लिवर ट्रांसप्लांट कैसे होता है । Liver Transplant Surgery in Hindi

Login to Health फ़रवरी 8, 2021 Liver Section 80 Views

हिन्दी Bengali

लिवर ट्रांसप्लांट का मतलब हिंदी में,  (Liver Transplant Surgery Meaning in Hindi)

लिवर ट्रांसप्लांट कैसे होता है ? लिवर ट्रांसप्लांट एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमे लिवर फेलियर को सर्जरी के माध्यम से हटा दिया जाता है। यदि लिवर बहुत प्रभावित हो चुका है तो डॉक्टर लिवर प्रत्यारोपण करने की सलाह देते है। लिवर प्रत्यारोपण का कार्य करने के लिए जीवित या मृत डोनर का लिवर लिया जा सकता है। क्योंकि कोई भी यंत्र या मशीन विश्वनीय तरीके से कार्य नहीं करती है। जिन मरीजों का लिवर फेल हो जाता है। उनको लिवर प्रत्यारोपण एक मात्र उपाय होता है। जिन रोगियों को प्रत्यारोपण की जरूरत होती है। वे आमतौर पर तीव्र या जीर्ण से पीड़ित होते है। आमतौर पर लिवर प्रत्यारोपण में गंभीर जटिलताएं होती है। जैसे अंत चरण में लिवर रोग, से पीड़ित व्यक्ति को वैकल्पिक उपचार के रूप में आरक्षित किया जाता है। चलिए आज के लेख में आपको लिवर ट्रांसप्लांट के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

  •  लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी क्यों किया जाता है? (What are the Purpose of Liver Transplant  in Hindi)
  • लिवर ट्रांसप्लांट से पहले की तैयारी ? (Prepare Before Liver Transplant in Hindi)
  • लिवर ट्रांसप्लांट कैसे होता है? (What are the Procedure of Liver Transplant in Hindi)
  • लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद देखभाल ? (How to Care After Liver Transplant in Hindi)
  • लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद क्या जटिलताएं आ सकती हैं ?  (What are the Risks of Liver Transplant Surgery in Hindi)
  • भारत में लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी का कितना खर्च लगता हैं ? (What is Cost of Liver Transplant in India in Hindi)

लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी क्यों किया जाता हैं ? (What are the Purpose of Liver Transplant  in Hindi)

लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी अक्सर तब किया जाता है जब लिवर ठीक तरीके से काम नहीं कर पाता है। इसके अलावा रक्त के थक्के जमना, हानिकारक बैक्टीरिया का प्रभाव हो। लिवर थोड़ा या अधिक क्षतिग्रस्त हो। ऐसे में स्वस्थ व्यक्ति के लिवर दान लेकर रोगी व्यक्ति के लिवर को निकालकर स्वस्थ लिवर ट्रांसप्लांट किया जाता है। 

  • लिवर सिरोसिस की समस्या होने पर लिवर ट्रांसप्लांट कर सकते है। 
  • बाइलरी एट्रेसिया की स्तिथि में पित्त नलिकाओं में टिश्यू बनने लगते है, ऐसे में बच्चों में लिवर ट्रांसप्लांट किया जा सकता हैं। 
  • लिवर में गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त होने पर लिवर ट्रांसप्लांट कर सकते हैं। 
  • लिवर कैंसर होने पर ट्रांसप्लांट किया जा सकता है। 
  • ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस। 
  • मेटाबोलिक रोग। 
  • वायरल हेपेटाइटिस। 
  • तीव्र यकृत परिगलन।  (और पढ़े – लिवर सिरोसिस क्या है)

लिवर ट्रांसप्लांट से पहले की तैयारी ? (Prepare Before Liver Transplant in Hindi)

लिवर ट्रांसप्लांट से पहले मरीज के शरीर की जांच की जाती है। वेटिंग लिस्ट के दौरान व्यक्ति का स्वस्थ रहना शामिल है। 

यदि नया लिवर लगाना है तो मरीज का शरीर पूरी तरह स्वस्थ होना चाहिए। हालांकि इसका पता लगाने के लिए कुछ निम्न जांच कर सकते हैं। 

  • ब्लड टेस्ट। 
  • यूरिन टेस्ट। 
  • हृदय की जांच। 
  • कैंसर स्क्रीनिंग। 
  • ऊतक व रक्त के मिलन की जांच। 
  • लिवर ट्रांसप्लांट आपके लिवर की स्तिथि व गंभीरता के आधार पर चिकिस्तक तिस से पांच साल का वेटिंग लिस्ट दे सकता है। इसके अलावा सर्जरी किस तरह करनी है यह आपके लिवर रोग पर निर्भर करता है। 

लिवर ट्रांसप्लांट कैसे होता है ? (What are the Procedure of Liver Transplant in Hindi)

लिवर ट्रांसप्लांट करने के लिए डोनर उपलब्ध रहना चाहिए। डोनर के उपलब्ध रहने पर डॉक्टर मरीज को सूचित करते है। अस्पताल में भर्ती होने के लिए ताकि पूरी तरह जांच की जाये मरीज का स्वास्थ्य कैसा है और प्रत्यारोपण का कार्य शुरू करने के लिए एक सुनिश्चित समय दिया जायेगा। 

