पल्स ऑक्सीमीटर क्या है। Pulse Oximeter Meaning in Hindi.

Login to Health नवम्बर 2, 2020 Lifestyle Diseases 268 Views

English हिन्दी Bengali

पल्स ऑक्सीमीटर क्या है ? Pulse Oximeter Meaning in Hindi.

पल्स ऑक्सीमीटर एक तरह का उपकरण है जो जांच करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस उपकरण का उपयोग करने से कोई दर्द नहीं होता है क्योकि इसमें केवल उंगली रखनी होती है और उंगली रखते उपकरण रीडिंग करने लगता है। यह उपकरण आपके रक्त में ऑक्सीजन के स्तर को मापने का काम करती है। इसके अलावा शरीर में हो रहे अन्य समस्या का पता लगा सकता है। जैसा की आपको पता है कोरोना महामारी हमारे देश में बहुत तेजी से अपना पैर पसार रहा है। देखते ही देखते कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या 680680 हो चुकी है। इसके अलावा हर दिन नये मामले सामने आ रहे है और आकड़ो में सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज महाराष्ट्र में है और दूसरा दिल्ली में है। हालांकि लोगो के जागरूक होने से कोरोना की दर में कमी आ रही है। पल्स ऑक्सीमीटर उपकरण का लोग अपने शरीर की ऑक्सीजन के स्तर को मापने के लिए इस्तेमाल कर रहे है। पल्स ऑक्सीमीटर को लोग अपना सुरक्षा सहायक मानने लगे है। इस उपकरण का फायदा यह है की अगर आपका ऑक्सीजन का लेवल कम बता रहा है तो आप नजदीकी चिकिस्तक से संपर्क कर सकते हैं। पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग कोरोना वायरस के कारण लोग अधिक कर रहे है। ताकि अपने ऑक्सीजन के स्तर को मापते रहे और यदि कोई लक्षण नजर आए तो उचित उपचार करवा सके। क्योंकि व्यक्ति का ऑक्सीजन का स्तर बहुत कम दिखाता है तो उनको तुरंत अस्पताल ले जाने की जरूरत होती है। अगर समय -समय पर रक्त के ऑक्सीजन के स्तर की जांच की जाती रहे, तो व्यक्ति की अवस्था के बारे में पता चलता रहता है। यदि सांस लेने अधिक कठिनाई हो रही है तो यह कोविड 19 का प्रमुख लक्षण माना जाता है। आपको बता दे, बुखार आना, खांसी, थकान, स्वाद में कमी आदि कोरोना के लक्षण में आते है अगर आपको इनमे से कोई लक्षण महसूस हो रहा है तो अपने चिकिस्तक से संपर्क कर सकते है। पल्स ऑक्सीमीटर को लेकर बहुत लोगो के मन सवाल आ रहा होगा की यह उपकरण कैसे काम करता होगा, तो चलिए आज के लेख में पल्स ऑक्सीमीटर क्या है के बारे में विस्तार से बतायेंगे। 

  • पल्स ऑक्सीमीटर कैसे काम करता है ? How Pulse Oximeter works in Hindi.
  • कोरोना में पल्स ऑक्सीमीटर कैसे मदद कर सकता है ? How Pulse Oximeter helps in Corona in Hindi
  • पल्स ऑक्सीमीटर किन लोगो के लिए उपयोगी होता हैं ? For whom Pulse Oximeter is useful in Hindi.

पल्स ऑक्सीमीटर कैसे काम करता है ? How Pulse Oximeter works in Hindi.

  • यह उपकरण आपके दिल की गति का पता लगाती है की आपका दिल अच्छे से काम कर रहा है या नहीं। शरीर का मुख्यअंग दिल होता है क्योंकि दिल पुरे शरीर में रक्त पहुंचाने का काम करता है। यह उपकरण फेफड़ो की स्तिथि को भी बता सकता है की आपका फेफड़ा सही से अपना काम कर रहा है या नहीं। इसके अलावा सांस से जुडी समस्या के बारे में जानकारी देता है। 
  • जैसा की आपको आगे हमने बताया पल्स ऑक्सीमीटर आपके रक्त में ऑक्सीजन के लेवल को मापने का काम करती है। चिकित्सक के अनुसार मनुष्य के शरीर में 89 प्रतिशत से ज्यादा ऑक्सीजन का स्तर होना चाहिए। 89 प्रतिशत से ज्यादा ऑक्सीजन का स्तर का रहना व्यक्ति का स्वस्थ होना बताता है। इसके अलावा 89 प्रतिशत से कम ऑक्सीजन का लेवल होता है तो व्यक्ति की तबियत खराब हो सकती है। (और पढ़े – कोरोना वायरस से बचाव कैसे करें)

कोरोना में पल्स ऑक्सीमीटर कैसे मदद कर सकता है ? How Pulse Oximeter helps in Corona in Hindi

कोरोना वायरस के हल्के लक्षण जिनमे नजर आते है उनको चिकिस्तक घर रहकर खुद को क्वारेंटीन रखने की सलाह देते है और पल्स ऑक्सीमीटर से अपने ऑक्सीजन के स्तर की जांच करने की सलाह देते है। इसके अलावा जो लोग अपना ऑक्सीजन लेवल की जांच करना चाहते है तो पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग कर सकते है। इस उपकरण का उपयोग करने के लिए आप इस पर अपनी एक उंगली रखेंगे और यह उपकरण रीडिंग कर रक्त के ऑक्सीजन का स्तर बताते है। सांस की बीमारी से पीड़ित लोग घर में अपना ऑक्सीजन के स्तर की जांच कर सकते है। अगर जांच में ऑक्सीजन का स्तर बहुत कम है तो तुरंत आप अस्पताल में जा सकते है। (और पढ़े – कोरोना वायरस के दौरान घर पर काम कैसे करें)

पल्स ऑक्सीमीटर किन लोगो के लिए उपयोगी होता हैं ? For whom Pulse Oximeter is useful in Hindi.

पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग कुछ अन्य लोगो को करने की सलाह दी जाती है। 

  • जैसे – कोई फेफड़े की बीमारी से ग्रस्त हो। 
  • अस्थमा की बीमारी। 
  • निमोनिया की समस्या हो। 
  • हृदय की बीमारी हो। 
  • सीओपीडी में। 

इसके अलावा किसी व्यक्ति में कुछ लक्षण नजर आये तो यह उपकरण का उपयोग करके रक्त में ऑक्सीजन के स्तर का पता लगा सकते है। उस व्यक्ति को अस्पताल ले जाने की जरुरत है या नहीं। 

इन लक्षणो में शामिल है। 

  • बुखार। 
  • खांसी। 
  • सांस लेने में कठिनाई आदि। 
  • हालांकि जिन लोगो को पहले से बीपी या शुगर व दिल की बीमारी है वे पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग कर सकते है। (और पढ़े – डायबिटीज का इलाज क्या हैं)

हमें आशा है की आपके प्रश्न पल्स ऑक्सीमीटर क्या है ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको पल्स ऑक्सीमीटर के बारे में अधिक जानकारी चाहिए तो संक्रामक रोग चिकिस्तक (Infection Diseases Specialist ) से संपर्क कर सकते है। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Infectious Disease in Delhi 

Best Infectious Disease in Mumbai

Best Infectious Disease in Chennai

Best Infectious Disease in Bangalore