थायराइड क्या होता है। जानिए इसके कारण,लक्षण,इलाज व घरेलु उपचार। Thyroid Meaning in Hindi

Login to Health अप्रैल 5, 2019 Lifestyle Diseases 13055 Views

English हिन्दी Bengali Tamil

थाइरोइड

आज भारत में दस में एक व्यक्ति थायराइड की बीमारी से पीड़ित है। भारत स्वास्थ मंत्रालय की तरफ से थायराइड का इलाज खर्च कम कर दिया है। जिससे लोग अपना इलाज करवा सके। पुरुषो की तुलना में महिलाओं में अधिक थायराइड की समस्या होती है। थायराइड व्यक्ति के शरीर में पाये जाने वाले अंतौरान्ड ग्लांड्स में से एक है। थायराइड गर्दन में श्वास नाली के ऊपर तितली के आकार की होती है। यह थ्योरिकसिन नामक हार्मोन्स बनाती है। यह शरीर की ऊर्जा Metabolism को बढ़ाता है। यह थायराइड ग्रंथि शरीर में स्थित कोशिकाओं को नियंत्रित करता है। यह एक तरह का मास्टर लिवर होता है। जो ऐसे जींस का स्राव करती है। जो सभी कोशिकाओं में रक्त पहुंचाने का कार्य करती है। इस ग्रंथि के सही तरह से काम ना कर पाने से बहुत सी परेशानीया उत्पन्न होती है। सभी के दिमाग में यह सवाल आ रहा होगा इसका उपचार क्या है चलिए आगे और जानकारी लेते है।

  • थायराइड क्या है ? (What is Meaning of Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड कितने प्रकार के होते है ? (What are The Types of Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड के कारण क्या है ? (What are The Causes of Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या खाने से परहेज करना चाहिए ? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid in Hindi.)

  • थायराइड के आम पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ’S For Thyroid)

थायराइड क्या है ? (What is Meaning of Thyroid in Hindi)

थायराइड गले की बीमारी होती है जो शुरुवात में पता नहीं लगती है लेकिन बढ़ने पर यह आसानी से गले पर नजर आती है। यह गले पर गोल आकर के जैसा होता है। यह आयोडीन की कमी से होता है इसलिए भोजन में आयोडीन नमक मिलाकर खाये जिससे थायराइड जैसी समस्या नहीं होगी।

थायराइड कितने प्रकार के होते है ? (What are The Types of Thyroid in Hindi)

थायराइड दो तरह से होता है। T3 हाइपरथायराइज्मि, T4 हाइपोथायरायडिज्म। यह ग्रंथि अन्य हार्मोन्स के प्रति सवेंदनशील होती है।

थायराइड के कारण के कारण क्या है ? (What are The Causes of Thyroid in Hindi)

थायराइड के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं।

  • थायराइड का सबसे सामान्य कारण ग्रेव्स डिजीज है। यह एक तरह का ऑटोइम्यून रोग है जिसमे ऑटो एंटीबाडी अधिक मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन ग्रंथि को उत्तेजित करने लगती है। यह अक्सर महिलाओं में अधिक होता है।
  • थायराइड ग्रंथि पर गांठ बनने के कारण हार्मोन का अधिक मात्रा में स्राव हो सकता है।
  • शरीर में आयोडीन का अधिक कमी होने से थायराइड की समस्या होती है।
  • गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में हार्मोन के बदलाव होते रहते है। इनमे कुछ हार्मोन के बदलाव से हाइपरथायराइडिज्म हो सकता है। इसके अलावा पिट्यूटरी ग्रंथि में कैंसर कोशिका के विकसित होने पर थायराइड हार्मोन का उत्पादन बढ़ सकता है।
  • थायराइड उन लोगो को होने का खतरा अधिक रहता है जो अधिक तनाव में रहते है, इसलिए लोगो को तनाव प्रबंधन करने का प्रयास करना चाहिए।
  • जिन लोगो को हाई बीपी या लो बीपी की समस्या होती है, उनको थायराइड होने का जोखिम अधिक रहता है।
  • थायराइड की समस्या अक्सर जन्म देने के बाद माँ को हो सकता है, किंतु कुछ समय के बाद अपने आप ठीक हो जाता है। यदि महिला को लंबे समय तक थायराइड बनता है तो तुरंत इलाज करवा लेना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भावस्था में तनाव की समस्या)

थायराइड के लक्षण क्या है ? (What are The Symptoms of Thyroid in Hindi)

  • थायराइड के निम्लिखित लक्षण है।

  • कब्ज होना।

  • शरीर का वजन।

  • हाथ-पैर ठंडे होना।

  • त्वचा सुखना।

  • तनाव में रहना।

  • आलसपन होना।

  • जुखाम ठीक नहीं होना।

  • शारीरिक व मानसिक विकास में बाधा उत्पन्न होना।

  • बालो का गिरना।

(बालो की गिरने की समस्या को दूर करने के लिए पढ़े हेयर फॉल क्यों होता है)

थायराइड का इलाज क्या है ? (What are The Treatments for Thyroid in Hindi)

