थायराइड विकार क्या हैं। Thyroid Disorders in Hindi

Dr Rohan Sequeira

Dr Rohan Sequeira

Internal Medicine/Physician, Jaslok Hospital, 30 years of experience

अप्रैल 5, 2019 Lifestyle Diseases 69115 Views

English हिन्दी Bengali Tamil العربية

थायराइड विकार का मतलब हिंदी में,  (Thyroid Disorders Meaning in Hindi)

थायराइड क्या है?

थायराइड एक तितली के आकार की ग्रंथि है जो गर्दन में श्वासनली (विंडपाइप) के सामने मौजूद होती है। थायराइड का कार्य हार्मोन को स्रावित करना है जो शरीर के कामकाज को बदलता और नियंत्रित करता है। थायरोक्सिन (T4) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) थायराइड हार्मोन हैं। ये हार्मोन थायरॉयड ग्रंथि द्वारा सीधे रक्त में स्रावित होते हैं और शरीर के विभिन्न अंगों की भृमण करते हैं। ये हार्मोन शरीर की चयापचय गतिविधियों को नियंत्रित करते हैं।

  • थायराइड विकार क्या हैं? (What are Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायरॉइड विकार कितने प्रकार के होते हैं? (What are the Types of Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायरॉइड विकार के कारण क्या हैं? (What are the Causes of Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायराइड विकार के लक्षण क्या हैं? (What are the Symptoms of Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायरॉइड विकारों के मामले में क्या जांच की जाती है? (What are the Investigations done in case of Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायरॉइड विकारों के उपचार क्या हैं? (What are the Treatments for Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायराइड विकारों में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid Disorders in Hindi)
  • थायरॉइड बीमारी के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल  ? (Frequently Asked Questions about Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड विकार क्या हैं? (What are Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड हार्मोन के स्तर में असामान्य कामकाज या कोई विचलन थायराइड विकार का संकेत है। संकेतक के रूप में उपयोग किए जाने वाले मुख्य हार्मोन हैं। 

  • थायराइड उत्तेजक हार्मोन (TSH) – यह मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि (मास्टर ग्रंथि) द्वारा स्रावित एक हार्मोन है। थायराइड हार्मोन T3 और T4 का उत्पादन TSH द्वारा नियंत्रित किया जाता है। T3 और T4 बदले में TSH के स्राव को कम करते हैं।
  • थायरोक्सिन (T4) – यह थायराइड द्वारा स्रावित हार्मोन में से एक है जो बेसल चयापचय दर के साथ-साथ प्रोटीन संश्लेषण को नियंत्रित करता है।
  • ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) – यह T4 के समान कार्य करता है लेकिन अधिक शक्तिशाली है और कम मात्रा में स्रावित होता है।

थायरॉइड विकार कितने प्रकार के होते हैं? (What are the Types of Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड विकार मुख्य रूप से घेंघा के रूप में जाने जाने वाले व्यापक शब्द के अंतर्गत आते हैं। थायरॉयड ग्रंथि के बढ़ने को घेंघा कहते हैं। इसे निम्नानुसार वर्गीकृत किया गया है। 

सरल (गैर-विषाक्त) घेंघा – यह ग्रंथि के कार्य में बिना किसी परिवर्तन के थायरॉयड ग्रंथि का एक सौम्य इज़ाफ़ा है, अर्थात; यह यूथुरॉयड अवस्था में है (सामान्य रूप से कार्य कर रहा है)।

साधारण घेंघा के प्रकार  –

  • डिफ्यूज हाइपरप्लास्टिक (सबसे आम)
  • कोलाइड गोइटर। 
  • बहुकोशिकीय गण्डमाला। 

विषाक्त घेंघा – यह T3 और T4 के बढ़े हुए स्राव से जुड़ा है। इज़ाफ़ा मौजूद हो भी सकता है और नहीं भी। रोगी हाइपरथायरॉइड अवस्था (सामान्य कामकाज से ऊपर) में है। व्यक्ति हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण दिखाता है।