  • ट्रांसप्लांट करने के लिए पेट में लंबा चीरा लगते है। जो की पेट के आकर के बनावट पर निर्भर करता है। 
  • सर्जन मरीज के रक्त आपूर्ति व पित्त वसीका को वियोजित कर देते है। फिर प्रभावित लिवर को बाहर निकाल देते है। सावधानी पूर्वक उसी स्तन पर नया लिवर यानि दान किया हुआ लिवर लगा देते है। उसके बाद रक्त आपूर्ति व पित्त वसीका को पीर से उसी में जोड़ देते है। सर्जरी का समय मरीज के स्थिति पर निर्भर करता है। सर्जरी में 8 से 17 घंटे भी लग सकते है। 
  • सर्जरी के बाद चिकिस्तक सर्जिकल धागे और स्टेपल्स की सहायता से पेट का चीरा सील दिया जाता है। इसके बाद ICU में रख दिया जाता है। 
  • यदि लिवर जीवित शरीर से लिया जा रहा है। तो डोनर का पूरा हिस्सा नहीं लेते बल्कि कुछ हिस्सा यानि 40 से 70 % ही लिया जाता है। ऐसे में चिकिस्तक पहले डोनर का ऑपरेशन करते है। जिससे डोनर का कुछ हिस्सा निकाल सके। यह सर्जरी 3 से 4 घंटे चलती है। 
  • डोनर व प्राप्तकर्ता दोनों के शरीर में लिवर का पुनजर्नन होता है। इसमें कुछ महीने लगते है। लिवर का आकर फिर से सामान्य रूप से होकर कार्य करने लगता है।  

लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद देखभाल ? (How to Care After Liver Transplant in Hindi)

  • सर्जरी के बाद मरीज कुछ दिनों तक ICU में रखा जायेगा। चिकिस्तक और नर्स मरीज की स्थिति को देखते रहते है। जिससे मरीज को किसी भी प्रकार की जटिलता ना हो। नये लिवर की जांच करते रहते है। 
  • इसमें मरीज को 5 से 10 दिनों तक अस्पताल में रखेंगे। 
  • अस्पताल से छुट्टी मिलने के पश्चात मरीज को हमेशा चेकअप करवाने आना चाहिए। सर्जरी के बाद चिकिस्तक कई बार रक्त की जांच कर सकते है। 
  • लिवर ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को आजीवन कुछ दवाइया खाने को दे सकते है। जिससे लिवर पर कोई बीमारी प्रहार ना कर सके। कुछ दवाएं भी दे सकते है। जिससे कोई जटिलता उत्पन्न ना हो सके। 
  • लिवर ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को पूरी तरह रिकवर होने में छे महीने का समय लग सकता है। ऐसे में मरीज कोई भारी गतिविधि नहीं करना चाहिए जबतक चिकिस्तक न कहे। 

अगर मरीज लिवर ट्रांसप्लांट के बाद निम्न लक्षण का अनुभव करता है तो चिकिस्तक से संपर्क कर सकते हैं।

लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के बाद क्या जटिलताएं आ सकती हैं ?  (What are the Risks of Liver Transplant Surgery in Hindi)

लिवर प्रत्यारोपण में कई जोखिम और जटिलताएं शामिल हैं। यदि डोनर जिगर को शरीर द्वारा अस्वीकार कर दिया जा सकता है क्योंकि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली इसे विदेशी के रूप में पहचानती है। प्रत्यारोपण के बाद फिर से कुछ संक्रमण और बीमारियों की संभावना होती है, खासकर पीलिया। रक्तस्राव और सूजन भी हो सकती है। यकृत में पित्त नलिकाओं और अवरुद्ध रक्त वाहिकाओं के रिसाव की संभावना है। सर्जरी के बाद कुछ समय के लिए दाता जिगर ठीक से काम नहीं कर सकता है। इसलिए, इस तरह के रोगों की संभावना को कम करने के लिए उचित अनुवर्ती दवा लेना आवश्यक है।(और पढ़े – बोन मेरो ट्रांसप्लांट क्या हैं)

भारत में लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी का कितना खर्च लगता हैं ? (What is Cost of Liver Transplant in India in Hindi)

भारत में लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी कराने का कुल खर्च लगभग INR 1900000 से INR 2500000 तक लग सकता है। हालांकि भारत में बहुत से बड़े अस्पताल के डॉक्टर है जो लिवर ट्रांसप्लांट का इलाज करते है। लेकिन सभी अस्पतालों में लिवर ट्रांसप्लांट का खर्च अलग-अलग है। अगर आप अच्छे अस्पतालों में लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के खर्च व डॉक्टर के बारे में जानकारी के लिए (और पढ़े – लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी का इलाज खर्च) 

अगर आप विदेश से आ रहे है तो आपकी लिवर ट्रांसप्लांट के इलाज के खर्च के अलावा होटल में रहने का खर्चा होगा, रहने का खर्चा होगा, लोकल ट्रेवल का खर्चा होगा। इसके अलावा सर्जरी के बाद मरीज को 22 दिन अस्पताल और 40 दिन होटल में रिकवरी के लिए रखा जाता है, इसलिए सभी खर्चे मिलाकर INR 3,253,064 होते है जो एक साथ अस्पताल में लिये जाते है। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए (और पढ़े – लिवर ट्रांसप्लांट का इलाज खर्च) 

लिवर ट्रांसप्लांट के बारे में अधिक जानकारी व इलाज करवाना हो तो  (Liver and Hepatobiliary Surgeon) से संपर्क करें। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Liver and Hepatobiliary Surgeon in Delhi

Best Liver and Hepatobiliary Surgeon in Mumbai

Best Liver and Hepatobiliary Surgeon in Gurgaon