लिवर सिरोसिस के कारण, लक्षण, उपचार व बचाव। Liver Cirrhosis Meaning in Hindi.

Login to Health अक्टूबर 2, 2020 Liver Section 1295 Views

हिन्दी Bengali

Liver Cirrhosis Meaning in Hindi. 

लिवर हमारे शरीर का दूसरा मुख्य अंग माना जाता है, इसलिए अपने शरीर का खास ध्यान रखना चाहिए। लिवर में खराबी होने पर अनेक तरह के समस्या उत्पन्न होने लगती है। जैसे की फैटी लिवर, लिवर सिरोसिस, हेपेटाइटिस आदि। आज आपको लिवर सिरोसिस के बारे में बताने वाले है, लिवर सिरोसिस एक ऐसी स्तिथि है जिसमे व्यक्ति के लिवर में धीमी गति से खराबी आने लगती है। इस वजह से लिवर अपना काम ठीक से नहीं कर पाता है। हमारे शरीर में लिवर कई तरह के जरुरी काम करता है, जैसे हानिकारक पदार्थो को दूर करना, रक्त की सफाई करना और पोषक तत्वों का निर्माण करना आदि है।

यदि लिवर थोड़ा क्षतिग्रस्त है तो अपने आप ही सही हो जाता है। इसमें स्कार ऊतक बनने लगते है जो लिवर को स्वस्थ ऊतक में बदलाव करते है। लेकिन लिवर में सिरोसिस बढ़ने लगता है तो रक्त का बहाव कम होने लगता है और लिवर अपना कार्य बहुत धीमा कर देता है। इसका मुख्य कारण हेपेटाइटिस बीमारी या शराब की लत हो सकती है।सिरोसिस के उपचार करने से पहले चिकिस्तक कुछ जांच करने की सलाह दे सकते है जिसमे बायोप्सी, ब्लड टेस्ट, इमेजिंग टेस्ट शामिल है। सिरोरिस का उपचार सरल नहीं है इसलिए पहले लक्षणो को जानते है उसके बाद जटिलता अधिक न बढ़े इसलिए लिवर प्रत्यारोपण (Liver Transplant) करने का सुझाव देते है। चलिए आगे (Liver Cirrhosis Meaning in Hindi) लिवर सिसोरिस के कारण, लक्षण, उपचार व बचाव के बारे में बताते हैं। 

  • लिवर सिरोसिस के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Liver Cirrhosis in Hindi)
  • लिवर सिरोसिस के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Liver Cirrhosis in Hindi)
  • लिवर सिरोसिस का उपचार क्या हैं ? (What are the Treatments for Liver Cirrhosis in Hindi)
  • लिवर सिरोसिस से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Liver Cirrhosis in Hindi

लिवर सिरोसिस के कारण क्या हैं ? (What are the Causes of Liver Cirrhosis in Hindi)

लिवर की स्तिथि खराब होने का मुख्य कारण लंबे समय से शराब का सेवन करना और लिवर में अधिक चर्बी जमा होना या अधिक समय से हेपेटाइटिस वायरल रहना आदि। लिवर सिरोसिस अन्य बीमारिया पैदा कर सकती है। (और पढ़े – हेपेटाइटिस बी क्या है)

लिवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis Meaning in Hindi) की समस्या शराब पीने से तेजी से बढ़ने लगती है। इसलिए शराब की अधिक मात्रा लिवर के कार्य करने की क्षमता को धीमा करने लगती है और अंत में लिवर को खराब कर देती है। 

सिरोसिस होने पर कुछ अन्य कारण हो सकते हैं। 

  • पित्त नलिका कमजोर हो जाना। 
  • पित्त नलिका अकड़ जाना। 
  • अधिक आयरन होना। 
  • विल्सन रोग होना। 
  • अनुवांशिक पाचन समस्या। 
  • पित्त नलिका खराब होना। 
  • कुछ दवाओं का अधिक उपयोग। 

लिवर सिरोसिस के लक्षण क्या हैं ? (What are the Symptoms of Liver Cirrhosis in Hindi)

लिवर सिरोसिस के लक्षण शुरुवाती में सामान्य जैसे होते है, किंतु बढ़ने पर गंभीर लक्षण हो सकते है। 

शुरुवाती सिरोसिस सामान्य लक्षण में थकान महसूस करना।

  • अनिद्रा आना। 
  • जी मिचलाना। 
  • लिवर की जगह स्पर्श करने पर दर्द होना। 
  • कमजोरी होना। 
  • हाथ लाल होना। 
  • ऊपरी पेट की त्वचा पर रक्त कोशिकाएं दिखने लगना। 
  • वजन कम होना। 

सिरोसिस बढ़ने पर लक्षण में –  चक्कर आना। 

  • मसूड़ों से खून बहना। 
  • पेशाब का रंग गहरा होना। 
  • यौन इच्छा में कमी आना। 
  • बाल झड़ना। 
  • उल्टी में खून आना। 
  • नाक से खून आना। 
  • मांसपेशियो में ऐंठन होना। 
  • दिल की धड़कन तेज होना। 
  • याददाश्त संबंधित समस्या। 
  • कंधे में दर्द होना। 
  • बार-बार बुखार आना। (और पढ़े – चमकी बुखार क्या है)

लिवर सिरोसिस का उपचार क्या हैं ? (What are the Treatments for Liver Cirrhosis in Hindi)

लिवर सिरोसिस का उपचार  कारणों के आधार पर किया जाता है। यदि शुरुवाती समस्या है तो रोकने के लिए स्कार की गति को कम करना होता है। ताकि आने वाले जटिलता को रोका जा सके। लिवर सिरोसिस अधिक बढ़ने पर अस्पताल में भर्ती होना पड़ सकता है। चलिए आगे विस्तार से बताते है। 

  • लिवर सिरोसिस से पीड़ित लोगो को चिकिस्तक शराब का सेवन न करने की सलाह देते है, क्योंकि शराब और नशीले पदार्थ लिवर को नुकसान पहुंचाते है। 
  • लिवर सिरोसिस से पीड़ित व्यक्ति को नयी दवा की शुरुवात करने से पहले चिकिस्तक की सलाह ले। उसके बाद ही दवा का सेवन करे क्योंकि गलत दवा लिवर सिरोसिस को बढ़ाता है। 
  • सिरोसिस से पीड़ित लोगो को हेपेटाइटिस ए, बी का टीकाकरण जरूर करवाना चाहिए। दोनों संक्रमण लिवर सिरोसिस को और नुकसान पहुंचाते है। इसके अलावा सिरोसिस से पीड़ित लोगो को स्क्रीनिंग ब्लड टेस्ट करवाना चाहिए। 
  • लिवर सिरोसिस के लक्षण को कम करने के लिए चिकिस्तक कुछ दवाएं दे सकते है। ताकि लक्षण को कम किया जा सके। नियमित रूप से मरीज को अपना चेक उप करवाना चाहिए। 
  • यदि लिवर पूरी तरह फेल हो जाता है तो अंतिम उपचार लिवर ट्रांसप्लांट होता है।  लिवर प्रत्यारोपण एक ऐसी सर्जरी है जिसमे रोगग्रस्त हिस्से को निकाल कर स्वस्थ लिवर लगाया जाता है। स्वस्थ लिवर किसी दूरसे व्यक्ति से दान के रूप में लिया जाता है। (और पढ़े – नारियल के फायदे लिवर के लिए)

लिवर सिरोसिस से बचाव कैसे करें ? (Prevention of Liver Cirrhosis in Hindi)

लिवर से बचाव करने के लिए निम्नलिखित उपाय अपना सकते है। 

  • यदि आपको लिवर सिरोसिस अल्कोहल पिने के कारण हुआ है तो शराब का सेवन करना बंद कर देना चाहिए। शराब लिवर को तेज गति से हानि पहुंचाता है। 
  • आपको अपने आहार में स्वस्थ भोजन करना चाहिए, जिसमे ताजी हरी सब्जिया, फल को शामिल करे। तेल और अधिक मसाले वाले भोजन कम करे। इसके अलावा चाय, कॉफी कम ले। 
  • लिवर की बीमारी से बचने के व्यक्ति को खुद हेपेटाइटिस से बचना चाहिए। हेपेटाइटिस बी और सी दोनों संक्रमण असुरक्षित यौन संबंध बनाने या उपयोगी इंजेक्शन से होता है। यौन संबंध की बीमारी से बचने के लिए कंडोम का उपयोग कर सकते है और अन्य व्यक्ति द्वारा उपयोग में लाई सुई का उपयोग न करे   बल्कि हमेशा नयी सुई लगवाएं। 
  • अगर किसी व्यक्ति को नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर रोग हो रहा है तो आपको स्वस्थ वजन को बनाये रखना चाहिए। क्योंकि लिवर में समस्या होने से सिरोसिस विकसित हो सकता है इसलिए रोजाना व्यायाम करे और भोजन में संतुलित आहार का सेवन करें।  (और पढ़े – फैटी लिवर क्या है)

अगर आपको लिवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis Meaning in Hindi)के बारे में अधिक जानकारी एव उपचार करवाना चाहते है, तो हेपटोलॉजिस्ट ( Hepatologist ) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य है आपको जानकारी प्रदान करना है। ना की किसी तरह के दवा, इलाज, घरेलु उपचार की सलाह दी जाती है। आपको चिकिस्तक अच्छी सलाह दे सकते है क्योंकि उनसे अच्छी सलाह कोई नहीं देता है।


Best Hepatologist in Delhi

Best Hepatologist in Mumbai

Best Hepatologist in Bangalore

Best Hepatologist in Chennai