  • कब्र रोग। 
  • प्लमर रोग। 
  • विषाक्त एकान्त नोड्यूल। 

नियोप्लास्टिक गोइटर – यह कैंसर के विकास के कारण होता है जो सौम्य या घातक हो सकता है।

  • सौम्य। 
  • घातक-कार्सिनोमा थायराइड। 

थायरॉइडाइटिस – एक ऑटोइम्यून प्रक्रिया के कारण थायरॉयड की सूजन, जो थायरॉयड ग्रंथि के हाइपर या हाइपो फंक्शनिंग का कारण बनती है।

  • हाशिमोटो का थायराइडाइटिस। 
  • डी कर्वेन का थायरॉइडाइटिस। 
  • रिडेल की थायराइडिसिस। 

थायरॉइड विकार के कारण क्या हैं? (What are the Causes of Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड विकार निम्नलिखित कारणों से हो सकते हैं। 

  • आयोडीन की कमी (सबसे आम)
  • गोइट्रोजन का सेवन – वे रसायन होते हैं जो थायराइड हार्मोन के संश्लेषण को रोकते हैं। 
  • ऑटोइम्यून – शरीर एंटीबॉडी बनाता है जो थायराइड को अत्यधिक उत्तेजित या बाधित करता है जिससे क्रमशः हाइपरथायरायडिज्म या हाइपोथायरायडिज्म होता है
  • विकिरण के लिए एक्सपोजर। 
  • लंबे समय तक चलने वाला साधारण घेंघा: कैंसर में परिवर्तन से गुजर सकता है। 
  • आनुवंशिक संवेदनशीलता। 
  • दुर्लभ कारण: जीवाणु संक्रमण या अन्य बीमारियों के कारण होने के कारण। 

(और पढ़ें – हाइपोथायरायडिज्म क्या है)

थायराइड विकार के लक्षण क्या हैं? (What are the Symptoms of Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड विकारों के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। 

  • गर्दन के सामने दर्द रहित सूजन होना। 
  • धड़कन (अपने खुद के दिल की धड़कन सुनना)
  • हृदय ताल की अनियमितता। 
  • टैचीकार्डिया (उच्च हृदय गति)
  • एक्सोफथाल्मोस (नेत्रगोलक का बाहर निकलना)
  • चिंता

(और पढ़ें – डिप्रेशन के लक्षण)

  • अनिद्रा
  • अवसाद
  • बदला हुआ मासिक धर्म
  • बांझपन

(और पढ़ें – बांझपन का जोखिम कारक)

  • वजन घटाने या वजन बढ़ने के कारण बेसल चयापचय दर में वृद्धि या कमी। 
  • तापमान में परिवर्तन के प्रति असहिष्णुता। 
  • संपीड़न के कारण- डिस्पेनिया (सांस फूलना), डिस्पैगिया (निगलने में कठिनाई), आवाज की कर्कशता, बेहोशी के दौरे। 

थायरॉइड विकारों के मामले में क्या जांच की जाती है? (What are the Investigations done in case of Thyroid Disorders in Hindi)

किसी भी थायरॉइड विकार के निदान के लिए की जाने वाली मूल जांच को थायरॉइड प्रोफाइल के रूप में जाना जाता है। थायराइड प्रोफाइल में निम्नलिखित परीक्षण शामिल हैं। 

