साबुत अनाज के फायदे और नुकसान । Whole Grain Benefits and Side Effects in Hindi

Login to Health मई 12, 2021 Lifestyle Diseases 62 Views

हिन्दी

साबुत अनाज का मतलब हिंदी में,  (Whole Grain Meaning in Hindi)

साबुत अनाज हमारे शरीर को अच्छी मात्रा में पोषक तत्व प्रदान करता है। अध्ययन के अनुसार साबुत अनाज शरीर के लिए फायदेमंद होता है। इस वजह से डायबिटीज, हाई बीपी, हृदय रोग का खतरा कम होता है। आहार में साबुत अनाज शामिल करना उपयोगी होता है। हालांकि कुछ डाइट में अनाज शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकते है। अनाज के अलावा लोग अपने आहार में मछली, साग – सब्जी, मांस आदि खाद्य पदार्थ लिए जाते है। समय के साथ आहार में की तरह के बदलाव मानव ने किये है। लोग जंक फुड का अधिक सेवन करने लगे है जो पेट में कब्ज व जलन जैसी समस्या को उत्पन्न करता है। अनाज में फाइबर अच्छी मात्रा में होता है जो मोटापे को कम करता है। कुछ लोगो में अत्यधिक मात्रा में अनाज का सेवन करने से वसा जमा होने लगता है और मोटापा का जोखिम बढ़ाता है। चलिए आज के लेख में आपको साबुत अनाज के फायदे और नुकसान के बारे में बताने वाले हैं। 

  • साबुत अनाज के पोषक तत्व ? (Nutrients Facts of Whole Grain in Hindi)
  • साबुत अनाज के प्रकार ? (Types of Whole Grain in Hindi)
  • साबुत अनाज के फायदे ? (Benefits of Whole Grain in Hindi)
  • साबुत अनाज के नुकसान ? (Side-Effects of Whole Grain in Hindi)

साबुत अनाज के पोषक तत्व ? (Nutrients Facts of Whole Grain in Hindi)

साबुत अनाज में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होता है। इसमें अच्छी मात्रा में फाइबर, विटामिन बी, विटामिन ई, आयरन, कॉपर, ज़िंक, मैग्नीशियम, एंटीऑक्सीडेंट होता है। 

(और पढ़े – आहार में फाइबर का महत्व क्या हैं)

साबुत अनाज के प्रकार ? (Types of Whole Grain in Hindi)

साबुत अनाज के निम्न प्रकार है। इनमे शामिल है। 

  • बाजरा। 
  • ज्वार। 
  • चावल। 
  • कीनोआ।

(और पढ़े – कीनोआ के फायदे क्या हैं)

  • बल्गर। 
  • पॉपकार्न। 
  • ओटमील। 
  • राई। 
  • ब्राउन राईस। 

हालांकि इन चीजों से बने खाद्य पदार्थ को साबुत अनाज कहा जाता है जैसे रोटी, ब्रेकफास्ट आदि।

साबुत अनाज के फायदे ? (Benefits of Whole Grain in Hindi)

