कच्चे दूध के फायदे और नुकसान। Benefits and Side-Effects of Raw Milk in Hindi

Login to Health फ़रवरी 10, 2020 Lifestyle Diseases 6667 Views

हिन्दी

Raw Milk Meaning in Hindi

दूध के फायदे के बारे में आपको पता ही होगा, यह हमारे सेहत के लिए लाभदायक होता है। जैसे माँ अपने शिशु को दूध पिलाती है ताकि शिशु के शरीर का विकास हो सके। क्या आपने कच्चे दूध के लाभ के बारे में सुना है, यह त्वचा व स्वास्थ्य दोनों के लिए फायदेमंद होता है। दूध को गर्म करने पर उसके पोषक तत्व कम हो जाते है इसलिए कच्चा दूध पीने की आदत डालना चाहिए। बहुत से लोगो की पाचन क्रिया मजबूत नहीं होती है, जिसके कारण दूध को पचा नहीं पाते है इसलिए दूध को गर्म करके पीते है। आज के इस लेख में हम आपको कच्चे दूध के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से बताने वाले है।

  • कच्चा दूध क्या है ? (What is Raw Milk in Hindi)
  • कच्चा दूध के पोषक तत्व क्या है ? (What are the Nutrients and Minerals Found in Hindi)
  • कच्चा दूध पीने के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Raw Milk in Hindi)
  • कच्चा दूध पीने के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Raw Milk in Hindi)

कच्चा दूध क्या है ? (What is Raw Milk in Hindi)

कच्चा दूध में अनेको तरह एंजाइम होते है जो रोगप्रतिरोग क्षमता को बढ़ाने में मदद करते है। मजबूत पाचन क्रिया वाले को कच्चा दूध आराम से पच जाता है। कच्चा दूध दस्त को ठीक करने में मदद करता है। कच्चा दूध पॉचराइज व होमोजेनाइड नहीं किया होता है। कच्चा दूध गाय,भैस, बकरी व ऊंट से प्राप्त किया जाता है। कच्चा दूध का उपयोग चीज, दही, आइसक्रीम इत्यादि में किया जाता है। (और पढ़े – दस्त के कारण क्या है)

कच्चा दूध के पोषक तत्व क्या है ? (What are the Nutrients and Minerals Found in Hindi)

कच्चे दूध में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मौजूद रहता है। इसमें विटामिन ए,सी, ई, आयरन, जिंक, कैल्शियम व कोलेस्ट्रॉल, घुलनशील फाइबर आदि होता है। यह शरीर को मजबूत बनाये रखने में मदद करता है।

कच्चा दूध पीने के फायदे क्या है ? (What are the Benefits of Raw Milk in Hindi)

कच्चा दूध पीने के निम्नलिखित फायदे है।

वजन कम करने में कच्चे दूध के फायदे – कच्चे दूध में घुलनशील फाइबर होता है जो वसा को कम करने में मदद करता है। जो लोग अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे है उनको कच्चे दूध को जरूर पीना चाहिए। इस बात का ध्यान रखे आपका पाचन क्रिया कैसा है क्योंकि कमजोर पाचन वाले को कच्चा दूध पांच नहीं पाता है।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने में – कच्चे दूध में अच्छी मात्रा में प्रोटीन होता है जो केसीन से बना होता है। यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा शरीर में मिनरल्स की कमी को दूर करता है। कच्चा दूध का सेवन करने से शरीर में विटामिन डी और कैल्शियम की पूर्ति होती है। इससे उच्च और निम्न बीपी सामन्य रहता है। कुछ शोध में बतलाया गया है बीपी के मरीजों को कच्चा दूध पीने से उनका बीपी नियंत्रण रहता है, क्योंकि दूध में भरपूर मात्रा में मिनरल्स और विटामिन मौजूद होते है।

बालो के लिए कच्चे दूध के फायदे -कच्चे दूध बालो के लिए बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि विटामिन ई की अच्छी मात्रा होती है। यह बालो को मजबूत करता है और बालो में पोषण कमी को दूर करता है। इस वजह से बाल गिरने की समस्या कम हो जाती है। इसके अलावा कच्चा दूध बालो पर करनी बाल मुलायम और चमकीला दिखने लगता है। कच्चे दूध का उपयोग बालो में लगाने वाले शैम्पू में भी किया जाता है। (और पढ़े – बाल झड़ने की समस्या क्या है)

पोषक तत्व की कमी दूर करने में – शरीर में कैल्शियम या जिंक की कमी को दूर करने में मदद करता है। इसके अलावा पोटेशियम, मैग्नीशियम होता है। यह खनिज की पूर्ति करता है। इसके अलावा हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है, शरीर से विषाक्त पदार्थ को दूर, ,मांसपेसियों को मजबूत करता है। यह मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में सहयता करता है। कच्चे दूध में प्रोटीन बहुत होता है। इसमें फेट, विटामिन ई, विटामिन डी. विटामिन के व घुलनशील फाइबर होता है।

कच्चे दूध के फायदे पेट के लिए – पेट के लिए दूध बहुत फायदेमंद होता है। यह शरीर के पाचन क्रिया को बेहतर बनाने का काम करता है। इसके अलावा दस्त की समस्या को रोकने में मदद करता है।

कच्चा दूध पीने के नुकसान क्या है ? (What are the Side-Effects of Raw Milk in Hindi)

कच्चा दूध पीने के फायदे तो है, लेकिन कुछ नुकसान भी हो सकता है।

  • जैसे: कच्चा दूध में बैक्टीरिया संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है इसलिए कुछ लोगो को पेट में दर्द, उल्टी, मलती, डायरिया आदि की समस्या हो सकती है।
  • कुछ शोधो के अनुसार कच्चा दूध के कुछ गंभीर मामले में गिल्लन बार्रे सिंड्रोम हो सकता है। इसके अलावा व्यक्ति पेरालिसिस भी हो सकता है।
  • दूध को फ्रिज में रखने से हालांकि बैक्टीरिया का जोखिम अधिक नहीं रहता है। आप कच्चा या पका दोनों फ्रिज में रख सकते है।
  • कुछ ,मामले इतने गंभीर होते है की आपातकालीन अस्पताल ले जाना पड़ सकता है। इतना ही नहीं व्यक्ति की जान भी जा सकता है।
  • जैसा की आपको पता है दूध पशुओं से प्राप्त किया जाता है, यह वातवरण में घूमते रहते है। दूध निकालने के लिए पशु के थन से निकाला जाता है यह शरीर से जुड़ा होता है। हालांकि कभी कभी मल के संपर्क में आ जाता है, इससे दूध संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है।

अगर कच्चा दूध पीने से किसी तरह की अनियमियता हो रही है तो कुछ दिन के लिए पीना बंद कर दे, किसी अच्छे जनरल फिजिशियन (General Physician) से संपर्क करें।

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।