सोआ के फायदे और नुकसान। Benefits and Side-Effects of Dill (Sowa) in Hindi

फ़रवरी 13, 2020 Lifestyle Diseases 7978 Views

English हिन्दी

Dill (Sowa) Meaning in Hindi

भारत में प्रचीन काल से जड़ीबूटियों का उपयोग उपचार के लिए किया जाता रहा है। वैसे ही एक बेहतरीन जड़ी बूटी सोआ है, इसका उपयोग बड़ी मात्रा में औषधीय के रूप में किया जाता है। सोआ के बीज के तेल भारतीय रसोइयों में इस्तेमाल किये जाते है। इसके अलावा इसके फूल, पत्तिया, पौधे एव जड़ो को दवाइयों में उपयोग करते है। गठिया से पीड़ित लोगो के लिए यह जड़ी बूटी किसी संजीवनी से कम नहीं है, क्योंकि इसमें सूजन विरोधी गुण होते है। इसके फूल पीले रंग होते है। यह जड़ी बूटी केवल भारत में ही नहीं बल्कि अफ्रीका व एशिया जैसे देशो में पाया जाता है। डील में बहुत से खनिज व विटामिन पाए जाते है जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

  • सोआ क्या है ? (What is Dill (Sowa) in Hindi)
  • सोआ के उपयोग क्या है ? (Sowa Ke Upyog in Hindi)
  • सोआ के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Sowa in Hindi)
  • सोआ के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Sowa in Hindi)

सोआ क्या है ? (What is Dill (Sowa) in Hindi)

सोआ एक तरह की जड़ी बूटी है। इसमें बहुत से कार्बनीक यौगिक, विटामिन और खनिज मौजूद है। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी अच्छी मात्रा में होता है। इसके अलावा शक्तिशाली लाइमिन, कम्पेरोल, एनेथोफोरें आदि है। खनिजों में लोहा, मेगनीज, फोलेट आदि शामिल है। ये स्वास्थ्य को बीमारियों से बचाने में मदद करते है। आगे के लेख में सोआ के उपयोग के बारे में बतलाया गया है।

सोआ के उपयोग क्या है ? (Sowa Ke Upyog in Hindi)

सोआ एक औषधीय जड़ीबूटी है। इसकी जड़, पत्तिया, फूल आदि स्वास्थ्य संबंधित रोगो के जोखिम को कम करता है। इसका उपयोग अलसी के बीज के साथ कर गठिया के सूजन और दर्द को कम किया जाता है। पेट से जुडी समस्या को ठीक करने में फायदेमंद रहता है और साथ ही महिला के मासिकधर्म से जुडी समस्या को ठीक करता है क्योंकि इसमें एंटी गुण मौजूद होता है। जो लोग नींद अच्छे से पूरी नहीं कर पाते है उनको इस जड़ीबूटी का काढ़ा उपयोग करना चाहिए। यह आपके नींद में सुधार कर अनिद्रा की समस्या को दूर करता है। डायबिटीज मरीज के रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में बहुत उपयोगी मानी जाती है। इनके लिए डिल का भोजन दवा की तरह काम करता है। आगे आपको फायदे के बारे में विस्तार से बतायेंगे। (और पढ़े – अनिद्रा की समस्या को कैसे दूर करें)

सोआ के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Sowa in Hindi)

सोआ के निम्नलिखित फायदे है।

  • डायटीबीज को नियंत्रित करने में – डायबिटीज एक ऐसी समस्या है जो जीवन के साथ कभी नहीं छोड़ती है केवल शरीर में अधिक कम होती रहती है। डायबिटीज के मरीजों को अपने खानपान का खास ध्यान रखना पड़ता है। इसके अलावा रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए सोआ जड़ीबूटी का उपयोग किया जाता है। यह इन्सुलिन को बनने में मदद करता है। मधुमेह टाइप 1 से पीड़ित लोगो को सोआ के पत्तियों को भोजन में उपयोग करना चाहिए। इसमें कड़वापन शुगर के स्तर को कम करने लगता है। यह बहुत प्रभावी जड़ी बूटी मानी जाती है।
  • हड्डियों को मजबूत करने में – हड्डियों से जुडी जोड़ो के दर्द की समस्या को ठीक करने के लिए सोआ जड़ी बूटी फायदेमंद होता है। इसके बीज के तेल को हड्डियों का मसाज करने के लिए उपयोग में लाते है। इसमें एंटी गुण मौजूद है जो सूजन व दर्द को कम करने में सहायता करता है। इसके अलावा हड्डियों के विकास व हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। आस्टियोपोर्सेस जैसी गंभीर बीमारिय यह जड़ी बूटी की सहायता से ठीक किया जाता है। (और पढ़े – बदन दर्द के घरेलू उपचार)
  • इम्युनिटी को मजबूत करने में – शरीर की प्रतिशा प्रणाली को बढ़ाने के लिए डील बहुत फायदेमंद होता है। इसमें एंटीमाइक्रो बेल गतिविधि के साथ जुड़ा हुआ रहता है। यह जड़ीबूटी संक्रमण को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा चोट या घाव को ठीक करने में मदद करता है। घाव को संक्रमण से बचाव करने के लिए इस जड़ीबूटी के बीजो को लगाया जाता है। (और पढ़े – इम्युनिटी कैसे बढ़ाए)

सोआ के अन्य फायदे – अगर दस्त की समस्या हो रही है तो इस जड़ी बूटी को भूनकर पाउडर बनाकर छाछ में मिलाकर पीने से दस्त की समस्या ठीक होती है।

  • जोड़ो के दर्द व सूजन के लिए डिल के जड़ो का पेस्ट तैयार कर ले। इस मिश्रण को गुनगुना करे और प्रभावित जगह पर लगा ले।
  • डिल के बीजो को मौखिक समस्या यानि मुंह की बदबू को दूर करता है।
  • सोआ जड़ीबूटी पौधे के बीज श्वसन संबंधित समस्या को ठीक करने में मदद करता है। इसके लिए सोआ का अर्क शहद के साथ दो या तीन हफ्तों तक लेने से कॉफी सुधार देखने को मिलता है। (और पढ़े – मुंह की बदबू के कारण)

सोआ के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Sowa in Hindi)

सोआ के फायदे तो कई है, लेकिन इसके साथ कुछ नुकसान भी हो सकता है।

  • सोआ को सामान्य मात्रा में उपयोग करने से कोई नुकसान नहीं होता है। लेकिन अत्यधिक मात्रा में उपयोग करने से पित्त की समस्या उत्पन्न हो सकता है।
  • सोआ की पत्ती स्वाद में बहुत कड़वी होती है इसलिए इसका सेवन करने के लिए पत्तिया वाली सब्जियों के साथ बनाये।
  • सोआ का अत्यधिक सेवन गैस्ट्रिक समस्या का कारण बनता है। (और पढ़े – हरी सब्जियों के फायदे)

अगर आपको सोआ के उपयोग करने से किसी तरह की समस्या हो रही है, तो जनरल फिजिशियन (General Physician) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है। 


Login to Health

Login to Health

लेखकों की हमारी टीम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को समर्पित है। हम चाहते हैं कि हमारे पाठकों के पास स्वास्थ्य के मुद्दे को समझने, सर्जरी और प्रक्रियाओं के बारे में जानने, सही डॉक्टरों से परामर्श करने और अंत में उनके स्वास्थ्य के लिए सही निर्णय लेने के लिए सर्वोत्तम सामग्री हो।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox


    captcha