  • थायरॉइड फंक्शन टेस्ट – सीरम टी3, टी4, टीएसएच
  • थायरॉइड की अल्ट्रासोनोग्राफी (USG)
  • थायराइड सीटी स्कैन या एमआरआई। 
  • सीरम लैट्स -ग्रेव्स डिजीज के मामलों में लॉन्ग-एक्टिंग थायरॉइड स्टिमुलेटर (LATS) एंटीबॉडीज देखी जाती हैं। 
  • सीरम कैल्सीटोनिन: थायराइड के कार्सिनोमा में बढ़ सकता है। 
  • FNAC – फाइन नीडल एस्पिरेशन कोशिका विज्ञान कोशिकाओं के सूक्ष्म आकारिकी को देखने के लिए किया जाता है जो कैंसर के साथ-साथ कैंसर के प्रकार का पता लगाने में मदद करता है।
  • गर्दन का एक्स-रे – इज़ाफ़ा की सीमा और आसपास की संरचनाओं पर बढ़े हुए थायरॉयड का प्रभाव व कैल्सीफिकेशन की उपस्थिति (सीए थायराइड में देखा गया)
  • छाती का एक्स-रे – कैंसर के फैलने या छाती की गुहा में बढ़े हुए थायरॉयड के विस्तार की जांच करने के लिए किया जाता हैं। 
  • अप्रत्यक्ष लैरींगोस्कोपी – मुखर रस्सियों की गति की कल्पना करने के लिए (तंत्रिका संपीड़न के मामले में गति में कमी)

थायरॉइड विकारों के उपचार क्या हैं? (What are the Treatments for Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड विकारों का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि रोगी किस प्रकार के विकार से पीड़ित है। थायराइड विकारों के लिए उपचार की मुख्य लाइनें मेडिकल, सर्जिकल हॉर्मोनल और रेडिएशन हैं।

सरल (गैर विषैले) घेंघा –

  • चिकित्सा -आयोडीन पूरकता
  • सर्जिकल – सबटोटल थायरॉइडेक्टॉमी, जिसमें थायरॉयड के लोब और इस्थमस दोनों को हटा दिया जाता है, लेकिन श्वासनली और अन्नप्रणाली के जंक्शन पर कुछ हिस्सा संरक्षित रहता है।

विषाक्त घेंघा –

  • मेडिकल – एंटीथायरॉइड दवाएं जो थायराइड हार्मोन के उत्पादन को कम करती हैं।
  • विकिरण – रेडियोधर्मी आयोडीन की गोलियां, थायरॉयड ऊतक को नष्ट करने में मदद करती हैं ताकि एक यूथायरॉयड अवस्था प्राप्त की जा सके।
  • सर्जिकल – चिकित्सा लाइन और विकिरण चिकित्सा विफल होने पर यह आमतौर पर अंतिम विकल्प होता है। या तो कुल थायरॉयडेक्टॉमी या सबटोटल थायरॉयडेक्टॉमी की जाती है।

थायराइड का नियोप्लाज्म – 

  • सर्जिकल – सेंट्रल नोड कम्पार्टमेंट नेक डिसेक्शन के साथ टोटल थायरॉइडेक्टॉमी। (गर्दन में लिम्फ नोड्स हटा दिए जाते हैं)
  • हार्मोनल – उच्च खुराक थायरोक्सिन; आकार में और वृद्धि को रोकने के लिए टीएसएच स्राव को दबा देता है।
  • विकिरण – रेडियोधर्मी आयोडीन। माध्यमिक के लिए विकिरण चिकित्सा।
  • कीमोथेरेपी

थायराइडाइटिस

  • हार्मोनल – हाइपोथायरायडिज्म के इलाज के लिए एल-थायरोक्सिन पूरकता।
  • मेडिकल – सूजन का इलाज करने और ऑटोइम्यून एंटीबॉडी को कम करने के लिए स्टेरॉयड थेरेपी।
  • सर्जिकल – सबटोटल या हेमी थायरॉयडेक्टॉमी तब की जाती है जब थायरॉयड बहुत बड़ा हो जाता है या आसपास की संरचनाओं को संकुचित कर रहा होता है और रोगी को असुविधा होती है।

थायराइड विकारों में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए? (What Food to Eat and Avoid in Thyroid Disorders in Hindi)