साबुत अनाज के निम्नलिखित फायदे है। चलिए आगे विस्तार से बताते हैं। 

  • कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण करने में –  साबुत अनाज में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में कारगर साबित होता है। यह हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को अवशोषण रोकते है। हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद करते है। कुछ शोध के अनुसार महिलाओं को आहार में साबुत अनाज को शामिल करना चाहिए। जिन महिलाओं को ह्रदय की बीमारी होती है उनको साबुत अनाज का सेवन करना चाहिए। (और पढ़े – हृदय को स्वस्थ कैसे रखें)
  • कैंसर से बचाव करने में – कैंसर जैसे घातक रोग के जोखिम से बचाव करने में साबुत अनाज फायदेमंद होता है। कुछ वैज्ञानिको के अध्ययन के अनुसार साबुत अनाज कैंसर के जोखिम को करता है। साबुत अनाज मलाशय कैंसर को रोकता है जो महिला या पुरुष दोनों को प्रभावित कर सकता है। फाइबर कैंसर के खतरे को कम करता है। ऐसा इसलिए इसमें प्रोबायोटिक व एंटीऑक्सीडेंट होता है। यदि कैंसर अधिक गंभीर है तो चिकिस्तक से निदान व उपचार पहले करवाएं। (और पढ़े – कैंसर का इलाज क्या हैं)
  • पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद – फाइबर पाचन तंत्र को मजबूत करता है  साथ ही चयापचय की क्रिया में सुधार करता है। फाइबर कब्ज की समस्या को रोकता है और मल को उत्तेजित करता है। साबुत अनाज में भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है जो आंत के फायदेमंद बैक्टीरिया को बढ़ावा देने में मदद करते है। अच्छे बैक्टीरिया पाचन तंत्र के कार्य को बढ़ावा देते है। इसके अलावा शरीर की प्रतिशा प्रणाली को मजबूत करते है।(और पढ़े – कब्ज का कारण क्या हैं)
  • डायबिटीज को नियंत्रित करने में – डायबिटीज से पीड़ित लोगो को साबुत अनाज का सेवन फायदेमंद होता है। साबुत अनाज रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा डायबिटीज को नियंत्रित करने में मदद करता है। ऐसा इसलिए साबुत अनाज में फाइबर होता है जो वजन को कम करने में मदद करता है। वजन नियंत्रित होने से डायबिटीज का जोखिम कम होता है। (और पढ़े – डायबिटीज के घरेलु उपचार)
  • स्ट्रोक से बचाव करने में – साबुत अनाज में कई तरह के पोषक तत्व और खनिज का समावेश होता है। साबुत अनाज स्ट्रोक के खतरे को कम करता है। कुछ अध्ययन के अनुसार साबुत अनाज में अच्छी मात्रा में फाइबर, यौगिक, विटामिन के व एंटीऑक्सीडेंट होने पर  स्ट्रोक के जोखिम को कम करता है। (और पढ़े – ब्रेन स्ट्रोक क्या हैं)
  • हृदय के लिए फायदेमंद – हृदय हमारे शरीर का मुख्य अंग है जिसका स्वस्थ होना अधिक जरुरी होता है। कुछ अध्ययन के मुताबिक अनाज के सेवन से हृदय रोग का खतरा कम होता है। साबुत अनाज में अधिक वसा नहीं होता है जो हृदय के रोग का खतरा कम होता हैं। (और पढ़े – दिल की कमजोरी क्या है

साबुत अनाज के नुकसान ? (Side-Effects of Whole Grain in Hindi)

साबुत अनाज के फायदे के साथ कुछ दुर्लभ स्तिथि में नुकसान हो सकता है। 

  • जिन लोगो ग्लूटेन एर्लजी होती है उन्हें सीलियक रोग होने का जोखिम बना रहता है। इस वजह से लोगो में लक्षण नजर आने लगते है जैसे अपच, जोड़ो में दर्द, थकान  शामिल हैं। ऐसे में जौ, राई गेहूं में ग्लूटेन होता है। इसका सेवन कम करना चाहिए। 
  • गेहूं जैसे अनाज में कार्बोहाइड्रेड की मात्रा अधिक होती है, इस वजह से इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षण उत्पन्न हो सकता है। 
  • यदि फाइबर के अत्यधिक सेवन से किसी तरह की समस्या होती है, तो फाइबर का कम मात्रा में सेवन करना चाहिए। (और पढ़े – बाजरा के फायदे और नुकसान)

हमें आशा है की आपके प्रश्न साबुत अनाज के फायदे और नुकसान ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको साबुत अनाज के उपयोग से स्वास्थ्य में किसी तरह की समस्या हो रही है तो सामान्य चिकिस्तक (General Physician) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best General Physician in Delhi

Best General Physician in Mumbai

Best General Physician in Chennai

Best General Physician in Bengaluru