • डिप्रेशन के परीक्षण ? (Diagnoses of Depression in Hindi)
  • डिप्रेशन का उपचार क्या हैं ? (What are the Treatments for Depression in Hindi)
  • डिप्रेशन से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Depression in Hindi)

डिप्रेशन के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Depression in Hindi)

डिप्रेशन का सटीक कारण अभी तक ज्ञात नहीं है, लेकिन लोगो के लक्षण के आधार पर उपचार करने का प्रयास करते है। हालांकि कुछ सामान्य कारण तनाव पैदा कर सकते है। आइए विस्तार से जानते हैं।

  • कुछ लोगो में अनुवांशिक कारण होने से डिप्रेशन की समस्या होती हैं।
  • दिमाग में परिवर्तन होने रोजाना के कार्यो को करने में बाधा उत्पन्न होने लगती है। हार्मोन के असंतुलन होने से शरीर पर प्रभाव पड़ने लगता है और डिप्रेशन की संभावना बढ़ जाती हैं।
  • पारिवारिक समस्या होने के कारण कुछ लोग तनाव में चले जाते है। जैसे पढ़ाई हो, काम हो या शादी का मामला इत्यादि।

डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Depression in Hindi)

डिप्रेशन के लक्षण प्रकार के आधार पर भिन्न-भिन्न होते है। मनुष्य की विचारो और भावनाओं को प्रभावित करता है, यह आपके कामो को भी प्रभावित करता है। चलिए विस्तार से लक्षण के बारे में बताते हैं।

  • थकान महसूस होना।
  • उदासी।
  • बेचैनी।
  • चिड़चिड़ापन।
  • क्रोध आना।
  • दुख।
  • हताश होना।
  • सोचने व निर्णय लेने में कठिनाई आना।
  • काम करने में असमर्थ होना।
  • अपराधी मानना।
  • दवा व शराब का अधिक सेवन।
  • सिरदर्द व शरीर में दर्द महसूस करना।
  • मांसपेशियो में दर्द होना।
  • दुसरो से अलग होना।
  • बहुत अधिक नींद लगना व नींद न आना। (और पढ़े – नींद न आने की समस्या)
  • कोई गतिविधि में भाग न लेना।

डिप्रेशन के परीक्षण ? (Diagnoses of Depression in Hindi)

डिप्रेशन का निदान करने के लिए निम्न परीक्षण कर सकते हैं।

  • सबसे पहले चिकिस्तक शारीरिक परीक्षण कर सकते है, इसमें स्वास्थ्य संबंधित सवाल पूछ सकते है ताकि शारीरिक समस्या का कारण जान सके।
  • लैब परीक्षण में चिकिस्तक रक्त परीक्षण कर सकते है ताकि अंदुरनी बीमारी का पता लगा सके।
  • व्यक्ति के लक्षण के आधार पर चिकिस्तक मनोचिकिस्तक संबंधित सवाल पूछ सकते हैं।

डिप्रेशन का उपचार क्या हैं ? (What are the Treatments for Depression in Hindi)

डिप्रेशन एक मानसिक बीमारी है जिसका उपचार प्रकार के आधार पर किया जा सकता है। जिसमे समर्थन, साइकोथेरेपी, दवाइयों से इलाज शामिल हैं।

  • डिप्रेशन से बाहर निकालने के लिए व्यक्ति को विश्वाश और अच्छे व्यवहार की जरूरत होती है। जिससे व्यक्ति अच्छा महसूस करने लगता है और तनाव को कम पाता हैं।
  • साइकोथेरेपी में टॉकिंग थेरेपी, कोनगिनिटीवे थेरेपी, इंटरपर्सनल थेरेपी व सामान्य उपचार आदि हैं। यह सभी थेरेपी अवसाद को ठीक करने के लिए किया जाता हैं।
  • डिप्रेशन को दूर करने के लिए कुछ दवाई लेने की सलाह देते है। लेकिन इन दवाओं को बच्चों को नहीं देना चाहिए केवल किशोरों के लिए उपयोग में ला सकते हैं।
  • आप अपनी दिनचर्या को सुधारने के लिए रोजाना व्यायाम व भोजन में संतुलित आहार लेना चाहिए। ताकि शरीर को मजबूत बना सके। (और पढ़े – सुबह दौड़ने के फायदे)
  • अवसाद के निम्नलिख्तित आयुर्वेदिक उपचार है। (और पढ़े – डिप्रेशन को रोकने के लिए आयुर्वेदिक उपचार)

डिप्रेशन से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Depression in Hindi)

डिप्रेशन से बचाव करने के लिए कुछ निम्न उपाय अपना सकते हैं।

  • डिप्रेशन को दूर रहने के लिए थोड़ा मधुर संगीत सुन सकते है। लेकिन उदास गानो को न सुने केवल ख़ुशी वाले सुने ताकि दिमाग में डिप्रेशन कम किया जा सके। (और पढ़े – Natural Treatments of Depression)
  • डिप्रेशन से बचने के लिए लोगो को जल्दी सोने व जागने की आदत डालना चाहिए। सोने से पहले लैपटॉप व मोबाईल को न देखें क्योंकि तनाव उत्पन्न करने का कारण बन सकता है।
  • डिप्रेशन से बाहर निकलने के लिए अपने मन पसंद के कार्य करे जिसमे आपकी रूचि अधिक है। इससे तनाव को दूर किया जा सकता हैं।
  • आप कुछ अपनी धार्मिक पुस्तकें पढ़कर व भजन सुनकर अपने मन को शांत कर सकते हैं।
  • डिप्रेशन को दूर रखने के लिए व्यक्ति को रोजाना सुबह शाम टहलना व व्यायाम, योगा करना चाहिए। इससे व्यक्ति का स्वास्थ्य अच्छा और दिमाग शांत रहता हैं।
  • डिप्रेशन को दूर रखने के लिए भोजन में पौष्टिक आहार ले। इसके अलावा दिन में अधिक पानी पीये।
  • कैफीन यानि चाय, कॉफी का सेवन कम करे। शराब व धूम्रपान की आदत छोड़े, क्योंकि यह सब डिप्रेशन को बढ़ावा देते हैं। (और पढ़े – कॉफी के फायदे और नुकसान)

अगर आप मानसिक तनाव से परेशान हैं, तो मनोचिकिस्तक (Psychiatrist) या (Psychologist) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य है आपको जानकारी प्रदान करना है। ना की किसी तरह के दवा, इलाज, घरेलु उपचार की सलाह दी जाती है। आपको चिकिस्तक अच्छी सलाह दे सकते है क्योंकि उनसे अच्छी सलाह कोई नहीं देता है।