ब्रेस्ट मिल्क (माँ का दूध) बढ़ाने के उपाय। Breast milk In Hindi.

Login to Health अक्टूबर 9, 2020 Womens Health 622 Views

हिन्दी

Breast Milk Meaning In Hindi. 

हर विवाहित महिला के जीवन में माँ बनने का अलग ही महत्व होता है। माँ बनने के बाद महिला के लिए अपना और शिशु का ध्यान रखना अति आवश्यक होता है। बहुत सी महिलाओं में दूध उत्पादन में कमी की समस्या होती है जिसका मुख्य कारण सही से खान-पान न करना है। यदि हरी-सब्जियां व फल का सेवन सही मात्रा में किया जाए तो दूध उत्पादन में वृद्धि कर सकते हैं। शिशु के विकास के लिए माँ का दूध बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। माँ के दूध में कई तरह के पोषक तत्व और खनिज का समावेश होता है जो शिशु को स्वस्थ रखने में मदद करता हैं। स्तनपान करवाने वाली महिला को शराब व धूम्रपान की आदत को छोड़ देना चाहिए, क्योंकि यह सब नशीले पदार्थ दूध में जा सकते है जिसे शिशु दूध पीना छोड़ देता है। इसलिए इन बातो का खास ध्यान दे। हालांकि संतुलित आहार का सेवन करने से दूध की मात्रा में बढ़ोतरी होती है। चलिए इस लेख के माध्यम से स्तनपान करनेवाली महिला को ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के उपाय के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। 

ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के बेहतरीन उपाय ? 

ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के उपाय  के लिए निम्न फल व आहार का सेवन कर सकते है जो शिशु के लिए नुकसानदायक नहीं होता है। चलिए आगे विस्तार से बताते हैं। 

  • ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के उपाय में लहसुन का उपयोग लहसुन में बहुत से पौष्टिक तत्व और खनिज पाए जाते है, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। कुछ शोध के अनुसार लहसुन का सेवन करने से दूध के उत्पादन में वृद्धि होती है। इसका उपयोग अपने रोजाना के भोजन में कर सकते है। इसके अलावा पेट दर्द की समस्या को लहसुन का उपयोग कर ठीक किया जाता है। स्तनपान करने वाली माँ के लिए लहसुन एक बेहरीन घरेलू उपाय हैं। 
  • कच्चा पपीता दूध बढ़ाने में उपयोगी कच्चे पपीता व पका पपीता में गैलेक्‍टगॉग के लिए लोगो में अधिक पसंद किया जाता है। पपीता ऑक्सीजन की वृद्धि करने में सहायता करता है। इससे माँ के दूध में बढ़ौतरी होती है। हरे पपीते को उबालकर सेवन करने महिला को अत्यधिक फायदा होता है। इसके अलावा हरे पपीता का कुछ भोजन बनाकर भी खा सकती हैं। 
  • ओटमील के फायदे दलिया में आयरन की अच्छी मात्रा होती है जो महिला को एनीमिया की बीमारी से बचाव करता है। एनीमिया से प्रभावित होने पर महिला के दूध में कमी होने लगती है। इसलिए आयरन की प्राप्ति के लिए दलिया का सेवन करना चाहिए। यह लाल रक्त कोशिका के स्तर को बढ़ाता है और आयरन की मात्रा बढ़ाता है। महिला ओटमील बनाकर सेवन कर सकती है क्योंकि यह बनाने में बहुत आसान होता है। 
  • गाजर दूध उत्पादन में बढ़ावा दे गाजर में प्राकृतिक रूप से बहुत से गुण मौजूद होता है जो महिला के स्वास्थ्य के साथ दूध उत्पादन की कमी को दूर करता है। इसमें उच्च मात्रा में विटामिन ए होता है जो शिशु का विकास करने में मदद करता है। स्तनपान करने वाली महिला को गाजर का सेवन करना चाहिए। आप चाहे तो गाजर का जूस भी ले सकती हैं। 
  • सेल्मन मछली खाने से दूध बढ़ाने में मदद होना सैल्मन मछली का सेवन करने से महिलाओं को बहुत लाभ होता है। इसमें अच्छी मात्रा में ओमेगा एसिड 3 व डीएचए होता है जो माँ के दूध की कमी को दूर करता है साथ ही शरीर को मजबूत बनाने में मदद करता है। स्तनपान करवाने वाली माता को इस मछली का सेवन जरूर करना चाहिए। (और पढ़े – मछली के फायदे और नुकसान)
  • पालक ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के उपाय में मदद करें पालक में लोह की मात्रा अधिक होती है। पालक का सेवन करने से पहले उबाल लेना चाहिए ताकि बीमारी से बचा जा सके। इसमें बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है जो दूध की मात्रा में बढ़ौतरी होती हैं। स्तनपान करने वाली महिलाओं को पालक का सेवन करना चाहिए। 
  • बादाम बढ़ाये ब्रेस्ट मिल्क बादाम और अन्य नट्स में कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते है जो शरीर को स्वस्थ रखने के साथ माँ के दूध की मात्रा को बढ़ावा देता है। खासतौर पर स्तनपान करने वाली माताओं को अपने रोजाना के आहार के साथ बादाम का सेवन करना चाहिए। महिलाये अपने नाश्ते में मूंगफली, बादाम, काजू को भूनकर खा सकती है। इसके अलावा आप इन तीनो का मिश्रण कर दूध के साथ सेवन कर सकती है। (और पढ़े – बादाम के स्वास्थ्य लाभ)
  • मेथी का उपयोग दूध बढ़ाने में मेथी एक बहुत ही अच्छा घरेलू उपचार है जिसका उपयोग कर अनेक तरह की समस्या से छुटकारा पा सकते है। हालांकि मेथी एक जड़ीबूटी भी है। इसका उपयोग उबालकर चाय की तरह पी सकते है, ये दूध के उत्पादन में वृद्धि करने में मदद करता है। 
  • लौंकी दूध बढ़ाने में असरदार होता हैं –  लौंकी एक तरह की सब्जी है जो माँ  शरीर में पानी के स्तर को बढ़ावा देती है। स्तनपान करने वाली महिला को पानी की कमी नहीं होना चाहिए इससे दूध पर प्रभाव पड़ता है और दूध में कमी हो जाती है। इसलिए स्तनपान वाली महिलाओं को अपने शरीर को हाइड्रेड रखना चाहिए जिससे दूध की कमी न हो और शिशु का पेट खली न रहे। 
  • माँ का दूध बढ़ाने के लिए हल्दी का उपयोग हल्दी एक तरह की औषधीय है जो मनुष्य के शरीर को रोगो से बचाने में मदद करता है। स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को हल्दी का उपयोग अपने भोजन में करना चाहिए। इसमें एंटी- वायरल, एंटी-इंफ्लामैट्री, एंटी-जीवाणुरोधी गुण होता है जो दूध की मात्रा बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा हल्दी स्तन संक्रमण होने से बचाव करता हैं। (और पढ़े – हल्दी के फायदे)

ब्रेस्ट मिल्क (माँ के दूध) के उत्पादन में कमी होने एव किसी तरह के समस्या होने पर स्त्री विशेषज्ञ (Gynecologist) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Gynecologist in Delhi

Best Gynecologist in Mumbai

Best Gynecologist in Chennai

Best Gynecologist in Bangalore