पुरुषो में कामेच्छा की कमी। Low Libido in Men in Hindi

अक्टूबर 2, 2020 Mens Health 6807 Views

हिन्दी

Low Libido in Men Meaning in Hindi. 

लिबिडो एक शब्द है जिसे हिंदी में कामेच्छा कहा जाता है। इसका उपयोग हम आमतौर पर यौन क्रिया या यौन गतिविधि की इच्छा की पूर्ति करने के लिए करते है। यौन इच्छा हर पुरुष और महिला की अलग-अलग होती है। कुछ लोगो में शादी के बाद यौन इच्छा अधिक रहती है, किंतु अधिक समय बिताने के बाद यौन इच्छा में कमी आने लगती है। हालांकि कामेच्छा या संभोग क्रिया में कमी पुरुष और महिला के विवाहित जीवन को अधिक प्रभावित करता है।

आजकल बहुत से पुरुषो में कामेच्छा की कमी हो रही है (Low Libido in Men Meaning in Hindi)। इसका मुख्य कारण उनके खान-पान में पोषक तत्व न होना, अच्छे नींद न पूरी होना, शराब या धूम्रपान की लत आदि जिम्मेदार होता है। शोधकर्ता के अनुसार किसी भी पुरुष की यौन इच्छा एक समान नहीं होती है। पुरुषो में कामेच्छा की कमी होने से अनेक तरह की यौन समस्या का जोखिम बनने लगता है। इसके अलावा महिला साथी के साथ रिश्ते में दरार पड़ने लगती है। कुछ पुरुषो को कामेच्छा की कमी एक शर्मिदगी परेशानी लगती है, इसलिए दूसरे लोग से इस बारे में बात नहीं कर पाते है। कामेच्छा की कमी यौन गतिविधि से जुडी समस्या है जो आगे चलकर किसी बड़ी समस्या का कारण बन सकता है। इसलिए पुरुषो को कामेच्छा की कमी की होने पर चिकिस्तक से खुलकर बात करनी चाहिए ताकि चिकिस्तक आपको सही परामर्श दे सके। चलिए आज के लेख के माध्यम से हम आपको पुरुषो में कामेच्छा की कमी के कारण, लक्षण व उपचार के बारे में विस्तारपूवर्क जानकारी देंगे। 

  • पुरुषो में कामेच्छा की कमी के कारण ? (What are the Causes of Low Libido in Men in Hindi)
  • पुरुषो में कामेच्छा की कमी के लक्षण ? (What are the Symptoms of Low Libido in Men Hindi)
  • पुरुषो में कामेच्छा की कमी का उपचार ? (What are the Treatments for Low Libido in Men Hindi

पुरुषो में कामेच्छा की कमी के कारण ? (What are the Causes of Low Libido in Men in Hindi)

पुरुषो में कामेच्छा की कमी के अनेक कारण हो सकते हैं। 

  • उच्च रक्तचाप होने के कारण कामेच्छा में कमी आना। 
  • हरी सब्जिया, फलो व संतुलित आहार कम लेना। 
  • अधिक शराब का सेवन करना। 
  • एंटीबायोटिक Antibiotics दवाओं का अधिक सेवन करना। 
  • साथी के साथ अत्यधिक सेक्स। 
  • कोई गंभीर बीमारी या खराब स्वास्थ्य के कारण कामेच्छा की कमी होना। 
  • तनाव, चिंता, अवसाद होने से कामेच्छा में कमी आ जाती है। (और पढ़े – डिप्रेशन के आयुर्वेदिक उपचार)
  • अत्यधिक हस्तमैथुन करना हानिकारक होता है। इस कारण कामेच्छा में कमी आ जाती है। 
  • टेस्टोस्टेरेन का स्तर कम होना। 
  • दिमाग की बीमारी व मानसिक समस्या होना। 
  • व्यायाम व योगा नहीं करना। 
  • सर्जरी के बाद कोई समस्या होना। 
  • हार्मोनल असंतुलन होना। 

पुरुषो में कामेच्छा की कमी के लक्षण ? (What are the Symptoms of Low Libido in Men Hindi)

पुरुषो में कामेच्छा की कमी (Low Libido in Men Meaning in Hindi) के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। 