  • थायराइड बीमारी का विभिन्न प्रकार से इलाज किया जाता है। जैसे ग्रंथ नलिका में कोई समस्या उत्पन्न हो रही है, तो डॉक्टर कुछ एंटीबायोटिक दवाइयों की खुराक देते है जिससे थायराइड को कम किया जा सके।
  • अगर व्यक्ति को गले में दर्द की शिकायत होती है, तो डॉक्टर पहले व्यक्ति के रक्त की जांच करता है। रक्त में TSH और TRM की मात्रा देखी जाती है यह जानने के लिए थायराइड के लक्षण है या नहीं है। परिणाम मिलने के बाद ही डॉक्टर इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का सुझाव देते है।
  • दवाओं के लेने से कभी-कभी थायराइड में Cyst की संभावना हो जाती है। Cyst अन्य बीमारी का भी कारण बन सकता है इसलिए डॉक्टर सर्जरी के द्वारा Cyst को हटा देते है।
  • यदि व्यक्ति को थायराइड में कैंसर होता है, तो डॉक्टर कीमोथेरेपी और विकिरण की सहायता से इलाज करते है। यदि थायराइड की स्थिति अधिक ख़राब हो जाती है तो डॉक्टर सर्जरी करने का निणर्य भी ले सकते है।

थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए घरेलु उपचार क्या है ? (What are The Home Remedies for Thyroid in Hindi)

  • लौकी के रस में तुलसी के पत्ते मिलाकर पीये। थायराइड की समस्या दूर होगी।
  • खानो में अधिक मछली का तेल इस्तेमाल करे क्योकि मछली के तेल में ओमेगा फैटि तत्व होता है।
  • सेब का सिरका खाना चाहिए क्योकि सेब के सिरके में अल्काइन एसिड होता है जो उच्च रक्तचाप में मदद करता है।
  • अदरक की चाय में शहद मिलाकर पीये इससे बहुत आराम मिलेगा। अदरक में पोटैशियम, जिक जैसे तत्व होते है जो थायराइड की समस्या को कम करते है।
  • हरी धनिया की चटनी भोजन में मिलाकर इसका सेवन करे जिससे पाचनक्रिया अछि रहेगी तो थायराइड की समस्या उत्पन्न नहीं होगी।
  • योगा में प्राणायाम आसान थायराइड के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। क्योकि यह आसान उज्जायी गले पर केंद्रित होता है और साथ में सूर्य नमस्कार भी कर सकते है।
  • यदि किसी ऊतक की मिक्रोस्कोपिक और बायोप्सी के बाद गांठ की पहचान ठीक से नहीं हो पाती है तो चिकिस्तक थायरोडेक्टॉमी करवाने की सलाह दे सकते है। थायरोडेक्टॉमी से आसानी से कैंसर का पता लगाया जा सकता है। (और पढ़े – थायरोडेक्टॉमी (थाइरोइड सर्जरी) कैसे की जाती है)

थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या खाने से परहेज करना चाहिए ? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid in Hindi)

  • थायराइड में आयरन,कापरयुक्त पदार्थ का सेवन अधिक करना चाहिए। जैसे: लहसुन,प्याज,मशरूम, मुलेठी पोषक तत्व थायराइड को संतुलित करते है।
  • नारियल तेल में भोजन बनाकर खाये व दही को कम मात्रा में खाये और पनीर, टमाटर, हरी – सब्जिया, विटामिन A वाले पोषक तत्व अधिक खाये।
  • थायराइड में धूम्रपान करने से बचे व मैदे वाली बानी चीजे, बंद फूलगोभी, ब्रोक्रोली, चाय, कॉफी,चिकन,मटन,अधिक मिर्च मसाला, मलाई, नमकीन, बिस्कुट, मिठाई, चावल,सफ़ेद नमक इत्यादि खाने से बचे।

थायराइड के आम पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ’S For Thyroid)

 

  • थायराइड बढ़ने से क्या परेशानी होती हैं ?

थायराइड  बढ़ने से निम्न परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जैसे थायराइड के लक्षण में सबसे अहम चीज वजन घटना या वजन बढऩा ही है। इसके अलावा अनिंद्रा, ज्यादा प्यास लगना, ज्यादा पसीना, हाथ कांपना, दिल का तेजी से धड़कना, कमजोरी एंव चिंता आदि हो सकता हैं।

  • थायराइड कैसे ठीक होगा ?

थायराइड को ठीक करने के लिए निम्न सावधानी रख सकते है।

  • जैसे – बहुत सारे रसायन थायराइड हार्मोन के उत्पादन को बदल सकते हैं। किसी भी तरह के प्रोसेस्ड फूड से बचने की जरूरत है; वे थायरॉयड विकार के किनारे पर हैं। इसके बदले आप स्वस्थ भोजन कर सकते है जो शरीर के लिए फायदेमंद होते है।
  • सोया के सेवन को सीमित करें क्योंकि यह हार्मोन उत्पादन को बदल देता है।
  • धूम्रपान के दौरान निकलने वाले विषाक्त पदार्थ थायरॉयड ग्रंथि को संवेदनशील बना सकते हैं जिससे थायरॉइड विकार हो सकते हैं। यदि विकार पहले से है तो और बढ़ा सकते है।
  • तनाव थायरॉयड रोग सहित कई स्वास्थ्य विकारों में प्रमुख योगदानकर्ताओं में से एक है। इसलिए जितना हो सके तनाव से दूर रहने की कोशिश करें। आप तनाव कम करने के लिए सुबह योगा और व्यायाम का सहारा ले सकते है।
  • क्या थायराइड लाइलाज है ?