जब किसी थायराइड विकार की बात आती है तो कोई आहार प्रतिबंध नहीं होता है। सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है कि पर्याप्त व्यायाम के साथ-साथ पौष्टिक खाद्य पदार्थों के साथ एक संतुलित आहार लिया जाए। यह चिकिस्तक द्वारा दिए गए उपचार का पूरक है और इसका उपयोग उपचार के विकल्प के रूप में नहीं किया जाना चाहिए। यह आगे की समस्याओं को रोकने में मदद करता है जो थायराइड विकार के कारण उत्पन्न हो सकती हैं। केवल एक ही खाद्य पदार्थ जिसे किसी भी थायरॉयड रोग से बचना पड़ सकता है, वह है गोइट्रोजन युक्त खाद्य पदार्थ। कारणों में इसकी भूमिका की व्याख्या की गई है। गोइट्रोजन युक्त खाद्य पदार्थ हैं। 

  • सोया खाद्य पदार्थ- टोफू, सोया दूध, सोयाबीन, आदि।
  • कसावा। 
  • बाजरा। 
  • क्रूसिफेरस सब्जियां– पत्ता गोभी, ब्रोकली, फूलगोभी आदि।

ये खाद्य पदार्थ केवल बड़ी मात्रा में हानिकारक होते हैं और अन्यथा खाने के लिए सुरक्षित होते हैं।

(और पढ़ें – बवासीर के लिए डाइट प्लान)

थायरॉइड विकारों के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न ? (Frequently Asked Questions about Thyroid Disorders in Hindi)

थायराइड बढ़ने से जुड़ी समस्याएं क्या हैं?

थायराइड विकारों से जुड़ी समस्याओं के बारे में ऊपर लक्षणों में बताया गया है। थायराइड के बढ़ने से विशेष रूप से उत्पन्न होने वाली समस्याएं हैं। 

  • श्वासनली के संपीड़न के कारण डिस्पेनिया (सांस फूलना)
  • अन्नप्रणाली के संपीड़न के कारण डिस्फेगिया (निगलने में कठिनाई)
  • स्वरयंत्र तंत्रिका (मुखर डोरियों की आपूर्ति करने वाली तंत्रिका) के संपीड़न के कारण आवाज की कर्कशता। 
  • मस्तिष्क में रक्त ले जाने वाली सामान्य कैरोटिड धमनी के संपीड़न के कारण बेहोशी का दौरा पड़ना। 

क्या थायराइड रोग लाइलाज है?

नहीं, किसी भी बीमारी की तरह; थायराइड का इलाज भी संभव है। थायराइड का इलाज दवाओं, सर्जरी आदि से किया जा सकता है। थायराइड की किसी भी बीमारी का संदेह होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

थायराइड की दवाएं कब लेनी चाहिए?

थायराइड की गोली का सेवन सुबह खाली पेट करना चाहिए इसके अलावा, कुछ लोग भोजन से 50 मिनट पहले इन दवा को खा सकते हैं। 

थायराइड हार्मोन के सामान्य स्तर क्या हैं?

  • टीएसएच- 0 से 5 आईयू/एमएल (अंतर्राष्ट्रीय इकाइयां प्रति एमएल)
  • T3- 1.2 से 3.1 nmol/l (नैनोमोल प्रति लीटर)
  • T4- 55 से 150 एनएमओएल/ली
  • मुफ़्त टी3- 3 से 9 एनएमओएल/ली
  • मुफ़्त T4- 8 से 26 एनएमओएल/ली
  • (नोट: सामान्य श्रेणियां प्रयोगशाला से प्रयोगशाला में भिन्न होती हैं)

क्या थायराइड टेस्ट खाली पेट किया जाता है?

नहीं, थायराइड फंक्शन टेस्ट के लिए उपवास रखने की जरूरत नहीं है।

थायराइड विकारों को जड़ से खत्म करने के लिए क्या करें?

थायराइड को जड़ से खत्म करने के लिए अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें। इसके अलावा कुछ घरेलू नुस्खों के इस्तेमाल से थायराइड को जड़ से खत्म करने में मदद मिल सकती है। संतुलित आहार बनाए रखने और नियमित व्यायाम करने के साथ डॉक्टर के उपचार की पूर्ति करना महत्वपूर्ण है। बिना डॉक्टर की सलाह के कोई अन्य घरेलू उपचार या दवाएं न आजमाएं।

क्या थायराइड रोग गले में खराश का कारण बनता है?

