मासिकधर्म में कमर दर्द होने के कारण क्या हैं। Lower Back Pain During Period In Hindi.

Login to Health नवम्बर 19, 2020 Womens Health 84 Views

हिन्दी Bengali العربية

Lower Back Pain During Period Meaning In Hindi. 

मासिकधर्म में होने वाले कमर दर्द से महिलाएं बहुत परेशान रहती है। किसी महिला को अधिक कमर दर्द या कम दर्द का सामना करना पड़ता है। अक्सर कमर दर्द महिला को मासिकधर्म आने के कुछ दिनों पहले से शुरू हो जाता है। लेकिन कुछ महिलाएं इससे बचने के लिए दवा का उपयोग करती है, हालांकि हर महीने दवा सेवन करना महिला के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता हैं। इसके अलावा मासिकधर्म के दौरान दर्द की दवाओं से रक्त पतला होने का जोखिम रहता है और रक्त असंतुलित हो सकता है। इसलिए दवाओं पर निर्भर होने के बजाय कुछ घरेलु उपचार का उपयोग कर दर्द से बचा जा सकता है। मासिकधर्म के दौरान महिलाओं और लड़कियों में आमतौर पर शारीरिक कमजोरी, पेट में दर्द व ऐंठन, जी मिचलाना, चिड़चिड़ा स्वभाव, मूड स्विंग देखने को मिलता है। इन सब समस्या में से कमर दर्द अधिक परेशानी की वजह बनती जा रही है। जैसा की महिलाओं को पता है मासिकधर्म एक प्राकृतिक क्रिया है जो हर महीने आती है और अनेक पीड़ा और कष्ट देती है जिससे रोजाना के कार्य करने में परेशानी होती है। कुछ महिलाओं में मासिकधर्म का दर्द अधिक होता है जिनको सहना उनके लिए असंभव हो जाता है। ऐसी महिलाओं को आज के लेख के माध्यम से मासिकधर्म में कमर दर्द क्यों होता है (Low back pain meaning in Hindi) और कुछ घरेलु उपचार के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। 

  • मासिकधर्म में कमर दर्द के कारण क्या हैं ? (Causes of Lower Back Pain During Period in Hindi)
  • मासिकधर्म में कमर दर्द के लक्षण क्या हैं ? (Symptoms of Lower Back Pain During Period in Hindi)
  • मासिकधर्म में कमर दर्द का उपचार क्या हैं ? (Treatments for Lower Back Pain During Period in Hindi)
  • मासिकधर्म में कमर दर्द का घरेलु उपचार क्या हैं ? (Home Remedies for Lower Back Pain During Period in Hindi)

मासिकधर्म में कमर दर्द के कारण क्या हैं ? (Causes of Lower Back Pain During Period in Hindi)

मासिकधर्म के दिनों में कमर दर्द होने अनेक कारण हो सकते है। चलिए आगे बताते हैं। 

  • ओव्यूलेशन के दौरान ऐंठन के साथ पीठ के निचले हिस्से में दर्द का अनुभव हो सकता है। ऐसा तब होता है जब अंडाशय से एक अंडा जारी करता है। मासिकधर्म के चक्र के बिच में होता है। हालांकि ओव्यूलेशन के कारण दर्द बढ़ सकता है या एक या दो दिन रह सकता है। 
  • एंडोमेट्रियोसिस एक असामन्य प्रजनन की स्तिथि है। इस स्तिथि में गर्भाशय के बाहरी हिस्से में सेल्स का विकास होने लगता है इसलिए अवधि के पहले पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है। 
  • गर्भाशय में सिस्ट ये गैर कैंसरजन्य वृद्धि है इससे युरेटाल वॉल बनती है। इस कारण मासिकधर्म के पहले कमर में दर्द होता है। 
  • पेल्विक इंफ्लेमेट्री डिसीज एक आर्गन इन्फेक्शन है जो बैक्टीरिया के कारण होता है। इसमें एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग कर उपचार कर सकते है। 
  • सर्वाइकल स्टेनोसिस एक ऐसी स्तिथि है जिसमे महिलाओं का सर्वाइकल ओपन बहुत छोटी है यह मासिक धर्म के प्रवाह को बाधित कर सकता है। इससे गर्भाशय पर दबाव पड़ता है और कमर में दर्द होने लगता है। (और पढ़े – कमर दर्द क्यों होता है)