जी, नहीं किसी भी बीमारी की तरह थायराइड का इलाज भी संभव है, इसके लिए दवा, सर्जरी आदि तरीको से उपचार किया जाता है। 

  • थायराइड की गोली कब लेनी चाहिए ?

थायराइड की गोली सुबह खाली पेट ले सकते है। इसके अलावा कुछ खाने के 50 मिनट पहले गोली ले सकते हैं। 

  • थायराइड कितना होना चाहिए ?

वयस्क में थायराइड का स्तर 0.4 से 5 मिली इंटरनेशनल यूनिट्स प्रति लीटर (mIU/L) होना सामान्य होता है। 

  • क्या थायराइड टेस्ट खाली पेट होता है ?

जी हा, जिस तरह डायबिटीज की जांच सुबह खाली पेट किया जाता है, उसी तरह थायराइड की जांच भी खाली पेट की जाती हैं। 

  • थायराइड को जड़ से खत्म करने के लिए क्या करें ?

थायराइड को जड़ से खत्म करने के लिए अपने चिकिस्तक द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करे। इसके अलावा कुछ घरेलु उपचार के उपयोग से थायराइड को जड़ से खत्म करने में मदद हो सकती है। जैसे अश्वगंधा हार्मोन्स के असंतुलन को दूर करने में लाभदायक होता है इसलिए अश्वगंधा चूर्ण के सेवन करने से थायराइड को ठीक कर सकते है। इसके लिए अश्वगंधा चूर्ण को एक चम्मच गाय के दूध में मिलाकर रात को सोने से पहले ले। 

  • क्या थायराइड में गले में दर्द होता है ?

जी हां, थायराइड बीमारी थायरॉइड ग्रंथि में गड़बड़ी के कारण होती है। इसके अलावा हार्मोंस में असंतुलन होने से गले में दर्द, सूजन और भारीपन जैसे लक्षण नजर आते हैं।

  • थायराइड कैंसर कैसे होता हैं ?

थायराइड कैंसर का सटीक कारण नहीं है लेकिन थायराइड ग्रंथि बढ़ने पर कैंसर का जोखिम हो सकता है। थायराइड ग्रंथि ह्रदय की गति, वजन, हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करती है। थायराइड कैंसर यह तब होता है जब कोशिकाएं म्यूटेशन से गुजरती है। असामान्य कोशिकाएं ट्यूमर बनाने लगती है और असामान्य कोशिकाएं आसपास के ऊतक पर प्रहार करने लगती है। इसके अलावा शरीर के अन्य भागो में फैलने लगती है। थायराइड कैंसर ट्यूमर में पाई जाने वाली कोशिकाओं के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है।

  • थायराइड कितने दिन में ठीक हो जाता है ?

थायराइड का उपचार सटीक तरीके से करवाने से मरीज जल्दी निजात पा सकता है। थायराइड का उपचार मरीज की स्तिथि पर निर्भर होता है क्योंकि कुछ लोगो को रोजाना गोली का सेवन करने की सलाह देते है। कुछ लोगो की अन्य जांच के आधार पर उपचार किया जाता है ताकि थायराइड से ठीक होने में मदद मिल सके।

  • थायराइड की जांच कितने रूपये में होती हैं ?

थायराइड की जांच 299 रुपये में होती है, लेकिन कही पर इससे कम या अधिक हो सकता हैं।

  • प्रेगनेंसी में थायराइड होने से क्या होता हैं ?

प्रेगनेंसी में थायराइड होने से बहुत से जोखिम का सामना करना पड़ता है। थायराइड ग्रंथि हार्मोन असामान्य होने से शिशु के मानसिक व शारीरिक विकास में समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके अलावा शिशु का जन्म समय से पहले हो सकता है। प्रेगनेंसी में थायराइड होने से महिला का वजन बढ़ सकता है या दिल की धड़कने की गति बढ़ सकती है। इसलिए गर्भवती होने पर थायराइड की जांच जरूर करवाना चाहिए।

  • थायराइड में चावल खाना चाहिए ?

थायराइड में नया चावल नहीं खाना चाहिए बल्कि पुराने चावल का सेवन कर सकते हैं।

 

हमें आशा है आपके प्रश्न थायराइड क्या  है ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं।

अगर आपको थायराइड की समस्या है और घरेलु उपचार से भी ठीक नहीं हो पा रहा है तो तुरंत Top Endocrinologists in India  एंडोक्रिनोलॉजिस्ट्स डॉक्टर से संपर्क करे।