जी हां, थायरॉइड ग्रंथि में गड़बड़ी के कारण थायराइड रोग होता है। इसके अलावा; यह हार्मोन में असंतुलन के कारण हो सकता है, गले में खराश, सूजन और भारीपन जैसे लक्षण हो सकते हैं।

थायराइड कैंसर कैसे होता है?

थायराइड कैंसर का सही कारण ज्ञात नहीं है, लेकिन बढ़े हुए थायरॉयड ग्रंथि से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। थायरॉयड ग्रंथि हृदय गति, वजन और हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करती है। थायराइड कैंसर तब होता है जब कोशिकाएं उत्परिवर्तन से गुजरती हैं। असामान्य कोशिकाएं ट्यूमर बनाने लगती हैं और असामान्य कोशिकाएं आसपास के ऊतकों पर आक्रमण कर सकती हैं। यहीं से यह शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने लगता है। ट्यूमर में पाई जाने वाली कोशिकाओं के आधार पर थायराइड कैंसर को वर्गीकृत किया जा सकता है।

(और पढ़ें – थायराइड कैंसर के कारण)

थायराइड कितने दिनों में ठीक हो जाता है?

थायराइड का इलाज सही तरीके से करवाने से मरीज को महीनों में ही इससे जल्दी छुटकारा मिल सकता है। थायराइड का उपचार रोगी की स्थिति पर निर्भर करता है, क्योंकि कुछ लोगों को प्रतिदिन दवा लेने की सलाह दी जाती है। कुछ लोगों को थायराइड से उबरने में मदद करने के लिए अन्य परीक्षणों के आधार पर उनका इलाज किया जाता है।

थायराइड परीक्षण की लागत कितनी है?

थायराइड परीक्षण की लागत, आमतौर पर TSH, T3 और T4 पैरामीटर शामिल हैं, INR 300- INR 500 है, लेकिन यह कुछ स्थानों पर इससे कम या अधिक हो सकता है।

अगर आपको गर्भावस्था में थायराइड है तो क्या होगा?

गर्भावस्था में थायराइड की समस्या होने के साथ कई जोखिम भी आते हैं। थायरॉयड ग्रंथि के असामान्य हार्मोन के कारण बच्चे के मानसिक और शारीरिक विकास में समस्याएं उत्पन्न होती हैं। इसके अलावा समय से पहले बच्चे का जन्म हो सकता है या मां का बार-बार गर्भपात हो सकता है। इस प्रकार, थायराइड परीक्षण आमतौर पर गर्भाधान से पहले और गर्भावस्था के दौरान भी किए जाते हैं। यदि किसी को गर्भावस्था के दौरान थायराइड रोग का पता चलता है तो यह आमतौर पर बहुत बड़ी समस्या नहीं होती है। कई दवाएं हैं जो गर्भावस्था के दौरान उपयोग के लिए सुरक्षित हैं। यदि अधिक निश्चित उपचार की आवश्यकता होती है तो प्रसव तक केवल सुरक्षित दवाएं दी जाती हैं, जिसके बाद मां को सर्जरी या रेडियोथेरेपी के लिए ले जाया जा सकता है।

हमें आशा है कि हम इस लेख के माध्यम से थायराइड विकार के संबंध में आपके प्रश्न का उत्तर दे पाए हैं।

यदि आप थायराइड विकारों के बारे में अधिक जानकारी और उपचार चाहते हैं, तो आप Endocrinologist  से संपर्क कर सकते हैं।

हमारा उद्देश्य केवल इस लेख के माध्यम से आपको जानकारी देना है। हम किसी भी तरह से दवा, इलाज की सलाह नहीं देते हैं। केवल एक डॉक्टर ही आपको सबसे अच्छी सलाह दे सकता है।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox