नसों में दर्द के बेहतरीन उपाय। Natural Remedies for Nerve Pain in Hindi.

सितम्बर 5, 2020 Lifestyle Diseases 4786 Views

हिन्दी Bengali Tamil

Nerve Pain Meaning in Hindi.

आजकल के गलत खान-पान और दैनिक चर्या के कारण लोगो के शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इस वजह से हड्डियों में कमजोरी व अन्य स्वास्थ्य समस्या उत्पन्न होने लगता है। इसके अलावा रोजाना व्यायाम नहीं करने से मांसपेशिया कमजोर होकर दर्द की समस्या पैदा करती हैं। इसमें मुख्य नसों का दर्द है।

नसों में दर्द (Nerve Pain) की समस्या किसी को भी हो सकती है?

Nerve Pain की समस्या किसी को भी हो सकती है और यह अधिक गंभीर नहीं है, लेकिन कुछ कारण होने से समस्या और बढ़ सकती हैं। कभी-कभी अधिक नसों में दर्द की समस्या हो रही है, तो चिकिस्तक से तुरंत संपर्क करना चाहिए। यदि आपको सामान्य नसों का दर्द अनुभव हो रहा है, तो कुछ प्राकृतिक उपचार की सहायता से ठीक किया जा सकता हैं। चलिए आज के लेख के माध्यम से आपको नसों में दर्द की समस्या को ठीक करने के घरेलु उपचार को विस्तार से बताएंगे।

नसों में दर्द के बेहतरीन उपाय ? (Natural Remedies for Nerve Pain in Hindi)