  • बिस्तर पर कुछ न कर पाना। ,
  • यौन इच्छा में कमी आना। 
  • रस्खलन में देरी होना। 
  • बाल गिरना। 
  • थकान व ऊर्जा में कमी होना। 
  • लिंग कमजोर होना। 
  • वीर्य व शुक्राणु का नुकसान। (और पढ़े – कंडोम के फायदे)
  • शुक्राणुओं की संख्या में कमी। 
  • टेस्टोंस्टेरोन का स्तर कम होना। 
  • कमजोर पैरासिमी लैथिक तंत्रिका होना। 
  • मांसपेशियो में समस्या होना। 
  • मूड में बदलाव होना। 
  • वीर्य में कमी आना। 
  • हड्डियों में द्रव की कमी। 
  • शारीरिक फेट में बढ़ौतरी। 
  • यौन क्रिया कमजोर होना। (और पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के घरेलु उपचार)

पुरुषो में कामेच्छा की कमी का उपचार ? (What are the Treatments for Low Libido in Men Hindi)

आजकल लोगो में गलत जीवनशैली व खान -पान के वजह से पुरुषो में कामेच्छा की कमी समस्या अधिक हो रही है, जिसका उचित समय पर उपचार करवाने की जरुरत होती है। बहुत से लोग अपनी कामेच्छा की कमी होने से निराश होकर डिप्रेशन में चले जाते है। इसके अलावा अपने साथी को यौन जीवन सुखमय जीवन व्यतीत नहीं कर पाते है। हालांकि पुरुष में कामेच्छा की कमी होने से महिला के साथ कलेश और क्रोध की भावना उत्पन्न होने लगती है। 

पुरुषो में कामेच्छा (Low Libido in Men Meaning in Hindi) में कमी का उचित कारण जानने के बाद पर निम्नलिखित उपचार किया जा सकता है। 

  • पुरुषो को अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा सुबह जल्दी उठकर कर योगा और व्यायाम करना चाहिए। रात को सात से आठ घंटे की नींद लेना व शराब का सेवन न करना, तनाव से दूर रहना आदि। 
  • यदि पीड़ित व्यक्ति चिकिस्तक से कामेच्छा की कमी के उपचार हेतु कोई दवा ले रहा है और दवा लेने से कोई परिणाम नजर नहीं आता तो चिकिस्तक से बात कर अपनी दवा में बदलाव करवा सकते हैं। 
  • कुछ व्यक्ति सोचते है विज्ञापन में दिखाए गए दवाएं कितनी कारगर साबित होती है। वह लोग यह जान ले कामेच्छा बढ़ाने के लिए कार्य नहीं करता है यह केवल उत्तेजना जारी करती है मानो कोई इंजेक्शन जैसे असर करता है। इसलिए आप चिकिस्तक की सलाह से अपना उपचार करें। 
  • अगर पुरुषो में कामेच्छा की कमी में एंट्रोजन की कमी के कारण होती है, तो चिकिस्तक ब्लड टेस्ट कर पता लगाने की कोशिश करते है। इसके अलावा टेस्टोरेटेन रिप्लेसमेंट चिकित्सा का उपचार कर सकते है।  
  • अगर व्यक्ति को अधिक तनाव लेने और  थकावट से संबंधित होने से कामेच्छा की कमी हो रही है, तो चिकिस्तक तनाव प्रबंधन मनोवैज्ञानिको से परामर्श की  सलाह दे सकते है। यदि यह उपचार कारगर नहीं हो पाता तो दूसरे उपचार या थेरेपी की सलाह दे सकते है। (और पढ़े – स्पीच थेरेपी क्या है)

अगर आपको यौन संबंध से जुडी किसी प्रकार की समस्या के बारे में अधिक जानकारी के लिए एव उपचार के लिए सेक्सोलोजी (Sexologist or Urologist) से संपर्क करें। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Top Urologist in Mumbai

Top Urologist in Gurgaon

Top Urologist in Chennai

Top Urologist in Bangalore


Login to Health

Login to Health

लेखकों की हमारी टीम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को समर्पित है। हम चाहते हैं कि हमारे पाठकों के पास स्वास्थ्य के मुद्दे को समझने, सर्जरी और प्रक्रियाओं के बारे में जानने, सही डॉक्टरों से परामर्श करने और अंत में उनके स्वास्थ्य के लिए सही निर्णय लेने के लिए सर्वोत्तम सामग्री हो।

Over 1 Million Users Visit Us Monthly

Join our email list to get the exclusive unpublished health content right in your inbox