कल्मन सिंड्रोम क्या हैं । Kallmann Syndrome in Hindi

Login to Health फ़रवरी 11, 2021 Lifestyle Diseases 47 Views

हिन्दी Bengali

कल्मन सिंड्रोम का मतलब हिंदी में,  (Kallmann Syndrome Meaning in Hindi)

कल्मन सिंड्रोम क्या हैं ?

कल्मन सिंड्रोम एक ऐसी दुर्लभ स्तिथि है, जिसके वजह से हार्मोनल विकार के साथ सुंघने की शक्ति में कमी होती है। इसके अलावा व्यक्ति के यौवन विकास को रोकता है। यह ऐसा विकार है जो दस बच्चों में से एक बच्चें को जन्म से प्रभावित करता है और यह केवल पुरुषो को नहीं बल्कि महिला को भी प्रभावित करता है। अधिकतर पुरुषो में यह सिंड्रोम देखा गया है। कल्मन सिंड्रोम मस्तिष्क में विशिष्ट न्यूरॉन्स, या तंत्रिकाओं के अविकसित होने के कारण होता है, जो हाइपोथैलेमस का संकेत देते हैं। इन न्यूरॉन्स के बिना, हाइपोथैलेमस पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा कुछ हार्मोन के उत्पादन और रिलीज को ठीक से उत्तेजित नहीं कर सकता है। जन्म से इस सिंड्रोम से प्रभावित होने पर युवावस्था में इसका परीक्षण व उपचार किया जाना उचित होता है। हालांकि छोटे बच्चों में आसानी से इस सिंड्रोम को पहचाना जा सकता है। जब किसी व्यक्ति में कल्मन सिंड्रोम की हार्मोन की कमी की विशेषता होती है, लेकिन गंध की एक सामान्य भावना होती है, तो स्थिति को नॉरमोसिमिक इडियोपैथिक हाइपोगोनैडोट्रोपिक हाइपोगोनैडिज़्म (एनआईएचएच) के रूप में जाना जाता है। चलिए आज के लेख में आपको विस्तार से कल्मन सिंड्रोम क्या हैं ? के बारे में विस्तार से बतायेंगे। 

  • कल्मन सिंड्रोम के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Kallmann Syndrome in Hindi)
  • कल्मन सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Kallmann Syndrome in Hindi)
  • कल्मन सिंड्रोम का परीक्षण ? (Diagnoses of Kallmann Syndrome in Hindi)
  • कल्मन सिंड्रोम का इलाज क्या हैं ? (What are the Treatments for Kallmann Syndrome in Hindi)

कल्मन सिंड्रोम के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Kallmann Syndrome in Hindi)

कल्मन सिंड्रोम और एनआईएचएच यह आनुवांशिक स्थितियां हैं। ये कई अलग-अलग जीनों में उत्परिवर्तन होने के कारण होते हैं। लेकिन सभी में इसकी पहचान नहीं होती है बल्कि कुछ में की जा सकती है और इनहेरिटेंस पैटर्न मैप किए जा सकते है। हालांकि कल्मन सिंड्रोम और एनआईएचएच के कारण विभिन्न जीन उत्परिवर्तन में अलग-अलग वंशानुक्रम पैटर्न हो सकते हैं।

  • जैसे – कुछ माता-पिता द्वारा (ऑटोसोमल रिसेसिव इनहेरिटेंस) से विरासत में मिले होंगे। इन प्रकारों में, माता-पिता दोनों वाहक हो सकते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास बीमारी के कोई लक्षण नहीं हैं।
  • दूसरों को माता या पिता से विरासत में प्राप्त किया जा सकता है (ऑटोसोमल प्रमुख विरासत)।
  • अन्य प्रकारों में, महिलाएं वाहक होती हैं और पुरुषों की स्थिति (एक्स-लिंक्ड इनहेरिटेंस) होती है। इन प्रकारों में, स्थिति माताओं से बेटों के लिए पारित की जा सकती है लेकिन पिता से पुत्रों तक नहीं। या तो माता-पिता एक वाहक के रूप में एक बेटी को शर्त पारित कर सकते हैं।
  • शोधकर्ताओं ने हाल ही में एक चौथे वंशानुक्रम पैटर्न की पहचान की है जिसमें एक से अधिक जीन में उत्परिवर्तन स्थिति (ओलिगोजेनिक विरासत) का कारण बन सकता है।
  • हालांकि शोधकर्ता कल्मन सिंड्रोम और एनआईएचएच से जुड़े सभी आनुवंशिक म्यूटेशन की पहचान करने के लिए काम कर रहे हैं। 