नसों में दर्द की समस्या दूर करने के लिए निम्नलिखित घरेलु उपचार हैं।

  • सेंधा नमक – सेंधा नमक में अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम सल्फेट होता है यह दर्द को कम करने में मदद करता है। सेंधा नमक का उपयोग करने के लिए एक टब में हल्का गर्म पानी ले, इसमें सेंधा नमक की पोटली बांधकर रख दे। इस पानी से आप स्नान करे और आधे घंटे तक टब में बैठे। इस प्रक्रिया को रोजाना अपनाएं ताकि आपके नसों का दर्द दूर हो सके।
  • नसों का दर्द भगाएं मूली – मूली में प्राकृतिक रूप से बहुत से पोषक तत्व और खनिज मौजूद है। ताजी मूली का लेप लगाने से दर्द से आराम मिलता है क्योंकि इसमें साइटिका होने से दर्द कम होता है। मूली में सूजनरोधी होता है जो दर्द के साथ सूजन को कम करता है। मूली का लेप नसों के दर्द को ठीक करता है। मूली का उपयोग करने के लिए ताजी मूली ले और मिक्सर में मूली को पीस ले, प्रभावित छेत्र पर मूली का पेस्ट लगाकर कुछ घंटो के लिए छोड़ दे। समय होने के बाद गर्म पानी से धो ले। इस प्रक्रिया को सप्ताह में दो बार करें। (और पढ़े – मूली के स्वास्थ्य लाभ)
  • वाइट विलो टी नसों का उपचार करें – वाइट विलो के रस सभी तरह के नसों के दर्द को कम करता है। साइटिका के दर्द के लिए अच्छा होता है। वाइट विलो का सेवन करने से शरीर में किसी तरह के एसिड का प्रभाव नहीं पड़ता है। नसों के दर्द के लिए वाइट विलो का उपयोग करना लाभदायक होता है। वाइट विलो के छाल का कम से कम दो चम्मच रस निकाल ले, अब एक कटोरी में गर्म पानी ले इसमें वाइट विलो का रस मिलाएं और शहद डालकर सेवन करे।
  • सेब का सिरका नसों का दर्द दूर करे – सेब का सिरका शरीर के अनगिनत बीमारियों से बचाने का कार्य करता है। इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटेशियम जैसे खनिज मौजूद है जो नसों के दर्द से आराम दिलाते है। सेब के सिरके में सूजनरोधी गुण पाया जाता है और साइटिका होने से नसों का दर्द कम होता है। सेब के सिरके को नसों के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सेब के सिरके को उपयोग करने के लिए गर्म पानी ले और सिरका एक चम्मच मिला दे, रोज सेब के सिरके को पानी में डालकर पीना चाहिए। हालांकि इस मिश्रण को सप्ताह में दो बार करें। (और पढ़े – सेब का सिरका क्या है)
  • मेथी के बीज नसों का दर्द दूर करे – मेथी का बीज बहुत सी बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। यह नसों में दर्द की समस्या को ठीक करता है और साइटिका के दर्द से आराम दिलाता है। इसमें सूजनरोधी गुण होता है जो सूजन को कम करने में मदद करता है। मुठी भर मेथी के बीज को दो घंटे पानी में भिगोकर रख दे। भीगे हुए मेथी को मैक्सी में डालकर पेस्ट बनाले, अब पेस्ट में पानी मिलाकर प्रभावित जगह पर लगा ले। इस प्रक्रिया को तब तक करे जब तक दर्द न चला जाए। (और पढ़े – सुबह दौड़ने के फायदे)
  • योग आसान से नसों का दर्द दूर हो – जैसा की आपको पता है योग आसान से कई तरह की बीमारिया ठीक हो जाती है और शरीर का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। योग में कई तरह के आसान है जो मांसपेसियों को मजबूत कर नसों के दर्द से आराम दिलाते है। भुजंगाआसन से गर्दन के दर्द, कंधे का दर्द व कमर दर्द से आराम मिलता है। गोमुखासन रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है। आपको रोजाना सुबह योग आसान करना चाहिए ताकि नसों के दर्द से रहत मिल सके। आसान में शामिल है गोमुखासन, वीरासन, भुजंगासन, आदि को करे। (और पढ़े – सुबह दौड़ने के फायदे)
  • हल्दी का उपयोग नसों के दर्द से बचाएं – हल्दी एक तरह का मसाला है जो सब्जियों का जायका बढ़ाता है और शरीर को मजबूत बनाते है। इसके अलावा हल्दी में सूजनरोधी गुण होता है जो साइटिका के दर्द को दूर करता है। हल्दी का उपयोग करने के लिए एक ग्लास में दूध में हल्दी मिलाकर सेवन करे। गाय के दूध को अच्छी तरह गर्म कर हल्दी पाउडर मिला ले और गर्म-गर्म पी ले। इस प्रक्रिया को हफ्ते में दो बार दोहराएं। (और पढ़े – हल्दी के फायदे क्या हैं)
  • नसों के दर्द के लिए ठंडी या गर्म सेकाई – नसों में दर्द होने पर अक्सर लोग गर्म या ठंडी सेकाई करते है। गर्म या ठंडी सेकाई करने से नसों को आराम मिलता है। लेकिन अत्यधिक गर्म की सेकाई त्वचा को जला सकती है इसलिए सीधे त्वचा पर उपयोग न करे। इसके अलावा ठंडी सेकाई करते समय भी ध्यान रखे। (और पढ़े – त्वचा का रूखापन)

नसों में दर्द की समस्या के बारे में अधिक जानकारी व उपचार के लिए ओर्थपेडीक (Orthopedic) से संपर्क करें। (Please consult an orthopedic more further assistance on nerve pain.)

हमारा उद्देश्य है आपको जानकारी प्रदान करना है। ना की किसी तरह के दवा, इलाज, घरेलु उपचार की सलाह दी जाती है। आपको चिकिस्तक अच्छी सलाह दे सकते है क्योंकि उनसे अच्छी सलाह कोई नहीं देता है।

नसों में दर्द के घरेलु उपचार के बारे में बतलाया गया है। नसों के दर्द को हल्के में न ले बल्कि सही समय पर उचित उपचार करें।

[:]


Login to Health

Login to Health

लेखकों की हमारी टीम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को समर्पित है। हम चाहते हैं कि हमारे पाठकों के पास स्वास्थ्य के मुद्दे को समझने, सर्जरी और प्रक्रियाओं के बारे में जानने, सही डॉक्टरों से परामर्श करने और अंत में उनके स्वास्थ्य के लिए सही निर्णय लेने के लिए सर्वोत्तम सामग्री हो।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox


    captcha