प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्या हैं । Progesterone Test in Hindi

Login to Health दिसम्बर 14, 2020 Womens Health 94 Views

English हिन्दी

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्या हैं ? (Progesterone Test in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट एक तरह ऐसा परीक्षण है जिसमे खून में प्रोजेस्टेरोन के स्तर को मापा जाता है। प्रोजेस्टेरोन एक हार्मोन है जो महिला के अंडाशय द्वारा बनाया जाता है। गर्भावस्था में प्रोजेस्टेरोन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह गर्भाशय को निषेचित अंडे का समर्थन करने के लिए तैयार करने में मदद करता है। प्रोजेस्टेरोन स्तनों में दूध बनाने की क्रिया में मदद करता है। हालांकि महिला के महामारी के दौरान प्रोजेस्टेरोन का स्तर में भिन्नता होती है। प्रोजेस्टेरोन के स्तर से अंडाशय एक अंडा जारी करने के बाद बढ़ता है। अगर आप गर्भवती हो जाती हैं, तो प्रोजेस्टेरोन का स्तर बढ़ता है, और शरीर में बच्चे के विकास में मदद करता है। इसके अलावा यदि आप गर्भवती नहीं होती हैं तो प्रोजेस्टेरोन का स्तर नीचे चला जाता है और अवधि शुरू हो जाती है। गर्भवती महिला में प्रोजेस्टेरोन का स्तर उस महिला की तुलना में अधिक है जो गर्भवती नहीं है। चलिए आज के लेख में आपको प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्यों किया जाता हैं ? (What are the Purpose of Progesterone Test in Hindi)

  • प्रोजेस्टेरोन टेस्ट से पहले की तैयारी ? (Prepare Before Progesterone Test in Hindi)
  • प्रोजेस्टेरोन टेस्ट कैसे किया जाता हैं ? (What are the Procedure of Progesterone Test in Hindi)
  • प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के क्या जोखिम होते हैं ? (What are the risks of Progesterone Test in Hindi)
  • प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के क्या परिणाम आ सकते हैं ? (What do the Result of Progesterone Test mean in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्यों किया जाता हैं ? (What are the Purpose of Progesterone Test in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट करवाने की सलाह निम्न स्तिथियो के आधार पर दिया जा सकता हैं। 

  • गर्भावस्था की स्तिथि के बारे में जानने के लिए प्रोजेस्टेरोन टेस्ट करवा सकते है। 
  • बांझपन के उपचार की प्रक्रिया में प्रोजेस्टेरोन टेस्ट करवा सकते है। 
  • बांझपन होने के बारे में जानने के लिए प्रोजेस्टेरोन टेस्ट कर सकते है। (और पढ़े – महिलाओं में बांझपन के कारण)
  • यदि महिला को मिसकैरेज हुआ है तो प्रोजेस्टेरोन टेस्ट की सलाह दे सकते हैं। 
  • यदि प्रोजेस्टेरोन का स्तर असामान्य होता है तो जांच के लिए प्रोजेस्टेरोन टेस्ट कर सकते है। 

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट से पहले की तैयारी ? (Prepare Before Progesterone Test in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट से पहले कोई विशेष तैयारी नहीं होती है जैसे अन्य परीक्षण में जरुरी होता है। इस परीक्षण में खाली पेट रहने की जरूरत नहीं होती है। लेकिन चिकिस्तक को आप पूरी बात सही से बता दे, जैसे की आपका मासिकधर्म कब आया और आखिरी तारिक क्या थी और गर्भावस्था के महीने आदि के बारे में पूरी जानकारी चिकिस्तक को दे। (और पढ़े – स्तन में दर्द के घरेलु उपचार)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट कैसे किया जाता हैं ? (What are the Procedure of Progesterone Test in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट की प्रक्रिया के दौरान चिकिस्तक एक छोटी सुई का उपयोग करके, आपकी बांह में नस के माध्यम से रक्त का नमूना लेते है। हालांकि सुई डाले जाने के बाद, थोड़ी मात्रा में रक्त को टेस्ट ट्यूब या शीशी में एकत्र किया जाता है। जब सुई अंदर या बाहर जाती है तो थोड़ा डंक जैसा लग सकता है। इस परीक्षण में सामान्य तौर पर पांच मिनट से भी कम समय लगता है।

