मछली खाने के फायदे और नुकसान । Fish Khane Ke Fayde aur Nuksan in Hindi

Login to Health दिसम्बर 6, 2019 Lifestyle Diseases 6843 Views

English हिन्दी

Fish Meaning in Hindi

अगर आप मांसाहारी खाने के बहुत बड़े शौकीन है तो अपने आहार में मछली जरूर शामिल करे। इसमें में बहुत से पोषक तत्व मौजूद होता है जो शरीर को बीमारियों के जोखिम से बचाव करते है। मछली एक समुद्री जीव है और यह बाकि जानवरो से अलग होती है। इसकी बहुत सी प्रजातिया पुरे दुनिया में पाई जाती है। लोग अपने आँखो की रौशनी बढ़ाने के लिए मछली का सेवन करना पसंद करते है। हमारे भारत में बड़े पैमाने पर मछवारे मछली का शिकार करते है और बाजारों में उचित कीमतों पर भेजते है। इसके अलावा बंगाल, बिहार, असम, उत्तर प्रदेश में मछली अधिक पसंद किया जाता है। शायद आपको पता नहीं होगा की मछली के मांस में उच्च मात्रा में प्रोटीन, ओमेगा 3 फैटिएसिड मौजूद होता है। कुछ लोगो की धारणा है की मछली मनुष्य के दिमाग को तेज बनाने में मदद करती है। इस लेख में हम आपको मछली के पोषक तत्व और खनिज, मछली खाने के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से जानकारी देने का प्रयास किया गया है।

  • मछली के पोषक तत्व और खनिज क्या है ? (What are the Nutrients and Minerals Found in Hindi)
  • मछली खाने के फायदे क्या है ? (What are the Benefit of Fish in Hindi)
  • मछली के नुकसान क्या है ? (What are the Side-effect of Fish in Hindi)

मछली के पोषक तत्व और खनिज क्या है ? (What are the Nutrients and Minerals Found in Hindi)

मछली एक कम वसा वाला उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन है। मछली में ओमेगा -3 फैटी एसिड और विटामिन जैसे डी और बी 2 (राइबोफ्लेविन) से भरी होती है। इसके अलावा कैल्शियम और फास्फोरस से समृद्ध है और खनिजों का एक बड़ा स्रोत है, जैसे कि लोहा, जस्ता, आयोडीन, मैग्नीशियम और पोटेशियम आदि। आपके सेहत के लिए लाभदायक होता है।

मछली के फायदे क्या है ? (What are the Benefit of Fish in Hindi)

मछली खाने के फायदे  निम्नलिखित स्वास्थ्य लाभ होते है।

  • उच्च रक्तचाप में – उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगो के लिए मछली बहुत लाभदायक होती है। यह आपके हाई बीपी को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा अगर आप मांस खाने में रूचि रखते है तो अपने आहारों में मछली को जरूर शामिल करे क्योकि मछली में प्राकृतिक रूप से बहुत से पोषक तत्व उपस्थित रहते है जो सेहत को अच्छा तो करते है बल्कि कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रण करता है। कोलेस्ट्रॉल सामन्य होने से दिल स्वस्थ रहता है और दिल से जुडी बीमारियों का जोखिम नहीं रहता है।
  • अवसाद दूर करने में – मछली में उच्च मात्रा में ओमेगा 3 मौजूद होता है। यह व्यक्ति के मूड में बदलाव करता है और अवसाद को दूर करने में मदद करता है। एक अध्ययन के अनुसार अधिक तनाव वाले लोगो को मछली का सेवन करने से उनके तनाव में कमी आती है और व्यक्ति डिप्रेशन मुक्त महसूस करता है।
  • आँखो के लिए – मछली आँखो की रौशनी को तेज करता है जिससे व्यक्ति को आँखों संबंधित विकार होने की संभावना कम हो जाती है। क्योंकि इसमें ओमेगा 3 एसिड पाया जाता है। यह बच्चे के मोटे चश्मे लगाने की समस्या से निजात दिलाता है बल्कि पोषक तत्व की कमी को भी पूरा करता है। अपने मांसाहारी आहार में मछली का सेवन करना न भूले।
  • बालो के लिए – आजकल बालो से जुडी समस्या सभी में देखने को मिल रही है किसी के बाल गिर रहे है तो किसी के बाल बढ़ नहीं पा रहा है। इसका कारण बालो को पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व न मिल पाना जिसे पूरा करने के लिए मछली का सेवन करना चाहिए। मछली में ओमेगा एसिड होता है जो त्वचा की देखभाल तो करता है बल्कि बालो की समस्या से निजात दिलाता है। मछली को तल कर खाने की बजाय आप सेक कर खाने की कोशिश करें। (और पढ़े – हेयर फॉल के कारण)
  • दिमाग की शक्ति बढ़ाने में – अक्सर माँ अपने बच्चे के दिमाग की शक्ति बढ़ाने के लिए हर तरह के प्रयास करती है ताकि उनका बच्चा पढ़ाई में दिमाग लगा सके। आप को बता दे मछली में दिमाग की शक्ति बढ़ाने के बहुत से गुण होते है जो आपके बच्चे का दिमाग तेज कर सकते है। क्योंकि कुछ शोध में बताया गया है जिन लोगो की भूलने की बीमारी रहती है उन लोगो ने मछली का सेवन करना शुरू किया जिसका असर कुछ दिन में दिखने लगा उनमे कुछ भी चीज याद रख पाना सरल हो गया है। क्योंकि वह व्यक्ति कल क्या किया है उसे याद रहने लगा। इसलिए अपने बच्चे को आहार में मछली

खिलाये। मछली के नुकसान क्या है ? (What are the Side-effect of Fish in Hindi)

मछली के फायदे तो बहुत लेकिन अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से कुछ नुकसान हो सकते है।

  • कुछ लोगो का मानना है मछली के सेवन करने के बाद तुरंत दूध नहीं पीना चाहिए। इससे आपको त्वचा संबंधित समस्या यानि त्वचा पर सफ़ेद दाग व चक्क्ते आ जाते है। लेकिन इसका कोई खास परिणाम नहीं मिला है। ऐसा जरूर देखा गया है की मछली के बाद दूध का सेवन पाचन संबंधित समस्या को बढ़ाता है। मछली के साथ दही का सेवन भी नुकसानदायक होता है।
  • एक अध्ययन में छोटे मछली का सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए नुकसानदायक होता है। यह मछली विषाक्त पदार्थ को शरीर में छोड़ती है। इस कारण लिवर में जमा होता है और मोटापा बढ़ा देता है व मधुमेह रोगी को नुकसान पहुँचाता है।
  • जो लोग खेती करते है उनको कीटनाशक और अन्य विषाक्त पदार्थ उच्च स्तर में हो सकते है। यह संक्रमण के लिए जिम्मेदार हो सकते है। आप खरीदने से पहले पैकेट को ठीक पढ़कर ले।
  • गर्भवती महिला को मछली के अधिक सेवन करने से पहले चिकिस्तक की सलाह लेनी चाहिए की कौन सी मछली उनके लिए सही है या नहीं।

अगर मछली का सेवन करे से स्वास्थ्य में किसी प्रकार की अनियमियता हो रही है, तो इसका सेवन करना कम करे और अपने किसी अच्छे जनरल फिजिशियन (General Physician) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।