कल्मन सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Kallmann Syndrome in Hindi)

कल्मन सिंड्रोम या एनआईएचएच का मुख्य लक्षण देरी या अपूर्ण यौवन है। इनसे प्रभावित कुछ लोगो में निम्न लक्षण नजर आ सकते हैं। 

  • अंडकोष, या आंशिक रूप से अवरोही, अंडकोष। 
  • छोटे शिश्न का आकार। 
  • चेहरे के दोष, जैसे कि फांक होंठ या तालु। 
  • छोटी उंगलियां या पैर की उंगलियां, खासकर चौथी उंगली। (और पढ़े – समय से पहले जन्मा बच्चे में होने वाली समस्या)
  • केवल एक गुर्दे का विकास। 
  • बहरापन। 
  • वर्णांधता। 
  • असामान्य रूप से आंखों का हिलना। 
  • दांतों का असामान्य विकास। 
  • मिरर हैंड मूवमेंट्स (द्विअर्थी सिनकाइनिसिस), जिसमें एक हाथ के मूवमेंट को दूसरे के मूवमेंट्स द्वारा मिरर किया जाता है। (और पढ़े – नसों के दर्द के घरेलु उपचार)

कल्मन सिंड्रोम का परीक्षण ? (Diagnoses of Kallmann Syndrome in Hindi)

कल्मन सिंड्रोम का परीक्षण करने के लिए आपके चिकिस्तक सामान्यतौर एक शारीरिक परीक्षण से शुरू करते है और जिसमे आपके लक्षण के बारे में पूछते है। विशेष रूप से उन लोगो को जो सुगंघ की शक्ति में कमी महसूस करते है। कुछ लोगो को यह विकार अनुवांशिक रोग की तरह होता है। इसलिए चिकिस्तक घर के सदस्य या रिश्तेदार के बारे में पूछ सकते है ताकि सिंड्रोम के बारे में पता लगा सके। इसके अलावा उन लोगो को जिन्होंने यौवन व प्रजनन समस्या का अनुभव किया है। 

संकेत व लक्षण का सटीक पता लगाने के लिए चिकिस्तक अन्य परीक्षण कर सकता है। 

  • ब्लड टेस्ट इसमें विशेष रूप से परिधीय नसों में हार्मोन के स्तर को देखने वाले रक्त परीक्षण, जो पिट्यूटरी ग्रंथि से उत्पन्न होते हैं। 
  • एमआरआई इसमें शारीरिक असामान्यताएं देखने के लिए हाइपोथैलेमस, पिट्यूटरी ग्रंथि और नाक की चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) परीक्षण करते है। 
  • आनुवंशिक परीक्षण विशिष्ट जीन म्यूटेशन देखने के लिए आणविक आनुवंशिक परीक्षण कर सकते है। 

कल्मन सिंड्रोम का इलाज क्या हैं ? (What are the Treatments for Kallmann Syndrome in Hindi)

  • कल्मन सिंड्रोम का इलाज यौन विकास के लिए हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की मदद ली जाती है। मरीज की स्तिथि के आधार पर चिकिस्तक कुछ दवाओं की खुराक दे सकता है। बहुत से मामलो में प्रजनन सुधार करने के लिए दवाइयां अच्छा प्रभाव डालती है। निदान के बाद उपचार करने से हार्मोन स्तर बनाये रखने में मदद करता है। कुछ अध्ययन के अनुसार पुरुषो में कल्मन सिंड्रोम की समस्या अधिक देखी जाती है। जिनका उपचार हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के द्वारा किया जाता है। (और पढ़े – हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है)

हमें आशा है की आपके प्रश्न कल्मन सिंड्रोम क्या हैं ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको कल्मन सिंड्रोम के बारे में अधिक जानकारी व इलाज करवाना हो, तो (Urologist) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Urologist in Delhi

Best Urologist in Mumbai

Best Urologist in Chennai

Best Urologist in Bangalore