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के क्या जोखिम होते हैं ? (What are the risks of Progesterone Test in Hindi)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट एक सामान्य टेस्ट है जिसमे रक्त में प्रोजेस्टेरोन के स्तर को मापा जाता है। हालांकि इस परीक्षण में बहुत कम जोखिम होता है। जिस जगह पर जांच की गयी है , उस जगह पर हल्का दर्द या चोट लग सकती है। कुछ लक्षण शुरू होने के बाद  अपने आप चले जाते है।(और पढ़े – मासिकधर्म में होने वाली समस्याएं)

प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के क्या परिणाम आ सकते हैं ? (What do the Result of Progesterone Test mean in Hindi)

किसी भी समस्या का पता लगाने के लिए निम्न परीक्षण किये जाते है ताकि सटीक उपचार में मदद हो सके। परीक्षण के बाद परिणाम सामान्य होता है या असामान्य होता है। यदि सामान्य हो स्वास्थ्य अच्छा है और परिणाम असामान्य निकलता है तो इसका मतलब कोई जोखिम या जटिला हो सकती है। ऐसे ही प्रोजेस्टेरोन टेस्ट का परिणाम सामान्य व असामान्य हो सकता है। महिला की आयु, स्वास्थ्य इतिहास, परीक्षण के लिए उपयोग की जाने वाली विधि और अन्य चीजों के आधार पर परीक्षण के परिणाम अलग आ सकते हैं। इस परीक्षण अर्थ यह नहीं की आपको कोई समस्या है।

सामान्य परिणाम – 

  • लड़कियों के लिए 0.1 से 0.3 एनजी / एमएल
  • मासिक धर्म चक्र के कूपिक चरण में 0.1 से 0.7 एनजी / एमएल
  • मासिक धर्म चक्र के ल्यूटियल चरण में 2 से 25 एनजी / एमएल
  • गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान 10 से 44 एनजी / एमएल
  • गर्भावस्था के दूसरे तिमाही के दौरान 19.5 से 82.5 एनजी / एमएल
  • गर्भावस्था के तीसरे तिमाही के दौरान 65 से 290 एनजी / एमएल

 असामान्य परिणाम अन्य स्तिथियो के कारण प्रोजेस्टेरोन रक्त परीक्षण का परिणाम असामान्य आता है। इनमे निम्न कारक शामिल है। 

  • जैसे – गर्भावस्था के दौरान प्रोजेस्टेरोन बढ़ने लगता है और इसका यह अर्थ है की महिला को जुड़वाँ बच्चे या असामान्य प्रकार की गर्भावस्था है जिसे मोलर गर्भावस्था कहा जाता है।
  • यदि आप गर्भवती नहीं होती हैं तो प्रोजेस्टेरोन में वृद्धि का मतलब है कि आपके पास एक प्रकार का डिम्बग्रंथि ट्यूमर हो सकता है जिसे लिपिड डिम्बग्रंथि ट्यूमर कहा जाता है, या कोरियोनोपेथेलियोमा।
  • गर्भावस्था के दौरान प्रोजेस्टेरोन में कमी का मतलब यह हो सकता है कि आपको गर्भपात (सहज गर्भपात) का खतरा है।
  • जब आप गर्भवती नहीं होती हैं तो प्रोजेस्टेरोन कम होने का मतलब यह हो सकता है कि आपके पास पर्याप्त महिला हार्मोन नहीं है, जिसे हाइपोगोनैडिज़्म कहा जाता है।

हमें आशा है की आपके प्रश्न प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्या हैं ? का उत्तर इस लेख के माध्यम से दे पाएं। 

अगर आपको प्रोजेस्टेरोन टेस्ट के बारे में अधिक जानकारी के लिए (Gynecologist) से संपर्क कर सकते हैं। 

हमारा उद्देश्य केवल आपको लेख के माध्यम से जानकारी देना है। हम आपको किसी तरह दवा, उपचार की सलाह नहीं देते है। आपको अच्छी सलाह केवल एक चिकिस्तक ही दे सकता है। क्योंकि उनसे अच्छा दूसरा कोई नहीं होता है।


Best Gynecologist/Obstetrician in Delhi

Best Gynecologist/Obstetrician in Mumbai

Best Gynecologist/Obstetrician in Chennai

Best Gynecologist/Obstetrician in Bangalore