मासिकधर्म में कमर दर्द के लक्षण क्या हैं ? (Symptoms of Lower Back Pain During Period in Hindi)

मासिकधर्म में कमर दर्द बहुत पीड़ादायक होता है और साथ ही कुछ अन्य लक्षण का अनुभव हो सकता है। 

  • थकान महसूस होना। 
  • बेहोशी आना। 
  • सिरदर्द होना। 
  • पैर में दर्द होना। 
  • दस्त की शिकायत। 
  • उल्टी या मलती होना। 
  • पेट में दर्द या ऐंठन महसूस करना। 

मासिकधर्म के दौरान पेट के निचले हिस्से में अधिक पीड़ा का अनुभव होता है, हालांकि कुछ अन्य लक्षण उत्पन्न हो सकते है। 

  • संभोग के दौरान दर्द होना। 
  • मल त्यागने में कठिनाई आना। 
  • समय के दौरान अधिक रक्तस्राव होना। 
  • बांझपन। 

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (Pelvic Inflammatory Disease) यह पीठ के निचले हिस्से में दर्द पैदा करता है। इसमें अन्य लक्षण अनुभव कर सकती है। 

मासिकधर्म में कमर दर्द का उपचार क्या हैं ? (Treatments for Lower Back Pain During Period in Hindi)

मासिकधर्म में कमर दर्द होने की समस्या जानने पर चिकिस्तक आपको कुछ दवा लेने की सलाह दे सकते है। जैसे की बर्थ कंट्रोल पिल्स ऐसी पिल्स जिनमे एस्ट्रोजन (Estrogen) व प्रोट्रेजन होते है, जो दर्द को कम करने में मदद करते है। 

  • कुछ ऐसी दवाइयां जिसे लेने से कमर दर्द शांत होता है, उनमे शामिल है इबुप्रोफेन और एस्पिरिन आदि जो दर्द को कम करता है। 
  • कमर के निचले हिस्से में दर्द एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis)का कारण माना जाता है, ऐसे में गोनैडोट्रोपिन-रिलीजिंग हार्मोन दर्द को रोकने में मदद करता है। 

मासिकधर्म में कमर दर्द का घरेलु उपचार क्या हैं ? (Home Remedies for Lower Back Pain During Period in Hindi)

मासिकधर्म के दौरान कमर दर्द होने पर हर बार दवा लेना सही नहीं होता है। इसलिए आप घरेलु उपचार का उपयोग कर कमर दर्द से आराम पा सकती है। 

  • गर्म पानी का प्रयोग करना मासिकधर्म के समय गर्म पानी की सेकाई करनी चाहिए यह सबसे अच्छा घरेलु उपाय है। सिकाई से गर्भाशय की मांसपेशियो को राहत मिलती है और दर्द कम हो जाता है। रबड़ के बैग या बोतल भर के गर्म पानी से सेक सकती है।
  • अदरक का उपयोग मासिक धर्म में अदरक का उपयोग करने से होने वाले दर्द से आराम मिलता है। इसके लिए अदरक के टुकड़े को पानी में उबालकर उस पानी का सेवन करे इससे दर्द से छुटकारा मिलेगा। 
  • दही का सेवन मासिकधर्म में कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए दही का सेवन करना चाहिए। इसमें बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है जो पीरियड्स के दर्द को कम करने में मदद करते है।
  • पौष्टिक आहार ले – मासिकधर्म के दौरान महिलाओं को अपने आहार में पौष्टिक युक्त चीजे शामिल करनी चाहिए। जो शरीर को आयरन, मैग्नीशियम दे इसके लिए हरी पत्तेदार सब्जिया, फल, और विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए। पौष्टिक आहार से दर्द का अनुभव कम होता है। 

मासिकधर्म से जुडी किसी भी प्रकार की समस्या हो रही है, तो अपने नजदीकी स्त्री विशेषज्ञ (Gynecologist) से संपर्क करें। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Gynecologist in  Delhi

Best Gynecologist in Chennai

Best Gynecologist in Mumbai

Best Gynecologist in Bangalore